• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

IAS गोविंद जायसवाल के पिता चलाते थे रिक्शा फिर भी बने इतने बड़े अधिकारी

गोविंद जायसवाल की आईएएस बनने की कहानी जानकर आप भी उनसे इंस्पिरेशन ले सकते हैं। 
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial
Published -12 Jul 2022, 13:52 ISTUpdated -12 Jul 2022, 14:33 IST
Next
Article
know all about ias govind jaiswal

किसी ने बिल्कुल सही कहा है कि पंखों से नहीं हौसलों से उड़ान होती है। आईएएस गोविंद जायसवाल (IAS Govind Jaiswal)की इंस्पायरिंग कहानी सुनकर आपको भी यह पंक्तियां सच लगेगी। उनके पिता रिक्शा चालक थे इसके बावजूद भी उन्होंने पहले अटेम्ट में 2006 में यूपीएससी का एग्जाम क्लियर किया था। 22 साल की उम्र में अपना और अपने पिता का नाम करने वाले आईएएस गोविंद जायसवाल का जीवन किसी मोटिवेशनल स्टोरी से कम नहीं है। आप भी जानिए आखिर कम संसाधन मौजूद होने पर भी अपनी मेहनत से कैसे किस्मत को बदला जा सकता है। 

48 रैंक की थी शामिल

यूपीएससी भारत में होने वाली सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। यही कारण है लोग इस पेपर को क्लियर करने के लिए अपने जीवन के कुछ साल लगा देते हैं। लेकिन आईएएस गोविंद जायसवाल की बात कुछ अलग है। उन्होंने 22 साल की उम्र में पेपर क्लियर करा था। उनकी मेहनत के साथ-साथ उनके पिता का परिश्रम भी देखने लायक है। दरअसल गोविंद वाराणसी से हैं। उनके पिता के पास एक समय पर 30 से ज्यादा रिक्शे हुआ करते थे लेकिन मां की तबीयत खराब होने पर रिक्शे बेचने पड़े। एक तरफ गोविंद का परिवार बहुत कठिन परिस्थितियों का सामना कर रहा था, वहीं दूसरी तरफ उन्होंने अपनी और अपने परिवार की किस्मत बदलने की ठान ली थी। (आईएएस टीना डाबी)

इसे भी पढ़ेंः क्या आपने देखा देसी गाने पर विदेशी लड़कों का धमाकेदार डांस? वीडियो मचा रही है धूम

पढ़ाई के लिए पिता ने दिया था त्याग

आईएएस गोविंद जायसवाल की मेहनत के साथ-साथ उनके पिता का कदम भी काबिले तारीफ है। दरअसल गोविंद को पढ़ाई के लिए दिल्ली आना था लेकिन परिवार के पास पर्याप्त पैसे नहीं थे। ऐसे में गोविंद के पिता ने उनके लिए अपने सारे रिक्शे बेचकर पढ़ाई का खर्च उठाया और खुद एक रिक्शा चलाने लग गए। बदले में गोविंद जायसवाल ने भी अपने पिता के फैसले को सही साबित करते हुए 2006 में पहले अटेम्प्ट में यूपीएससी क्लियर कर लिया था। 

इसे भी पढ़ेंः Oldest Tiger राजा की हुई मौत, देखिए अंतिम विदाई की फोटोज

हर साल लाखों बच्चे आईएएस बनने के सपने के साथ यूपीएससी की तैयारी शुरू करते हैं लेकिन उनमें से कुछ ही बच्चे आईएएस बनते हैं। आईएएस गोविंद जायसवाल आज जिस मुकाम पर हैं उसका सारा श्रेय उन्हें और उनके पिता को जाता है। आपको आईएएस गोविंद जायसवाल की इंस्पायरिंग स्टोरी के बारे में जानकर कैसा लगा? यह हमें फेसबुक के कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा। 

Recommended Video

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Picture Credit: Akram Shah (Hindustani)/Twitter

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।