• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

क्या महिलाओं से सेक्सिस्ट मज़ाक किए बिना पुरुषों के परफ्यूम नहीं बेचे जा सकते?

आखिर क्यों पुरुषों के डिओड्रेंट और परफ्यूम महिलाओं को ऑब्जेक्टिफाई और सेक्सिस्ट कमेंट किए बिना नहीं बन सकते?
author-profile
Published -05 Jun 2022, 19:45 ISTUpdated -05 Jun 2022, 20:00 IST
Next
Article
layer shot perfume ad slammed

अपने प्रोडक्ट को बेचने के लिए विज्ञापन कंपनियां और ब्रैंड्स इतना नीचे गिर जाते हैं कि महिलाओं के ऑब्जेक्टिफाई करने में भी उन्हें शर्म नहीं आती! आपने भी ऐसे ऐड्स देखे होंगे जहां एक परफ्यूम का ढक्कन खुलते ही महिलाओं को पुरुषों की ओर दौड़ते दिखाया जाता है। तो अब सवाल है कि क्या इन सब हथकड़ों के बगैर पुरुषों के परफ्यूम नहीं बिकते? क्या बिना सेक्सिट मजाक के उन्हें कोई नहीं खरीदेगा? और यह आपकी परफ्यूम की खुशबू पर लड़कियों का आपके पीछे दौड़ने का मतलब और मकसद आखिर क्या है? 

मैं उस हर व्यक्ति से सवाल करना चाहती हूं जो महिलाओं को ऑब्जेक्टिफाई करने से पीछे नहीं हटता, मैं पूछना चाहती हैं कि क्या आप इस तरह से अपने परिवार की महिलाओं को देखते हैं? या क्या उनके लिए इस तरह के सेक्सिस्ट जोक कहना आपके लिए भी नॉर्मल है?

अब हाल ही में पुरुषों के परफ्यूम वाले एक विज्ञापन ने फिर एक बार हदें पार कर दी। जिस एक डर के साथ हम महिलाएं जी रही हैं, जो एक शब्द सुनकर किसी भी महिला की रूह कांप जाए उसका मजाक बनाना या उस पर कैजुअल जोक कह देना आपकी संवेदनशीलता और संवेदना के अभाव को ही दर्शाता है।

कोई भी विज्ञापन कंपनी या कहें कोई भी व्यक्ति'रेप'से इतने संवेदनशील मुद्दे पर कैसे मजाक बना सकता है। लेयर शॉट द्वारा गया यह आपत्तिजनक विज्ञापन न सिर्फ ऑफेंसिव है, बल्कि महिलाओं के प्रति असंवेदनशील और अपमानजनक भी है। रेप कल्चर को बढ़ावा देने वाले शॉट के इन दोनों विज्ञापनों की निंदा बॉलीवुड सेलिब्रिटीज सहित कई नामी-गिरामी सोशल एक्टिविस्ट ने भी की। यहां तक सरकार ने इस भद्दे विज्ञापन को तुरंत हटाने के निर्देश भी दिए।

इसे भी पढ़ें : हमें जवाब चाहिए MLA महोदय: ‘रेप’ पर कब तक करते रहेंगे 'Joke'?

controversial perfume ad slammed by netizens

विज्ञापन में क्या दिखाया गया था?

इस प्रोडक्ट ने दो विज्ञापन बनाएं और दोनों ही विज्ञापन इंग्लैंड vs न्यू जीलैंड क्रिकेट मैच के दौरान दिखाए गए। विज्ञापन में महिला को डरी और परेशान दिखाया जाता है, जब उसे लगता है कि 3-4 लड़के उसका शोषण करेंगे।

पहले विज्ञापन में एक कपल बेडरूम में बैठा दिखाया है और लड़के के दोस्त अंदर आकर पूछ रहे हैं कि क्या उसने शॉट लिया? लड़का हां कहता है और फिर उसका एक दोस्त कहता है कि अब शॉट लेने की उनकी बारी है। लड़की एकदम घबरा जाती है, लेकिन वे  लड़के आगे बढ़कर पास में रखी डिओड्रेंट की बॉटल उठाते हैं।

दूसरे ऐड में सुपर मार्केट का एक सीन दिखाया गया है। एक महिला सुपर मार्केट के शेल्व में कुछ ढूंढ रही होती है। लड़कों का एक ग्रुप उसके पीछे खड़े होकर बातें कर रहा होता है। उनमें से एक बोलता है,  'हम चार हैं और यह एक', तभी दूसरा बोलता है, 'कौन शॉट लेगा?' महिला उन्हें सुनती है और डर से पीछे मुड़ती है। उसके बाद विज्ञापन में दिखाया गया है कि वे लोग शेल्फ में रखी एक ही बॉटल की बात कर रहे हैं।

दिल्ली महिला आयोग ने ट्वीट कर जताया रोष

दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, '(लेयर'र शॉट) डिओडोरेंट विज्ञापन देश में बलात्कार की मानसिकता को स्पष्ट रूप से बढ़ावा देता है।' उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस को एक नोटिस जारी किया गया है और सभी प्लेटफार्मों से विज्ञापन को हटाने के लिए एक प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। इस बारे में उन्होंने ट्वीट भी किया।

