• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

Ganesh Chaturthi 2022:क्यों एक चूहा है श्री गणेश जी की सवारी?

Ganesh Chaturthi 2022:इस लेख में हम आपको बताएंगे की गणेश जी की सवारी एक चूहा क्यों है? 
author-profile
Published -29 Aug 2022, 15:00 ISTUpdated -29 Aug 2022, 16:46 IST
Next
Article
STORY OF LORD GANESH VAHAANA IS MUSHAK

भगवान शिव और पार्वती के पुत्र गणेश जी हैं। सभी मांगलिक कार्यों से पहले गणेश जी की पूजा होती है। गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है। यह तो आप जानते ही होंगे की गणेश जी की सवारी मूषक यानि की एक चूहा होता है।

लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि गणेश जी की सवारी एक चूहा क्यों है? गणेश जी की सवारी चूहा क्यों है इसके पीछे एक नहीं बल्कि दो चर्चित लोक कथाएं और पौराणिक कथाएं हैं। इस लेख में हम आपको दोनों कथाएं बताएंगे। 

 

असुर गजमुख बना था गणेश जी का वाहन

ganesh ji ka vahaan mushak kyu hai

  • पहली कथा के अनुसार गजमुख नाम का असुरों का महाराजा हजारों युगों पहले सभी देवी-देवताओं को अपने वश में करना चाहता था। साथ ही वह बहुत शक्तिशाली और धनवान बनना चाहता था। उसे यह वरदान मिल जाए इसलिए वह अपना महल और राज्य  छोड़ कर जंगल में जा कर शिवजी से वरदान प्राप्त करने के लिए बिना भोजन खाएं दिन-रात तपस्या करने लगा।
  • कई साल बीत गए फिर शिवजी उसकी तपस्या को देखकर प्रसन्न हुए और शिवजी ने उसकी भक्ति को देखकर उसे कई शक्तियां प्रदान कर दी थी। जिससे वह बहुत ताकतवर और शक्तिशाली बन गया था। सबसे अलग ताकत जो शिवजी ने उसे प्रदान करी वह यह थी कि उसे किसी भी अस्त्र या शस्त्र से नहीं मारा जा सकता था। 
  • असुरों के राजा गजमुख को अपनी शक्तियों पर घमंड होने लगा। जिसके बाद उसने अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करना शुरू कर दिया था। उसने देवी-देवताओं पर आक्रमण करना शुरू कर दिया। गजमुख हमेशा से यही चाहता था कि हर देवता उसका ही पूजन करें।

इसे भी पढ़ें :गणपति उत्सव के दौरान घर में दिख जाए चूहा तो मिलते हैं ये शुभ और अशुभ संकेत, पंडित जी से जानें

  • सभी देवताओं में से ब्रह्मा, विष्णु, शिव, और गणेश जी ही सिर्फ गजमुख के इस रूप के आतंक से बचे हुए थे। अपने जीवन की रक्षा के लिए सभी देवता शिव, विष्णु और ब्रह्मा जी के शरण में पहुंचे और उनसे इस समस्या का उपाय करने को कहा था। गजमुख के आतंक से सबकी रक्षा करने के लिए शिव जी ने गणेश जी को असुर गजमुख को रोकने के लिए भेजा था।
  • फिर गणेश जी ने युध्य में असुर गजमुख को बुरी तरह से घायल कर दिया। लेकिन गजमुख ने हार नहीं मानी। आपको बता दें कि गजमुख जब गणेश जी की तरफ आक्रमण करने के लिए दौड़ा तब उसने स्वयं को एक चूहे के रूप में बदल लिया लेकिन गणेश जी कूद कर उसके ऊपर बैठ गए और गणेश जी ने गजमुख को जीवन भर के लिए चूहे में बदल दिया और अपने वाहन के रूप में जीवन भर के लिए उसे अपने साथ रख लिया।
  • इसके बाद गजमुख भी श्री गणेश जी के शरण में आ गया और उनका प्रिय मित्र भी बन गया।

 

