Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    हवन और यज्ञ को एक समझने की न करें भूल, जानें गहरा अंतर

    आमतौर पर हवन और यज्ञ को एक समझा जाता है लेकिन असल में दोनों के बीच गहरा अंतर होता है। आज हम आपको इसी अंतर के बारे में बताएंगे।  
    author-profile
    • Gaveshna Sharma
    • Editorial
    Updated at - 2023-01-25,17:26 IST
    Next
    Article
    havan at home in hindi

    Havan Aur Yagya Mein Antar: हिन्दू धर्म में यज्ञ हवन का अत्यधिक महत्त्व है। त्रेता युग से ही यज्ञ हवन की परंपरा चली आ रही है। माना जाता है कि यज्ञ हवन करने से नकारात्मकता दूर होती है और सकारात्मकता का संचार होता है। 

    अमूमन तौर पर यज्ञ हवन को ही माना जाता है लेकी दोनों के बीच गहरा अंतर होता है। ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ राधाकांत वत्स द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर आज हम आपको यज्ञ और हवन के बीच का अंतर बताने जा रहे हैं। 

    क्या होता है यज्ञ? (What Is Yagna?)

    havan at home

    • यज्ञ का वर्णन वेदों में मिलता है। यज्ञ की रचना सबसे पहले ब्रह्मा जी (कैसे हुआ ब्रह्मा का जन्म) ने की थी। यज्ञ एक अनुष्ठान की भांति होता है जिसे संतों या पंडितों द्वारा किया जाता है।
    • यज्ञ करते समय गुरु मंत्रों का उच्चारण होता है। यज्ञ के लिए प्रज्वलित की जाने वाली अग्नि यज्ञाग्नि कहलाती है। यज्ञ कर्मकांड की विधि में शामिल होता है। 
    • यज्ञ मुख्य रूप से किसी बड़े और सामाजिक प्रयोजन से कराए जाते हैं जैसे कि युद्ध पर विजय प्राप्ति के लिए, अनिष्ट टालने के लिए, वर्षा आदि के लिए।
    • यज्ञ भगवान की आराधना के साथ-साथ लोक कल्याण के लिए भी किया जाता है। यज्ञ में दी जाने वाली आहुति संकल्प से जुड़ी होती है।  

    क्या होता है हवन? (What Is Havan?)

    yagna at home 

    • हवन यज्ञ का छोटा रूप कहलाता है। यानी कि घर में होने वाला यज्ञ, यज्ञ नहीं बल्कि हवन होता है। हवन को घर का कोई भी सदस्य कर सकता है। 
    • हवन के लिए संतों द्वारा होने का कोई नियम नहीं है। हिन्दू धर्म में हवन (हवन की राख के उपाय) शुद्धिकरण का एक कर्मकांड माना जाता है। हवन में भी मंत्रोच्चार होता है। 
    • हवन के मंत्र यज्ञ मंत्रों से अलग होते हैं। हवन के मंत्र बीज मंत्र न होकर सामान्य मंत्र होते हैं जो शुद्धि से गृहस्थ समस्याओं से जुड़े होते हैं। 
    • हवन से घर की नकारात्मकता दूर होती है और हवन लोक कल्याण के बजाय व्यक्तिगत समस्याओं के निवारण हेतु किया जाता है। 
    • हवन भगवान की भक्ति और घर की समृद्धि के लिए भी होता है हालांकि हवन की आहुति से संकल्प का जुड़ा होना आवश्यक नहीं है। 

    तो ये था यज्ञ और हवन के बीच का अंतर। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। आपका इस बारे में क्या ख्याल है? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

    Image Credit: Freepik, Shutterstock

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।