प्रियंका चोपड़ा जोनस ने जाहिर की नाराजगी

ग्लोबल स्टार प्रियंका चोपड़ा जोनस ने इस सेक्सिस्ट विज्ञापन के संबंध में अपनी नाराजगी और गुस्सा व्यक्त किया और सोशल मीडिया हैंडल ट्विटर पर इसे 'शेमफुल और डिसगस्टिंग' बताया। इस संबंध में उन्होंने सवाल किया कि आखिर कितने हरी बत्ती पाने के लिए विज्ञापन को कितने स्तरों की मंजूरी की आवश्यकता थी। उन्होंने आगे कहा कि हालांकि उन्हें खुशी है कि इस विज्ञापन को तुरंत संज्ञान में लेकर हटा दिया गया और इसके निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की गई, लेकिन कितने लोगों ने उस वक्त यह सोचा कि यह विज्ञापन ठीक था।

इसे भी पढ़ें : स्पेन में लिंगभेद खत्म करने के लिए अनूठी पहल, लड़कों को सिखाया जाता है घर का काम

ऋचा चड्ढा और स्वरा भास्कर ने भी विज्ञापन बनाने वालों की लगाई क्लास

ऋचा चड्ढा और स्वरा भास्कर ऐसे मुद्दों पर हमेशा अपनी आवाज बुलंद करते दिखाई देते हैं। एक बार फिर उन्होंने इस आपत्तिजनक विज्ञापन के प्रति अपना गुस्सा जाहिर किया। ऋचा ने ट्वीट कर कहा कि यह विज्ञापन किसी तरह का एक्सिडेंट नहीं है, क्योंकि वह स्क्रिप्ट, क्रिएटिव्स, कास्टिंग, क्लाइंट्स, और भी कई लेयर्स से गुजरते हुए यहां तक पहुंचा है। उन्होंने आगे सवाल किया कि क्या ये लोग रेप को एक मजाक समझते हैं। उन्होंने यह भी सलाह दी कि विज्ञापन बनाने वाली एजेंसी पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

वहीं स्वरा भास्कर ने ट्वीट कर कहा- 'एक टीनएज लड़की का हैदराबाद में रेप हुआ और ऐसी घटनाएं देश में होती ही रहती हैं। इस तरह की कंपनियां ऐसे विज्ञापन रेप और गैंगरेप को बढ़ावा देने के लिए बन रहे हैं। यह घृणित से परे है!बिल्कुल शर्मनाक! इसे किस एजेंसी ने बनाया है?'

फरहान अख्तर और सोना महापात्रा ने जताया रोष

अभिनेता और फिल्म निर्माता फरहान अख्तर ने विज्ञापन के निर्माताओं पर पलटवार किया। सोना महापात्रा ने भी घृणित विज्ञापन के बारे में ट्वीट किया।

क्या रहा सरकार का कदम?

केंद्र ने सोशल मीडिया पर नाराजगी और दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अपील के बाद विवादास्पद परफ्यूम के विज्ञापनों को निलंबित करने का आदेश दिया है। केंद्र ने ट्विटर और यूट्यूब से अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से विवादास्पद विज्ञापनों को हटाने को भी कहा। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने यूट्यूब और ट्विटर को लिखे एक पत्र में कहा कि विज्ञापन शिष्टता और नैतिकता के हित में महिलाओं के चित्रण के लिए हानिकारक और सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यस्थ दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) का उल्लंघन है।

DCW के अनुसार, 'यह विज्ञापन साफ तौर से महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ यौन हिंसा को बढ़ावा दे रहा है और पुरुषों में एक बलात्कारी मानसिकता को प्रोत्साहित कर रहा है। DCW ने लिखा, 'विज्ञापन घिनौना है और इसे मास मीडिया पर चलाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।'

ऐडवर्टीजमेंट सेक्टर रेगुलेटर ASCI जिसने बॉडी स्प्रे ब्रांड के विवादास्पद विज्ञापनों को निलंबित कर दिया, ने भी कहा कि विज्ञापन ने गंभीर उल्लंघन किया है।

ASCI ने जारी किए गए एक स्टेटमेंट में कहा- 'उक्त विज्ञापन एएससीआई के अध्याय II के संभावित उल्लंघन में है, जिसमें कहा गया है कि विज्ञापनों में कुछ भी अशोभनीय, अश्लील नहीं होना चाहिए, विशेष रूप से महिलाओं के चित्रण में या कुछ भी प्रतिकूल नहीं होना चाहिए। विज्ञापनों में ऐसा कुछ न हो जो डिसेंसी के मानकों को तोड़कर गंभीर और व्यापक अपराध का कारण बनता है।'

अब आप ही बताएं ऐसे मुद्दों पर मजाक करने वालों को क्या कहा जाए? महिलाओं को सेक्सुअलाइज करना और ऑब्जेक्टिफाई करना आपकी संकुचित मानसिकता को दर्शाता है। और हम ऐसे विज्ञापन बनाने वाले लोगों, ऐसी सोच रखने वालों से एक ही चीज कहेंगे कि हम इससे सहमत नहीं हैं और रेप जैसे संवेदनशील मुद्दे का मजाक बनाना बिल्कुल भी सही नहीं है।

आपकी इस पर क्या राय है हमें जरूर बताएं। अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें और ऐसे ही मुद्दों के बारे में पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

Image Credit : Google Searches

 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।