• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Vastu Tips: घर में वास्तु के अनुसार किस तरह की मछलियां रखना शुभ है

यदि आप घर में सकारात्मक ऊर्जा के लिए मछलियां रखते हैं तो आपको इनसे जुड़े वास्तु के कुछ नियम जरूर जान लेने चाहिए।   
author-profile
Next
Article
vastu tips for fish

घर की उन्नति में वास्तु शास्त्र का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि घर में रखी हर एक चीज यदि वास्तु के अनुसार हो तो सकारात्मक ऊर्जा आती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान ब्रह्मा ने वास्तु-शास्त्र बनाया, जो एक घर और कार्यस्थल के निर्माण के लिए विशेष रूप से फलदायी माना जाने लगा। दरअसल यह घर में कुछ साधारण बदलाव करके ही वास्तु दोष को दूर करने के उपाय बताता है और ऐसा माना जाता है कि वास्तु के अनुसार घर को सजाने से घर से सभी नकारात्मक शक्तियां दूर भागने लगती हैं।

ऐसे ही वास्तु के उपायों में से एक है घर में एक्वेरियम या मछलियां रखना। वास्तु एक्सपर्ट बताते हैं कि घर में मछली रखना बेहद शुभ होता है और ये घर से सभी बलाओं को दूर करती है। मछली को घर लाना और सही दिशा में एक्वेरियम स्थापित करना जैसी कई बातें घर से वास्तु दोष को दूर करने में मदद करती हैं। आइए Life Coach और Astrologer Sheetal Shapaira से जानें घर में किस तरह की मछलियां रखनी चाहिए और कैसी मछलियां रखने से बचना चाहिए। 

एक्वेरियम के लिए वास्तु के नियम 

aqurium vastu laws

वास्तु विशेषज्ञ शीतल जी का कहना है कि मछली घर का सौभाग्य बढ़ाने में मदद करती है। आपको इस बात का ध्यान देने की जरूरत है कि एक्वेरियम सही दिशा में स्थापित हो और उसमें सही संख्या में मछलियां हों, जिससे घर में सुख समृद्धि आ सके। वहीं मान्यता यह भी है कि यदि एक्वेरियम की दिशा सही न हो तो यह घर के लिए विनाशकारी भी हो सकता है। दरअसल एक्वेरियम में पांच तत्व होते हैं जो एक दूसरे के साथ जुड़े होते हैं और घर की ऊर्जा को प्रभावित करते हैं। ऐसा माना जाता है कि बहते पानी की आवाज घर में सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत बन जाती है। इसलिए एक्वेरियम घर को समृद्धि की ओर ले जाता है। यहां तक कि घर में रखी गयी एक मछली भी अनिष्ट शक्तियों को दूर भगाने में सक्षम है। एक्वेरियम रखने की सही दिशा घर का उत्तर पूर्वी हिस्सा है। दरअसल इस भाग में जल तत्व से जुड़ी हुई चीज़ें रखने से धन का आगमन और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इसलिए वास्तु के अनुसार फिश एक्वेरियम को घर की पूर्व, उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा में रखना शुभ माना गया है। 

घर में मछलियां रखने के फायदे 

वास्तु की मानें तो घर में एक पालतू के रूप में मछली को रखना घर के वातावरण को सकारात्मक बनाने जैसा है। मछलियां नकारात्मक ऊर्जा को दूर करती हैं। मछलियों की सही संख्या  घर को धन से भर देती है। वास्तु में कहा गया है कि एक्वेरियम की सही स्थिति घर में लोगों की वित्तीय स्थिति में सुधार करती है। यह अपार धन को आकर्षित कर सकता है। मछलियां तनाव को दूर करती हैं और हमारे दिमाग को तरोताजा करती हैं। एक्वेरियम में मछलियों को भागते हुए देखना हमारे दिमाग को तरोताजा कर देता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: सुख शांति के लिए घर में एक्वेरियम रखते समय ध्यान में रखें ये बातें

वास्तु के अनुसार किस रंग की मछली रखना शुभ है  

fish luck at home

वास्तु शास्त्र के अनुसार मछली के रंग का एक अलग अर्थ होता है। शीतल जी बताती हैं कि घर में कुछ निश्चित रंगों की मछली रखना घर के लिए ज्यादा शुभ माना जाता है। आइए आपको बताते हैं उन मछलियों के रंगों के बारे में। 

