'जा सिमरन जी ले अपनी जिंदगी', 'बड़े-बड़े देशों में छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं सेन्योरीटा' जैसे डायलॉग लंबे समय तक लोगों की जुबान पर रहे। सिमरन और राज का रोमांस लोगों को कुछ इस कदर भाया कि इसमें वे अपनी कहानी देखने लगे। महिलाओं को राज का किरदार इतना दिलचस्प लगा कि वे पुरुषों में राज जैसी खूबियां देखना पसंद करती थीं तो वहीं पुरुष महिलाओं में सिमरन जैसा भोलापन खोजते थे। अपने बचपन में देखी इस फिल्म से मैं खुद भी काफी जुड़ाव महसूस करती हूं और आज भी इसके गाने सुनाई पड़ते हैं तो दिल के उतने ही करीब मालूम पड़ते हैं। इस फिल्म में शाहरुख और काजोल की कैमिस्ट्री देखने लायक थी और आज भी इसे देखने पर पुरानी यादें ताजा हो उठती हैं। 

ddlj big success inside

'रीमेक बनाना संभव नहीं है'

काजोल ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में इस फिल्म के लिए कहा था, 'यह फिल्म मुझे लार्जर दैन लाइफ लगती है। मुझे नहीं लगता कि इस फिल्म का रीमेक बनाया जा सकता है। इस फिल्म की सफलता इसलिए इतनी बड़ी रही, क्योंकि लोगों ने इसे काफी पसंद किया था।'

इस फिल्म का जादू लोगों के सिर चढ़कर बोला। कपल्स ने राज और सिमरन के अंदाज में इश्क फरमाया तो घरवालों ने अपने बच्चों के लिए उसी तरह से ममता दिखाई, जैसे इस फिल्म में देखने को मिलती है। अनुपम खेर, अमरीश पुरी, फरीदा जलाल, अचला सचदेव, जैसे सीनियर एक्टर्स के साथ हिमानी शिवपुरी, कुलजीत परमीत सेठी, मंदिरा बेदी, करण जौहर, इन सभी कलाकारों की एक्टिंग को दर्शकों से खूब सराहना मिली।

इसे जरूर पढ़ें: काजोल को मिलती है सबसे बड़ी खुशी, जब नीसा और युग कहते है, 'मुझे अपनी मां पर गर्व है'

दर्शकों के प्यार ने दिलाई कामयाबी

काजोल ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में बताया, 'हमें ऐसे लोग भी मिले, जिन्होंने इस फिल्म को देखने के बाद शादी की। इन कपल्स की अगली पीढ़ी ने भी यह फिल्म देखी। इसीलिए शाहरुख, अमरीश पुरी या मुझमें से किसी को भी इस फिल्म का पूरा क्रेडिट नहीं दिया जा सकता। यह फिल्म अपने आप में बहुत स्पेशल और अनूठी थी।'

इसे जरूर पढ़ें: शाहरुख खान हैं रियल लाइफ हीरो, दिवाली पार्टी में ऐश्वर्या राय की सेक्रेटरी की इस तरह बचाई जान

ddlj big success inside

'रिश्तों की मिठास घोलती फिल्म'

डीडीएलजे में संपूर्ण परिवार के रिश्तों को एक धागे में पिरोकर पेश किया गया, फिर चाहे वह मां का किरदार हो या पिता का। महिला और पुरुष के घर में शादी को लेकर जिस तरह का क्रेज होता है और शादी के लिए वे जितनी धूमधाम से तैयारी करते हैं, उसे इस फिल्म में सजीव तरीके से दिखाया गया है। यह फिल्म देखकर कोई भी आम-ओ-खास इमोशनल हो सकता है और अपने पारिवारिक रिश्तों की मिठास को महसूस कर सकता है। इसीलिए हर उम्र वर्ग की महिलाओं को यह फिल्म आज भी काफी पसंद की जाती है। ऐसी भी कई महिलाएं होंगी, जिन्होंने यह फिल्म सैंकड़ों बार देखी और दिखाई होगी, लेकिन इसका क्रेज अब भी उनके जेहन में बरकरार होगा।