क्रौंच बना था गणेश जी का वाहन

ganesh chaturthi  why ganesh ji ride mouse

  • एक प्रचलित लोक कथा के अनुसार आधा राक्षस और आधा देवता वाली प्रवृत्ति वाला नर एक क्रौंच था। एक समय की बात है जब भगवान इन्द्र ने अपनी सभा में सभी मुनियों और राजाओं को बुलाया था और इस सभा में क्रौंच को भी निमंत्रण दिया था। लेकिन इस सभा में गलती से क्रौंच ने अपना पैर एक मुनि के पैरों पर रखा दिया।
  • इस बात से अत्यंत क्रोधित होकर उस मुनि ने क्रौंच को चूहा बनने का श्राप दिया था। उस क्रौंच ने मुनि से कई बार क्षमा भी मांगी लेकिन मुनि ने अपना श्राप वापिस नहीं लिया।
  • पर मुनि का जब क्रोध शांत हुआ तब उन्होंने उस क्रौंच को एक वरदान दिया। इस वरदान को देते वक्त उन्होंने कहा कि आने वाले समय में वो भगवान शिव और पार्वती के पुत्र श्री गणेश जी की सवारी बनेगा।
  • आपको बता दें कि क्रौंच कोई छोटा चूहा नहीं था बल्कि एक विशाल और बहुत मोटा चूहा था जो कुछ ही मिनटों में पहाड़ तक को कुतर डालता था। इसकी वजह से वन में रहने वाले मुनियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता था। 
  • एक बार उसी विशाल चूहे ने महर्षि पराशर की कुटिया भी बर्बाद कर डाली थी। लेकिन महर्षि पराशर ने भगवान श्री गणेश जी का ध्यान कर रहे थे। वहां मौजूद सभी ऋषियों ने उसे भगाने का बहुत प्रयास किया लेकिन किसी को सफलता नहीं मिली। इस समस्या को खत्म करने के लिए वो सभी ऋषि भगवान शिव के पास गए और उनसे मदद मांगी।

vahana of ganesh ji mouse

  • शिव जी ने फिर गणेश जी को भेजा और तब गणेश जी ने चूहे को पकड़ने के लिए एक मोटा फंदा फेंका। इस फंदे ने चूहे को तुरंत अपने कब्जे में कर लिया था। आपको बता दें कि गणेश जी ने इस तबाही के पीछे का कारण जानने के लिए चूहे से प्रश्न किया लेकिन उस चूहे ने कोई जवाब नहीं दिया। फिर गणेश जी ने चूहे से बोला कि अब तुम मेरी शरण में हो इसलिए जो तुम्हारी इच्छा हो वो मांग सकते हो। 

इसे भी पढ़ें - Ganesh Chaturthi 2022: महाराष्ट्र की इन जगहों पर गणेशोत्सव पर दिखती है खास रौनक, आप भी पहुंचें

  • इस पर उस विशाल चूहे ने कहा कि 'मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए लेकिन हां अगर आप चाहें तो मुझसे कुछ मांग सकते हैं'। जब गणेश जी ने उसका घमंड देखा तो गणेश जी ने चूहे से कहा कि वो उसकी सवारी करना चाहते हैं। चूहे ने अपने घमंड में चूर होकर उनकी बात मान ली और फिर वह गणेश जी की सवारी बनने को तैयार हो गया लेकिन जैसे ही गणेश जी उस चूहे के ऊपर बैठे वो उनके भारी वजन से दबने लगा।
  • चूहे ने बहुत कोशिश भी करी की वह उनके भार से न दबे लेकिन गणेश जी ने उसे एक कदम भी आगे नहीं बढ़ने दिया।
  • तभी उस चूहे का घमंड खत्म हो गया और उसने गणेश जी से क्षमा भी मांगी। गणेश जी ने उसकी क्षमा को स्वीकार कर लिया और अपने लिए उसे वाहन चुना इसलिए मूषक ही फिर गणेश जी की सवारी बन गया।

 

तो यह थी गणेश जी से जुड़ी हुई जानकारी।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

 

Image credit- freepik/unsplash

 

 

 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।