मजबूत आर्थिक स्तिथि हमारी मानसिक और पारिवारिक स्थिरता को दर्शाती है। एक अव्यवस्तिथ आर्थिक परिस्तिथि न केवल हमारे लिए अनेक समस्याओं का कारण बनती है। बल्कि हमारे परिवार की खुशियों को भी ग्रहण लगा सकती है। जैसे कि आजकल के हालात है, Covid -19 ने लोगों को शारारिक और मानसिक स्तर पर ही कमजोर नहीं किया। बल्कि यह लोगों के जीवन में आर्थिक समस्याओं का कारण बन चुका है। बाजार के छोटे दुकानदार हों या ऑटो रिक्शा वाले, सभी आर्थिक समस्याओं से जूंझ रहे हैं। हालांकि कुछ बड़ी कम्पनियां अपने कर्मचारियों का हर प्रकार से साथ देने का दावा कर रही हैं।

लेकिन, परिणाम क्या होंगे ये भविष्य में ही तय हो पाएगा। इसलिए जरूरी है कि हम लोग आने वाले सभी परिस्तिथियों के लिए अभी से मानसिक रूप से तैयार हो जाएं। भविष्य में पैदा होने वाले हालतों के लिए अभी से आर्थिक निति बना लें। जिसके लिए शायद हमारे ये तरीके आपके कुछ काम आ सकते हैं।  

इसे भी पढ़ें: नहीं करतीं ज्यादा वॉक तो पैर हो सकते हैं कमजोर, ये 5 एक्सरसाइज करेंगी आपकी मदद

जमा पूंजी को बुद्धिमानी के साथ खर्च करें

manage the situation of recession inside

कोरोना वायरस भयंकर रूप से सम्पूर्ण आर्थिक ढांचे को हिला चुका है। हो सकता है आने वाले समय में आपको भी कुछ आर्थिक परेशानी उठानी पड़े। इसलिए जरूरी है कि आप अभी से अपनी जमा पूंजी को बुद्धिमानी के साथ खर्च करें। इस समय आप अपने इमरजेंसी फंड को इस हिसाब से खर्च करें कि आप अगले 6 महीने तक अपने घर का खर्च चला सकें। अगर आपको अभी भी हर महीने सैलरी मिल रही है तो इसका कुछ हिस्सा अपने इमरजेंसी फंड के रूप में बचाकर रखें।   

Recommended Video

बजट बनाकर प्लानिंग करें 

manage the situation of recession inside

अकेले बैठकर या अपने पार्टनर के साथ मिलकर जरूरी ख़र्चों को कैलकुलेट करें। क्या जरूरी है और हमको क्या चाहिए इसकी बीच अंतर को समझें। बजट बनाते हुए अपनी लग्ज़री आइटम्स को कुछ समय तक लिस्ट के बाहर रखें। हो सकता है कि आपको आने वाले समय में कुछ अलग तरह की चीजों या कामों के लिए पैसे की जरूरत पड़ सकती है।  

इसे भी पढ़ें: लॉक डाउन के समय इन स्टेप्स की मदद से करें स्ट्रेस को दूर

मेडिकल पॉलिसी से जुड़े फैक्ट्स क्लियर करें 

manage the situation of recession inside

Covid -19 महामारी ने पूरी दुनियां को हिला कर रख दिया है। हालांकि सभी हालातों को दरकिनार करते समय अभी तो सिर्फ हमारा स्वस्थ्य रहना ही प्रमुख मुद्दा है। इस बात को ध्यान में रखते हुए हमको अपनी हेल्थ पॉलिसी को समय-समय पर रिव्यू करते रहना चाहिए। अपने इंश्योरेंस एजेंट से इसके बारे में जानकारी लेते रहें। अगर पॉलिसी ओवर होने वाली है तो उसको तुरंत आगे एक्सटेंड करा लें। इस पॉलिसी से जुड़े सभी पॉइंट्स अच्छे से क्लियर करें।

हम जानते हैं कि यह पूरी दुनियां के लिए परेशानी का दौर है। इस समय में आप अपने हौसले को कमजोर न पड़ने दें। समझदारी और संयम के साथ आप सभी हालतों से जीत सकते हैं।

Image Credit:(@maxloans)