कहते हैं एक महिला के लिए मां बनना एक अलग ही अनुभव होता है। दुनिया की सारी खुशियां एक तरफ लेकिन मां बनने की खुशी एक तरफ होती है। यह एक ऐसी भावना है, जिसे शब्दों में बयां कर पाना मुश्किल है। मगर कई महिलाओं को इस खुशी से अछूता रहना पड़ता है। इसकी वजह कई सारी हो सकती हैं। कई सारी मेडिकेशन के बाद भी कभी-कभी मां बन पाना हर महिला के लिए संभव नहीं हो पाता है।

मगर वो कहते हैं न कि ऊपर वाले के घर देर है, अंधेर नहीं। बस ऐसा ही कुछ गुजरात में देखने को मिला। गुजरात के कच्छ से एक खास खबर ने सबको हैरान कर दिया है। लोग इस खबर को सुनने के बाद, इसे चमत्कार का नाम दे रहे हैं। आप भी खबर सुनेंगे तो शायद यही कहेंगे।

दरअसल, गुजरात के कच्छ में एक महिला ने 70 साल की उम्र में एक बच्चे को जन्म दिया है। जी हां, यह बात सौ आने सच है कि 70 वर्षीया महिला की शादी के 45 साल बाद सूनी गोद भर पाई है। क्या है यह पूरी खबर आइए विस्तार से जानें।

70 वर्षीया जीवूबेन राबरी बनी बेटे की मां

 year old woman gives birth through ivf

70 साल की उम्र में बच्चे के जन्म के बाद से जीवूबेन और उनके पति मालधारी चर्चा का विषय बने हुए हैं। दोनों ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़े गर्व से अपना बेटा पत्रकारों को दिखाया था। जीवूबेन ने यह दावा भी किया है कि वह इस उम्र में मां बनने वाली पहली मां हैं। महिला ने महीना भर पहले स्वस्थ बच्चे को आईवीएफ के द्वारा जन्म दिया है। यह प्रक्रिया डॉक्टर्स के लिए काफी चुनौतीपूर्ण थी। रापुर तालुका के मोरा गांव में रहने वाली जीवूबेन के पास अपनी उम्र को साबित करने के कोई डॉक्यूमेंट्स नहीं थे, लेकिन उन्होंने डॉक्टर को अपनी उम्र 65 से 70 साल के बीच बताई थी।

आसान नहीं थी राह

जीवूबेन और उनके पति पिछले कई सालों से प्रयास कर रहे थे, लेकिन सफलता हाथ नहीं लग पा रही थी। टीओई की रिपोर्ट्स के मुताबिक, डॉक्टरों ने जीवूबेन को इस उम्र में प्रेग्नेंसी का रिस्क लेने से मना किया था, लेकिन वह अपने फैसले पर अटल रहीं।

गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. नरेश भानुशाली ने बताया, 'हमने पहले उनके मेन्स्ट्रुअल साइकिल को रेग्युलर किया ओरल मेडिसिन देकर। उसके बाद हमने उनके यूट्रस को खोला, जो उम्र के साथ सिकुड़ गया था। फिर हमने उनके एग्स को फर्टिलाइज किया और ब्लास्टोसिस्ट क्रिएट की और उसे यूट्रस में ट्रांसफर किया।' इसके बाद डॉक्टर्स ने दो हफ्ते बाद सोनोग्राफी की और वे फीटस को देख काफी हैरान थे, उन्होंने उसे मोनिटर करना जारी रखा। कुछ समय बाद उन्हें हार्टबीट भी सुनाई दी और कोई डिफॉर्मिटी न दिखने के बाद उन्होंने प्रेग्नेंसी को जारी रखा। हालांकि मां को पहले से कोई गंभीर बीमारी नहीं थी, लेकिन उम्र के साथ ब्लड प्रेशर को देखते हुए डॉक्टर्स ने आठ महीने बाद सी-सेक्शन किया।

इसे भी पढ़ें:Viral Video: कूड़ा उठाने वाली एक गरीब महिला ने बोली फर्राटेदार अंग्रेजी, सुनने वाले थे दंग

क्या जीवूबेन है इस उम्र में मां बनने वाली पहली महिला?

gujarat old woman gives birth through ivf

जीवूबेन के इस दावे की तो अभी कोई पुष्टि हो नहीं पाई है, मगर आपको बता दें कि 2009 में एक ऐसा रिकॉर्ड यूनाइटेड किंगडम की एक महिला के नाम पहले से ही है। साल 2009 में यूके की एलिजाबेथ एडिनी ने आईवीएफ तकनीक के जरिए 50 साल की उम्र में अपने पहले बच्चे को जन्म दिया था। दरअसल, यूके में इतनी अधिक उम्र की महिलाओं के लिए आईवीएफ की सुविधा नहीं थी, इसलिए एलिजाबेथ को यूक्रेन जाना पड़ गया था।

इसे भी पढ़ें:बारामुला की सबसे बुजुर्ग महिला को लगी वैक्सीन, राशन कार्ड में 124 साल दर्ज है उम्र

वहीं, एक ऐसा ही किस्सा भारत में भी हुआ था। जहां आंध्र प्रदेश के गुंटूर में एक 74 वर्षीया महिला एरामति मांगयामा ने साल 2019 में जुड़वां बच्चियों को आईवीएफ प्रेग्नेंसी के जरिए जन्म दिया था। इसी तरह पंजाब की दलजिंदर कौर ने साल 2016 में भी 70 साल की उम्र में एक बच्चे को जन्म दिया था। 

भगवान भी कैसे-कैसे चमत्कार दिखाता है न? सच ही कहते हैं कि अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो वह पूरी हो ही जाती है। गुजरात का यह दंपति कितने सालों से प्रयासरत थे और आखिरकार उन्हें दुनिया की सबसे प्यारी चीज मिल ही गई। हमारी ओर से दंपति को शुभकामनाएं।

उम्मीद है आपको भी यह लेख पसंद आया होगा। आप इसे लाइक करें और इसे आगे शेयर करने में हमारी मदद करें। ऐसी ही ट्रेंडिंग खबरों को पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

 

Image Credit: national & bbc