22 जुलाई 2019 को सावन का पहला सोमवार है। सावन के पवित्र महिने में सोमवार का विशेष महत्व होता है। इस दिन भगवान शिव के भक्त ‘हर हर महादेव’ का नारा लगा कर भगवान शिव की भक्ति में लीन हो जाते हैं। आपको बता दें कि भगवान शंकर को सावन का महीना अति प्रिय है। इस महीने में सोमवार के दिन यदि महादेव जी की पूजा की जाए तो इसे श्रेष्ठ माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार सावन के पूरे महीने ही शंकर जी की पूजा करनी चाहिए मगर, वक्त की कमी के चलते अगर आप पूरे सावन भर भगवान शिव की पूजा नहीं कर पा रही हैं तो आपको उन्हें प्रसन्न करने के लिए सावन के सोमवार को उनकी पूजा जरूर करनी चाहिए। इतना ही नहीं आपको सावन के सोमवार के दिन भगवान शिव का व्रत भी रखना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:Sawan 2019: क्या है शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाने का महत्व और लाभ

इतना ही नहीं यदि आप श्रावण सोमवार व्रत में श्रावण महात्मय एवं शिवमहापुराण की कथा करती हैं तो आपको मनोवांछित फल मिलता है। मगर, इस बात का ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि जब आप भगवान शिव की पूजा कर रही हैं तो यह जान लें कि आपकी राशि में किस तरह भगवान शिव की पूजा करने से आपको लाभ मिलेगा। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पंडिट मनीष शर्मा बता रहे हैं कि राशि के अनुसार कैसे भगवान शिव जी की पूजा करनी चाहिए। यदि आप ऐसा करती हैं तो आपको भगवान शंकर की अत्यधिक कृपा प्राप्त होगी। तो चलिए जानते हैं कि राशि के अनुसार किस को कैसे महादेव जी की पूजा करनी चाहिए। 

lord shiva puja according to zodiac sign

मेष

मेष राशि वालों को भगवान शिव की पूजा दही और लाल गुलाल से करनी चाहिए। ऐसा करने उन्हें मनोवांछित फल मिलेगा। मेष राशि वालों का स्वामि मंगल होता है यह लिंग के रुप में अपने उत्पत्ति स्थान उज्जैन के महाकालेश्वंर में स्थित होता है। (मेष राशि वालों के लिए कैसा रहेगा यह वर्ष)

वृषभ

इस राशि का स्वामि शुक्र है। इस राशि के लोगों को कच्चे दुध से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए और फिर जल से स्नान कराना चाहिए। इसके साथ ही शिव के वाहन नंदी को चारा एवं रोटी का भोग लगाने से भी लाभ होगा।

मिथुन 

यह लोग बुध राशि के स्वामित्व वाले होते हैं। इन्हें सावन के सोमवार के दिन शिव-पार्वती को लाल कनेर के पुष्प, शहद एवं पिस्ता का भोग लगाना चाहिए। इसके साथ ही बिल्व पत्र के छ: पत्ते चढाने से भी उन्हें लाभ होगा।

इसे जरूर पढ़ें:क्या है ॐ के उच्चारण का सही तरीका और समय

कर्क 

कर्क राशि के लोगों का स्वामि चंद्रमा होता है। भगवान महादेव चंद्रमा को अपने मस्तक पर रखते हैं। इस राशि के लोगों को कच्चे दुध, सफेद आंकडे एवं दही से शिव जी का पूजन करना चाहिए। अगर आप मावे से बना कोई मिष्ठान से भगवान शिव को भोग लगाते हैं तो वह प्रसन्न हो जाएंगे ।

सिंह 

इस राशि के लोगों का स्वामी सूर्य होता है। इस राशि के लोगों को शीतल जल से शिवलिंग अभिषेक करना चाहिए। इसके साथ ही इन जातकों को मानस पूजा का पाठ पूरे सावन भर करना चाहिए। ऐसा करने से आपकी विशेष मनोकामना पूरी होती है। 

कन्या 

यह राशि बुध के स्वामित्व वाली राशि होती है। इन्हें भगवान शिव को मूंग की दाल से बनी मिठाई का प्रसाद लगाना चाहिए। इसके साथ ही बेलपत्र, भगवान शिव का प्रिय फल चढ़ाना चाहिए। इसके साथ ही शिव चालीसा का पाठ करना चाहिए। 

shiva puja according to zodiac sign expert tips sawan

तुला 

इस राशि के लोगों को अष्टमी या एकादशी के दिन भगवान शिव को सफेद वस्त्र चढ़ाने चाहिए। इसके साथ ही देवी पार्वति का श्रंगार करना चाहिए। यदि आपकी कोई विशेष मनोकामना है तो ऐसा करने से वह पूरी हो जाएगी और इससे आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य भी अच्छा बना रहेगा। 

वृश्चिक

इस राशि के लोगों के उपर साढ़ेसाती का अंतिम ढै़य्या, चल रहा है। यदि पूरे माह आप गरीबों की सेवा करते हैं, तो भगवान शिव साढ़ेसाती के प्रभाव को खत्म कर देगें।

धनु

गुरु के स्वामित्व वाली इस राशि के लोगों को सावन के महीने के प्रत्येक गुरुवार को बेसन के लड्डू या बर्फी का भोग भगवान शिव को चढ़ाना चाहिए। इसके साथ ही आपको एक पीला वस्त्र अपनी मां को अर्पण करना चाहिए। इससे आपको अत्यधिक लाभ होगा

मकर

यह राशि शनि के स्वामित्व वाली होती है। इन्हें भगवान शिव को नीले पुष्प चढ़ाने चाहिए। इसके साथ ही आपको धतुरे और उसके पुष्प भी भगवान शिव को चढ़ाने चाहिए। इससे आपकी कामना पूर्ण होगी।  

कुंभ

यह राशि भी शनि के स्वामित्व वाली राशि है। इस राशि के जातकों को भगवान शंकर को खुश करने के लिए किसी जरुरतमंद विद्यार्थी की मदद करनी चाहिए। इससे उन्हेंविशेष लाभ होगा। इससे शिव प्रसन्न होकर दीर्ध संपत्ति प्राप्त होने का आर्शीवाद देते हैं।

मीन

यह राशि गुरु के स्वामित्व वाली राशि है। इस राशि के जातको को शिव शंभू प्रसन्न करने के लिए सावन के पूरे माह में किसी भी दिन किसी भी एक ज्योर्तिलिंग का दर्शन करना चाहिए। यह संभव न हो तो मन में कल्पना करके आप रोज शिव चालीसा पढ़ सकती हैं।