• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

बर्थडे स्पेशल : सोनिया गांधी से पहली मुलाकात के लिए राजीव ने दी थी रिश्वत, जानिए इनकी प्रेम कहानी

राजीव गांधी और सोनिया की लव स्टोरी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। आज सोनिया गांधी के जन्मिदन के मौके पर जानें उनकी कहानी।
author-profile
Published -20 Aug 2019, 12:32 ISTUpdated -09 Dec 2021, 10:28 IST
Next
Article
how sonia rajiv met first time

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और देश ही नहीं दुनिया की सबसे ज्यादा ताकतवर महिलाओं में से एक सोनिया गांधी का आज जन्मदिन है। फोर्ब्स की लिस्ट में सोनिया गांधी को दुनिया की 100 सबसे ज्यादा इंफ्लूएंशियल महिलाओं की सूची में शामिल किया गया था। 20 अगस्त 1944 को जन्मे राजीव गांधी एक हमले में 46 साल की उम्र में मारे गए थे। राजीव गांधी न सिर्फ देश के सबसे यंग प्रधानमंत्री थे बल्कि उन्होंने उस दौर में विदेशी लड़की से शादी की थी जब लव मैरिज ही बहुत बड़ी मानी जाती थी। राजीव गांधी और सोनिया गांधी की लव स्टोरी बहुत ही दिलचस्प रही है। 

आज सोनिया गांधी के जन्म दिवस के मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं राजीव गांधी और सोनिया गांधी की खूबसूरत प्रेम कहानी से जुड़े कुछ पहलू।

राजीव गांधी को लंदन में ही 1956 की एक शाम सोनिया गांधी दिखीं और वो कहते हैं न, 'Rest is History', राजीव गांधी और सोनिया गांधी की शादी 23 साल चली और उसके बाद राजीव गांधी के अंत से इस प्रेम कहानी का दुखद अंजाम हुआ।  

rajiv and sonia gandhi moments

इसे जरूर पढ़ें-प्रियंका गांधी के बारे में ये 5 बातें नहीं जानती होंगी आप   

वो पहली मुलाकात जिसमें सोनिया को दिल दे बैठे थे राजीव- 

लंदन में पढ़ाई के दौरान राजीव गांधी अक्सर अपने दोस्तों के साथ बाहर जाया करते थे। राजीव गांधी 1956 की ऐसी ही एक शाम को दोस्तों के साथ लंदन के वरसिटी रेस्त्रां में बैठे थे और वहीं उनके सामने आईं खूबसूरत सोनिया माइनो (Sonia Maino), राजीव गांधी को सोनिया गांधी से उसी वक्त प्यार हो गया। उस समय सोनिया कैम्ब्रिज में पढ़ रही थीं और साथ ही साथ पार्ट-टाइम वेट्रेस की तरह उसी होटल में काम कर रही थीं।  

rajiv and sonia gandhi

रिश्वत देकर हुई थी सोनिया से पहली मुलाकात- 

राजीव गांधी ने अपने दोस्त और रेस्त्रां के मालिक चार्ल्स एंटोनी से कहा की कुछ ऐसा इंतज़ाम किया जाए कि सोनिया राजीव के थोड़ा करीब रह सकें। इसके लिए राजीव ने उन्हें रिश्वत भी दी। इसके बाद सोनिया के लिए राजीव ने पेपर नैपकिन में एक कविता लिखी और बेस्ट वाइन भेजी जो चार्ल्स के जरिए सोनिया तक पहुंची। इसके बाद शुरू हुआ दोनों की मुलाकातों का दौर। 

rajiv and sonia gandhi marriage photo

दिल्ली से लंदन सोनिया से मिलने आईं थी इंदिरा- 

राजीव गांधी और सोनिया गांधी एक दूसरे के इतने प्यार में थे कि राजीव गांधी ने इसके बारे में अपनी मां को बता दिया। ये बात थी 1965 की। इंदिरा गांधी उस समय भी काफी खुले विचारों की थीं और वो सोनिया से मिलने लंदन पहुंच गईं। वैसे तो राजीव के परिवार में इस रिश्ते की सहमति थी, लेकिन सोनिया के पिता को इससे थोड़ी दिक्कत थी। उनका मानना था कि उनकी बेटी राजनीतिक परिवार में जाएगी तो ये गलत होगा।  

Recommended Video

शादी से पहले तेजी बच्चन के घर रही थीं सोनिया- 

राजीव गांधी 1967 में भारत वापस आए और उन्होंने 1968 को सोनिया गांधी को भी भारत बुलवा लिया गया। उन्हें तेजी बच्चन के घर रखा गया। राजीव गांधी परिवार और बच्चन परिवार की बहुत गहरी दोस्ती थी। हरिवंश राय बच्चन ने ही राजीव के पिता की भूमिका निभाई और दोनों की शादी 25 फरवरी 1968 को हो गई। 1970 जून में राहुल गांधी का जन्म हुआ और 1972 जनवरी में प्रियंका गांधी का।

rajiv gandhi sonia and kids

इसे जरूर पढ़ें- सादगी से भरी सोनिया की इंदिरा गांधी से कैसी थी पहली और आखिरी मुलाकात 

पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण राजीव जुड़े राजनीति से-

राजीव गांधी कभी राजनीति में नहीं आना चाहते थे। सोनिया गांधी के परिवार ने यही शर्त भी रखी थी। लेकिन पारिवारिक मजबूरियों के चलते उन्हें आना पड़ा। 1980 जनवरी में संजय गांधी की एक प्लेन हादसे में मौत हो गई। इसके बाद 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या। इसके बाद राजीव गांधी को मजबूरन प्रधानमंत्री बनना पड़ा। राजीव गांधी ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई, लेकिन 1991 में उनकी भी हत्या कर दी गई। इसके बाद सोनिया गांधी ने राजनीति की कमान संभाली जो वो कभी करना नहीं चाहती थीं। 

एक जिम्मेदारी जो बन गई जिंदगी का नया अध्याय-

सोनिया गांधी के सामने राजीव गांधी की मौत के बाद दो ही विकल्प बचे थे। या तो वो अपने परिवार की विरासत छोड़कर अपने बच्चों का हाथ थामें वापस चली जाएं या फिर वो टूटती हुई कांग्रेस को सहारा दें। राजीव गांधी की हत्या के बाद 1997-98 में कांग्रेस का बंटवारा निश्चित हो गया था। लेकिन उस समय सोनिया गांधी ने कमान संभाली और कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष चुनी गईं। 

इसके साथ ही वो भारत की राजनीति में दाखिल हुईं और कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर सबसे ज्यादा दिनों तक सेवारत रहने का रिकॉर्ड भी उनके ही नाम है। 

सोनिया गांधी का नाम हमेशा से ही भारत की इन्फ्यूएंशियल महिलाओं में शुमार रहा है और उनकी मेहनत को नजरअंदाज़ नहीं किया जा सकता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से। 
 
Image Credit: splco.com

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।