Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Chhath Puja: नाक तक लंबा सिंदूर क्यों लगाती हैं छठ व्रती महिलाएं, जानें कारण

    छठ पूजा में सभी महिलाएं नाक तक लंबा सिंदूर लगाती है लेकिन क्या आप इसके पिछे का कारण जानते हैं। चलिए जानें  
    author-profile
    Updated at - 2022-10-28,11:06 IST
    Next
    Article
    why indian celebrate chhath puja in india

    दिवाली के 6 दिनों के बाद छठ का त्‍योहार आता है। इस पर्व को उत्तर प्रदेश और बिहार में सबसे ज्यादा धूमधाम से मनाया जाता है, मगर अब इसे देश के कोने-कोने में लोग मनाते हैं और यह काफी चर्चित त्‍योहार भी बन चुका है। कई लोग ऐसे है जिन्हें ये नहीं पता होता कि छठ पूजा में महिलाएं नाक तक लंबा सिंदूर क्यों लगाती है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको इससे जुड़ी की बातें बताने वाले हैं।

    डूबते सूर्य को अर्घ्‍य देंती है महिलाएंchhath

    महिलाएं सज संवरकर डाला में फल, भोग और प्रसाद लेकर शाम के वक्‍त डूबते सूर्य को अर्घ्‍य देंती है। इस अवसर पर महिलाएं पूर्ण श्रृंगार करने के साथ ही नाक से शुरू करके मांग तक सिंदूर भरती हैं। छठ करने वाली महिलाओं की यह खास पहचान होती है।

    इसे जरूर पढ़ें- Chhath Puja 2022 Wishes In Hindi: छठ पूजा पर इन चुनिंदा संदेशों से दीजिए अपनों को बधाई

    इसलिए लगाया जाता है नाक से सिंदूर

    मान्‍यता है कि सिंदूर सुहाग का प्रतीक होता है, पति की लंबी आयु के लिए महिलाएं नाक से लेकर मांग तक लंबा सिंदूर लगाती हैं। इस दिन सूर्यदेव की पूजा के साथ महिलाएं अपने पति और संतान की सुख शांति और लंबी आयु की कामना करते हुए अर्घ्‍य देकर अपने व्रत को पूर्ण करती हैं।

    जानें कैसे लगाएं सिंदूर

    सुहागिन महिलाओं को सबसे पहले स्‍नान के बाद सिंदूर लगाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि सुहागिन महिलाओं को कभी भी खाली मांग नहीं रहना चाहिए। माना जाता है कि यह सिंदूर माथे से लेकर जितना लंबा महिलाएं भरेंगी उनके पति की आयु भी उतनी ही लंबी होगी।

    इसे जरूर पढ़ें- Chhath Puja 2022: छठ पूजा में महिलाएं क्यों पहनती हैं सूती साड़ी

    घर के छत में कर सकते हैं छठ पूजा

    कोरोना के कारण पिछले साल कई लोगों ने छठ का पर्व उतने धूमधाम से नहीं मनाया लेकिन इस साल भारत में छठ के पर्व को काफी शानदार तरीकें से मनाया जाएगा। आप चाहें तो घर में ही बड़े से टब में अर्घ्‍य देने की व्‍यवस्‍था कर सकते हैं। कई लोग घर पर छत पर ही छठ के पर्व को मनाते हैं। इसके लिए आपको बाजार में प्लास्टिक के उपलब्ध बाथटब का प्रयोग करना चाहिए। पानी में खड़े होकर अर्घ्य देने के लिए आप घर पर ही कृत्रिम तालाब, बड़े परात या कपड़े धोने वाले टब का उपयोग कर सकते हैं।

    आपके लिए छठ का पर्व शुभ हो। उम्मीद है कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़ें रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।