टोक्यो ओलिंपिक में भारतीय महिला एथलीट्स अपना शानदार परफॉर्मेंस देते नजर आ रही हैं। आज 3 अगस्त को मेरठ के बहादुरपुर गांव की एथलीट अन्नू रानी ओलंपिक क्वालीफाइंग में हिस्सा लेंगी। हालांकि, अन्नू रानी के अलावा कई महिला एथलीट्स से देश को काफी उम्मीद हैं। बता दें कि इस बार कई उभरते प्लेयर ओलंपिक में अपना प्रदर्शन करते दिखाई दे रहे हैं। 

अब तक ओलंपिक में भारतीय एथलीटों का खास प्रदर्शन नहीं रहा है, लेकिन भारत में कई ऐसे उभरते एथलीट हैं, जिनसे मेडल की उम्मीद की जा रही है। भारत की तरफ से सबसे पहले ओलंपिक का टिकट हासिल करने वाले केटी इरफान थे। वहीं भारत की महिला धावक दुती चंद अपने दूसरे ओलंपिक के लिए तैयार नजर आ रही थी, लेकिन ओलंपिक सेमीफाइनल में जगह बना पाने में नाकाम रही। भारत में महिला एथलीट्स की बात करें तो उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए लंबा सफर तय किया है।

ओलंपिक में भारतीय महिला एथलीटों का इतिहास

pt usha

महिला एथलीटों की बात की जाए तो पी टी उषा का नाम जरूर लिया जाता है। पी टी उषा साल 1984 के लॉस एंजेलिस ओलंपिक खेलों में चौथे नंबर पर आईं थीं, इसके बावजूद वह कई महिला खिलाड़ियों के लिए एक प्रेरणा हैं। आज भी जब महिला एथलीटों की बात की जाती है तो भारत की उड़नपरी पी टी उषा का नाम जरूर लिया जाता है। उनके अनुसार, जब वह साल 1980 में खेल की दुनिया में आईं थीं, तब माहौल काफी अलग था। उन्होंने सामाजिक बाधाओं को ना सिर्फ तोड़ा बल्कि खेल की दुनिया में अपनी अलग पहचान भी बनाई। आज वह कई युवा एथलीटों को संवारने का काम कर रही हैं।

इसे भी पढ़ें: Tokyo Olympic 2021: जानिए क्या कहता है महिला कुश्ती में भारत का इतिहास, इस बार जीतने की है कितनी उम्मीद

पहली भारतीय महिला एथलीट

बहुत कम लोगों को पता होगा कि नीलिमा घोष और मेरी डिसूजा ओलंपिक में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट थीं। उन्होंने साल 1952 में हेलसिंकी ओलंपिक में 100 मीटर दौड़ में हिस्सा लिया था। जबकि नीलिमा घोष ने 100 मीटर के अलावा 80 मीटर बाधा दौड़ में भी देश का प्रतिनिधित्व किया था। टोक्यो ओलंपिक में भारत के 17 एथलीटों ने व्यक्तिगत स्पर्धाओं और मिश्रित रिले टीम के लिए क्वालीफाई कर लिया है। वहीं इस बार एथलेटिक्स की स्पर्धाएं 30 जुलाई से शुरू होंगी और 8 अगस्त तक चलेंगी।

अन्नू रानी से है देश को काफी उम्मीदें

उत्तर प्रदेश के मेरठ की रहने वाली अन्नू रानी देश को काफी उम्मीदें हैं। अन्नू भाला फेंक कॉम्पिटिशन में ओलंपिक में जाने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट हैं। अन्नू अपने द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड को 7 बार ब्रेक कर चुकी हैं। इंडियन क्वीन ऑफ जैवलिन कही जाने वाली अन्नू पहली भारतीय महिला एथलीट हैं  जिन्होंने 60 मीटर दूर भाला फेंका है। बता दें कि  उन्हें टोक्यो ओलंपिक में वर्ल्ड रैंकिंग के आधार कोटा मिला है। अब देखना है कि ओलंपिक में आगे वह कैसा परफॉर्म करती हैं।

इसे भी पढ़ें: Tokyo Olympics 2021 : पहला मैच जीतकर प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंची मैरी कॉम

Recommended Video

एथलिट में महिलाओं और पुरुषों की लिस्ट

indian athletes full list

  • केटी इरफान, मेंस 20 किलो मीटर रेस वॉकिंग
  • संदीप कुमार, मेंस 20 किलो मीटर रेस वॉकिंग
  • राहुल रोहिला, मेंस 20 किलो मीटर रेस वॉकिंग
  • भावना जाट: वूमेंस 20 किमी रेस वॉकिंग
  • प्रियंका गोस्वामी, वूमेंस 20 किलो मीटर रेस वॉकिंग
  • अविनाश साबले, 3000 मीटर स्टीपलचेज
  • मुरली श्रीशंकर, मेंस लॉन्ग जंप
  • एम. पी. जबीर, मेंस 400 मीटर हर्डल्स
  • नीरज चोपड़ा: जैवलिन थ्रो
  • शिवपाल सिंह, जैवलिन थ्रो
  • अन्नू रानी, वूमेन जैवलिन थ्रो
  • तेजिंदरपाल सिंह तूर, मेंस शॉट पुट
  • दुती चंद्र, वूमेंस 100 और 200 मीटर
  • कमलप्रीत कौर, वूमेन डिस्कस थ्रो
  • सीमा पूनिया, वूमेंस डिस्कस थ्रो
  • 4x400 मिक्स्ड रिले टीम
  • मेंस 4x400 रिले टीम

टोक्यो ओलंपिक में महिला एथलीट के खेल का शेड्यूल  

  • 30 जुलाई- महिलाओं की 100 मीटर राउंड 1 हीट (दुती चंद)
  • 31 जुलाई- महिला चक्का फेंक योग्यता (सीमा पूनिया और कमलप्रीत कौर)
  • 2 अगस्त-महिलाओं की 200 मी राउंड 1 हीट (दुती चंद)
  • 2 अगस्त-महिलाओं की 200 मी सेमी-फ़ाइनल(दुती चंद - क्वालिफिकेशन इवेंट में)
  • 2 अगस्त-महिला डिस्कस थ्रो फाइनल(सीमा पूनिया और कमलप्रीत कौर-क्वालिफिकेशन इवेंट में)
  • 3 अगस्त-महिला भाला फेंक योग्यता (अन्नू रानी)
  • 6 अगस्त-महिलाओं की 20 किमी रेस वॉक फ़ाइनल (भावना जाट और प्रियंका गोस्वामी)
  • 6 अगस्त- महिला भाला फेंक फ़ाइनल(क्वालिफिकेशन इवेंट में-अन्नू रानी)

उम्मीद है महिला एथलीटों से जुड़ी यह जानकारी आपको रोचक लगी होगी। इसी तरह टोक्यो ओलंपिक से जुड़ी और भी बातें जानने के लिए पढ़ती रहें हरजिंदगी।