• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

महाभारत के इतिहास में हिडिम्बा और भीम की है अजब प्रेम कहानी, जानें दुनिया क्यों है इससे अंजान

आइए जानें महाभारत की एक अनसुनी प्रेम कहानी भीम और हिडिम्बा के बारे में जिसके चर्चे आज भी हमारे बीच में हैं।
author-profile
Published -14 Aug 2022, 13:00 ISTUpdated -12 Aug 2022, 19:02 IST
Next
Article
bheem and hidimba love in mahabharat story

महाभारत के इतिहास से जुड़ी न जानें कितनी ऐसी कथाएं हैं जिनका जिक्र शायद ही आपने कभी सुना होगा। कुछ ऐसी प्रेम कहानियां जो आज भी दुनिया में प्रचलित हैं और उनका उदाहरण आज भी प्रेम के सन्दर्भ में दिया जाता है।

चाहे द्रौपदी और अर्जुन की प्रेम कहानी का जिक्र हो या फिर दुर्योधन के प्रेम में गांधारी का आंखों में पट्टी बांधना हो, चाहे श्री कृष्ण का रानी रुकमणी को भगाकर विवाह करना हो। ऐसी न जाने कितनी प्रेम कहानियां हैं जो महाभारत काल से प्रचलित हैं।

ऐसी ही एक प्रेम कहानी है पांडवों में से सबसे शक्तिशाली भीम और राक्षसी हिडिम्बा की। वास्तव में आपमें से न जानें कितने ही इस बात से अंजान होंगे कि आखिर इस प्रेम कहानी की शुरुआत कहां से हुई और भीम जैसे शक्तशाली राजकुमार ने एक राक्षसी को अपनी रानी कैसे बनाया। आइए जानें महाभारत काल से जुड़ी इस अजब प्रेम कहानी के बारे में।

कहां से शुरू हुई भीम और हिडिंबा की प्रेम कहानी

hidimba and bheem story

भीम के साथ हिडिम्बा की प्रेम कहानी की शुरुआत एक पौराणिक कथा से शुरू होती है। एक बार जब लाक्षागृह के जलने के बाद पांडव जंगलों में छिपकर रहने लगे थे। उस समय एक रात सभी पांडव भाई और कुंती एक वृक्ष के नीचे विश्राम कर रहे थे और भीम हमेशा की तरह सबकी रखवाली कर रहे थे। दरअसल उस समय उनके लिए सबसे बढ़ा खतरा राक्षस हिडिम्ब का था जो पांडवों पर हमला करने के लिए एक वृक्ष में छिपकर बैठा था।

हिडिम्ब मानव रक्त पीने का इच्छुक था और उसकी बहन जिसका नाम हिडिम्बा था उनको हिडिम्ब से आदेश मिला कि वो मानव रक्त का प्यासा है इसलिए उसके लिए मानव रक्त ले आए। अपने भाई हिडिम्ब की बात सुनकर राक्षसी हिडिम्बा पांडवों को मारकर उनका रक्त लेने गई। लेकिन वहां पहुंचने के बाद भीम को जगा हुआ देखकर हिडिम्बा उनके रूप पर मोहित हो गई और उन्हें भीम से प्रेम हो गया।

इसे जरूर पढ़ें: आखिर कौन थीं महाभारत काल की 5 सबसे खूबसूरत स्त्रियां, जिनकी एक झलक के लिए भी तरसते थे लोग

हिडिम्बा ने किया अपने ही भाई का विरोध

hidimba and bheem story in mahabharat

हिडिम्बा जब भीम पर मोहित हो गयी तब उसने भीम के सामने शादी का प्रस्ताव रखते हुए उन्हें बताया कि यह पूरा क्षेत्र उनके भाई हिडिम्ब का है जो एक खतरनाक राक्षस है। हिडिम्बा ने भीम से उस जगह को छोड़कर दूर बसने की बात कही। लेकिन भीम ने अपने भाइयों और माता कुंती से दूर जाने से मना कर दिया। उस समय हिडिम्ब वहां आ गया और भीम ने युद्ध में उसे परास्त कर दिया। यही नहीं भीम ने राक्षस का वध कर दिया और हिडिम्बा से भी यह कहा कि वह एक राक्षसी है और उसका विश्वास करना असंभव हो और उसे भी मौत देनी चाहिए। लेकिन युधिष्ठिर और माता कुंती ने भीम को समझाया कि स्त्री किसी भी रूप में क्यों न हो उसका अपमान नहीं करना चाहिए। इसके बाद हिडिम्बा ने कुंती से प्रार्थना करते हुए कहा कि वो भीम को पति बनाना चाहती हैं। भीम ने इस बात की स्वीकृति दी लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि वह दोनों तब तक ही साथ हैं जब तक उन्हें एक पुत्र न हो जाए।

इसे जरूर पढ़ें: ट्रैजिडी क्‍वीन द्रौपदी के थे 8 नाम

हिडिम्बा और भीम का हुआ एक पुत्र

hidimba and bheem son

हिडिम्बा भीम को उड़ाकर दूर पहाड़ियों में ले गयी जहां दोनों साथ में रखने लगे। हिडिम्बा और भीम को एक पुत्र की प्राप्ति हुई जिसका नाम घटोत्कच पड़ा। उसके ऐसा नाम पड़ने का कारण था कि वह जन्म से ही केश हीन था। इस वीर ने महाभारत के चौदवें दिन ही संग्राम मचा दिया और कौरव सेना डरकर भागने लगी। उस समय कारण ने इंद्र से मिली शक्ति का प्रयोग करके भीम के पुत्र घटोत्कच का वध कर दिया।

वास्तव में भले ही भीम और हिडिम्बा का विवाह वैदिक मन्त्रों के साथ नहीं हुआ हो लेकिन उनकी प्रेम कहानी आज भी प्रचलित है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:  freepik, hotstar

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।