Covid-19 ने पूरी दुनियां के साथ-साथ भारत को भी अपने चपेट में ले लिया है। जिसकी वजह से पैदा हुए गंभीर हालतों को देखते हुए लॉक डाउन को और अगले 19 दिन तक बढ़ा दिया गया। देश भर के कॉलेज, स्कूल और इंस्टिट्यूट इन हालतों को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन क्लास स्टार्ट कर चुके हैं। ताकि बच्चों की स्टडी को मैनेज किया जा सके और बच्चों को इससे स्टडी के टच में रहें। स्कूल की ऑनलाइन क्लास लेने के बाद भी बच्चों के पास काफी समय बचता है। जिसको ज्यादातर बच्चे टीवी देखने और मोबाइल चलाने में ही खर्च कर देते हैं। जबकि लॉक डाउन के दौरान उनके पास अपनी स्किल को इम्प्रूव करने का काफी समय है। अगर बच्चे चाहें तो थोड़ी सी प्लानिंग के साथ वो ऑनलाइन रिसोर्स का बेहतर यूज कर सकते हैं। बच्चे को इस टाइम को प्रोडक्टिव बनाने के लिए हमारे इन टिप्स से आईडिया ले सकते हैं।

ऑनलाइन कोर्स 

nside

अब बच्चे ऑनलइन रिसोर्स का यूज कर अपनी स्टडी से कनेक्टिड रहने के लिए कर सकते हैं। लॉक डाउन के समय वो किसी ऑनलाइन कोर्स को जॉइन करके अपने इस समय का सही यूज कर सकते हैं। यह कोर्स उनकी स्कूल की पढ़ाई से रिलेटिड भी हो सकते हैं। आजकल तो हर तरह के ऑनलाइन कोर्स इंटरनेट पर मौजूद है। अगर बच्चे को कोडिंग करना पसंद है तो वह किसी कोडिंग कोर्स को भी जॉइन कर सकता है। 

इसे भी पढ़ें: बच्चे के लिए स्कूल चुनने में नहीं होगी कोई गलती, बस इन छोटी बातों का रखें ध्यान

Recommended Video


एडवांस स्टडी 

Online resources during Lockdown inside

वो बच्चे जो इस साल बोर्ड एग्जाम के देने वाले हैं। उनके लिए लॉक डाउन अपनी स्टडी को स्टार्ट करने का अच्छा समय है। हो सकता है कि स्कूल न जाने के कारण आपका रूटीन सेट न हो पा रहा हो। लेकिन कोई ऑनलाइन क्लास जॉइन करके आप अपने टॉपिक पहले से ही क्लियर कर सकते हैं। या फिर जो बच्चे इस बार कुछ Competitive Exams देने जा रहे हैं। वो एडवांस में स्टडी स्टार्ट करके खुद को वैसे ही तैयार कर सकते हैं जैसे खिलाड़ी टूर्नामेंट खलेने के पहले खुद को वॉर्मअप करते हैं।

इसे भी पढ़ें: अगर स्कूल जाने के लिए बहाने बनाता है बच्चा, तो करें यह उपाय


लिमिटलेस रीडिंग 

Online resources during Lockdown inside

खुद को satisfy करने का सबसे अच्छा ऑप्शन है रीडिंग। जरूरी नहीं कि बच्चे हर समय केवल स्टडी बुक्स ही पढ़ें। वो अपने इंट्रेस्ट के अनुसार कोई भी बुक चुन सकते हैं। अब जबकि बच्चों पास समय की कोई कमी नहीं है तो वह पूरे दिन में कोई एक टाइम रीडिंग के लिए फिक्स कर लें। रोजाना रीडिंग करने से Speaking Fluency भी इम्प्रूव हो जाती है। साथ ही बुक्स स्ट्रेस रिलीवर का काम भी करती हैं। 

इस तरह बच्चे ऑनलाइन रिसोर्स का यूज अपनी किसी भी स्किल के परफ़ेक्शन के लिए, किसी हॉबी को पूरा करने के लिए करने के सकते हैं। किस्मत से आपको ऐसा समय मिला है जिसमें आप अपना सारा दिन खुद के हिसाब से प्लान कर सकते हैं। तो क्यों न कुछ अच्छा कर हम दूसरों के लिए उदाहरण बन जाएं।  

Image Credit:(@i1.wp.com)