• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

भारत में पाए जाते हैं यह 5 टाइप के बंगाल टाइगर, आपने कौन सा है देखा

भारत में एक या दो नहीं, बल्कि कई तरह के बंगाल टाइगर पाए जाते हैं। जानिए इस लेख में।
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -19 Jan 2022, 12:30 ISTUpdated -19 Jan 2022, 11:45 IST
Next
Article
types of Bengal tigers

बंगाल टाइगर जिसे अक्सर रॉयल बंगाल टाइगर्स कहा जाता है, भारत का राष्ट्रीय पशु है। टाइगर्स की यह विशेष नस्ल भारत के अलावा बांग्लादेश, नेपाल और भूटान आदि में भी पाई जाती है। यह एक सख्त मांसाहारी जानव है और अवैध शिकार के कारण इसकी आबादी काफी कम हुई है। पहले इसकी स्किन के लिए इसका अवैध शिकार किया जाता था, लेकिन अब इसके शरीर के विभिन्न हिस्सों को चीनी चिकित्सा में शामिल किया जाता है। बंगाल टाइगर को आकार और वजन के हिसाब से आज जीवित सबसे बड़ी जंगली बिल्लियों में सूचीबद्ध किया गया है। 

वहीं अगर भारत में पाए जाने वाले बंगाल टाइगर की बात हो तो यहां पर पांच प्रकार के बाघा पाए जाते हैं। वे वास्तव में एक विशिष्ट प्रजाति नहीं हैं बल्कि केवल विशेषताओं और आवास द्वारा परिभाषित हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको विभिन्न तरह के बंगाल टाइगर्स के बारे में बता रहे हैं, जो भारत में पाए जाते हैं-

व्हाइट टाइगर

white tiger

सफेद बाघ बंगाल टाइगर का एक टाइप है, यह एक बेहद ही दुर्लभ व्हाइट बंगाल टाइगर है। यह समय-समय पर भारतीय राज्यों मध्य प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, ओडिशा, सुंदरबन क्षेत्र में और विशेष रूप से रीवा के पूर्व राज्य में जंगली में रिपोर्ट किया जाता है। इसमें बाघ की विशिष्ट काली धारियां होती हैं, लेकिन इसमें सफेद कोट होता है।

गोल्डन बंगाल टाइगर

गोल्डन बंगाल टाइगर एक और दुर्लभ टाइगर है, जिसमें रंग की भिन्नता पाई जाती है। टाइगर का यह रंग एक रिसेसिव जीन के कारण होता है। असम में काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान रिजर्व में बेहद ही सुंदर और दुर्लभ गोल्डन फीमेल टाइगर का घर माना जाता है। इस तरह के टाइगर में लाल और भूरे रंग की धारियां होती हैं और इसका रंग हल्का सुनहरा होता है।

ब्लैक बंगाल टाइगर

black bengal tiger

ब्लैक बंगाल टाइगर वास्तव में बंगाल टाइगर की एक विशिष्ट प्रजाति या भौगोलिक उप-प्रजाति नहीं है। बल्कि यह बंगाल टाइगर का एक दुर्लभ रंग रूप है, जो बमुश्किल देखने को मिलता है। ब्लैक बंगाल टाइगर एक दुर्लभ जीन है, जिस पर काली धारियां होती है। ब्लैक बंगाल टाइगर में से केवल कुछ ही बाघ आज बचे हैं और यह ओडिशा में मिलते हैं।

इसे भी पढ़ें: ये हैं भारत के 10 सबसे बेस्ट टाइगर रिजर्व, आप भी जानें

स्नो टाइगर

स्नो टाइगर कोई अलग तरह का बंगाल टाइगर नहीं है बल्कि यह एक ऐसा रॉयल बंगाल टाइगर है, जिसकी स्किन पर काली धारियों के साथ पीले व नारंगी रंग होता है। हालांकि, इसके निवास स्थान के कारण ही बंगाल टाइग को स्नो टाइगर कहा जाता है। भारत का पहला स्नो टाइगर अरुणाचल प्रदेश की ऊपरी दिबांग घाटी में देखा गया, जो हिमालय में पूर्वी हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियों के आसपास 3630 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

इसे भी पढ़ें: वुलेन कपड़ों पर लगे चाय से लेकर लिपस्टिक के दाग को हटाने के लिए फॉलो करें ये टिप्स

 


दलदली बाघ

tigers

भारत के बांधवगढ़ नेशनल पार्क में स्वैम्प टाइगर अर्थात् दलदली बाघ नजर आते है। बांधवगढ़ नेशनल पार्क दुनिया में बंगाल के बाघों की सबसे स्वस्थ आबादी में से एक है। इसके अलावा, पश्चिम बंगाल राज्य के सुंदरवन नेशनल पार्क में भी दलदली रॉयल बंगाल टाइगर पाए जाते हैं। यह आकार में थोड़े छोटे होते हैं और दिखने में पतले होते हैं। लेकिन सुंदरबन के मैंग्रोव पर चलने की क्षमता के साथ बेहद शक्तिशाली होते हैं। सुंदरवन लगभग 74 लुप्तप्राय बंगाल बाघों का घर है। हालांकि, विकास परियोजनाओं के कारण, अवैध शिकार और समुद्र का बढ़ता स्तर इन दलदली बाघों के लिए खतरा बन चुके हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: Freepik.com

 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।