  • सफेद या सुनहरे रंग की मछली सौभाग्य का प्रतिनिधित्व करती है। चूंकि ये रंग धातु तत्वों का प्रतीक हैं, इसलिए ऐसी मछली अक्सर समृद्धि से जुड़ी होती हैं।
  • गहरे रंग जैसे नीला, काला और ग्रे पानी के तत्वों से जुड़े हैं। इसलिए, वे नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित करते हैं। उदाहरण के लिए, लोग घर में नकारात्मकता को दूर करने के लिए ब्लैक गोल्डफिश रखते हैं जो घर के लिए सकारात्मक संकेत देती है। 
  • बैंगनी और लाल रंग की मछली अग्नि तत्व का प्रतीक है। हालांकि, वे अन्य प्रकार की मछलियों की तरह भाग्य को बढ़ावा नहीं देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आग पानी को बहा देती है। भूरी और पीली मछली पृथ्वी के तत्वों को परिभाषित करती है। वे मौद्रिक भाग्य को आकर्षित कर सकती हैं। 

मछलियों की संख्या 

एक्वेरियम में हमेशा विषम संख्या में मछलियां रखना शुभ माना जाता है। इसमें 9 मछलियां रखना सबसे शुभ माना जाता है जिसमें से 8 गोल्ड और एक काली मछली होनी चाहिए। ऐसी मान्यता है कि मछलियों की ऐसी संख्या घर में सकारात्मकता लाती है। यदि आप 9 मछलियां न भी रखें तब भी उन्हें विषम संख्या में ही रखें। 

कैसी मछलियां रखना होता है शुभ 

gold fish lucky for home

गोल्ड फिश 

वास्तु शास्त्र के साथ-साथ फेंगशुई के अनुसार भी गोल्ड फिश सौभाग्य लाती है। आप इसे कई तरह के आकारों में पा सकते हैं और घर में रख सकते हैं। शीतल जी के अनुसार 'गोल्ड फिश घर का सौभाग्य बढ़ाने में बहुत मददगार होती है। 

फ्लावर हॉर्न फिश

फ्लावर हॉर्न फिश आपके घर में समृद्धि लाती है। यह शक्तिशाली सकारात्मक ऊर्जाओं से भी जुड़ी हुई है। यदि आप इसे घर में रखते हैं तो कई नकारात्मक शक्तियां दूर भाग जाती हैं। 

एरोवाना (ड्रैगन फिश)

हालांकि यह एक्वेरियम के लिए मछली की सबसे महंगी प्रजातियों में से एक है, लेकिन यह अपने लाल रंग और सिक्के जैसी त्वचा के कारण धन, समृद्धि, खुशी और सौभाग्य को आकर्षित करती है। आमतौर पर इसके सुनहरे पंख और एक पूंछ होती है। जो दिखने में भी बेहद खूबसूरत लगती है। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: घर में जीवित कछुआ रखना सही है या नहीं, जानें क्या कहता है वास्तु

Recommended Video


कोरी कैटफ़िश

ये मुख्य रूप से एक्वेरियम की सफाई के लिए रखी जाती है लेकिन घर में सकारात्मकता लाती है और बुराई को दूर करती है। यह एक शांत मछली है जो घर में सौभाग्य को आकर्षित करती है। यह पानी की विभिन्न स्थितियों को भी सहन कर सकती है और किसी भी वातावरण में आसानी से पल सकती है।

एंजेल फिश

angelfish is lucky for home

पतली और सपाट शरीर वाली एंजेल फिश को भी सौभाग्य की मछली माना जाता है और इसे घर में रखना बेहद शुभ माना जाता है। चूंकि ये सर्वाहारी हैं, वे जीवित और जमे हुए भोजन पर पनपती हैं। मीठे पानी की ऐसी मछली घरों में पालतू जानवर के रूप में काफी लोकप्रिय हैं और दिखने में भी बेहद खूबसूरत लगती हैं।

वास्तव में यदि आप घर में मछलियां वास्तु के अनुसार रखती हैं तो आपको जल्दी ही इसका लाभ मिलेगा और घर से सभी परेशानियां दूर होने लगेंगी। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and pixabay 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।