हिन्दू धर्म में प्रत्येक व्रत त्योहार का अलग महत्व है। हर एक व्रत को लोग बड़ी ही श्रद्धा भाव से मनाते हैं और भगवान् का पूजन करते हैं। ऐसी मान्यता है कि लोग जब पूरी श्रद्धा भाव और मनोयोग से ईश्वर का पूजन और ध्यान करते हैं तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। वहीं उनके द्वारा की गयी कुछ गलतियां पूजा का सही फल नहीं देती हैं। हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है छठ पूजा जिसका ख़ास महत्व है।

छठ पूजा मुख्य रूप से उत्तर भारत के राज्यों में मनाया जाता है। खासतौर पर यह त्योहार बिहार के प्रमुख त्योहारों में से एक है और इसे बिहार के लोह ही नहीं बल्कि पूरे देश के लोग बड़ी श्रद्धा भाव से मनाते हैं और छठ माता का पूजन करते हैं। ऐसे मान्यता है कि छठ माता उनकी पूजा करने वालों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं और अच्छे फल देती हैं। लेकिन छठ पूजा के दौरान कुछ ख़ास बातों का ध्यान रखना जरूरी है और इस दौरान कुछ गलतियों को करने से बचना चाहिए। आइए ज्योतिषाचार्य और वास्तु एक्सपर्ट डॉ आरती दहिया से जानें कि छठ पूजा में किन गलतियों को करने से बचना जरूरी है। 

घर को गंदा रखना 

chhth puja

घर को साफ़ रखना वैसे भी जरूरी होता है लेकिन मुख्य रूप से छठ पूजा के दौरान गंदगी रखने से आपको छठ पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता है और मनोकामनाओं को पूर्ति भी नहीं होती है।  इसलिए जहां तक संभव हो इस दौरान घर की साफ़ सफाई का ख़ास ध्यान रखें जिससे छठ माता की कृपा दृष्टि बनी रहे। 

इसे जरूर पढ़ें:Chhath Puja 2020: क्यों मनाया जाता है छठ का त्योहार, क्या है छठ पूजा का महत्त्व ?

तामसिक भोजन करना 

लोग छठ पूजा के दौरान भी तामसिक भोजन जैसे लहसुन प्याज और मांस मदिरा का सेवन करते हैं। जो घर के लिओए अच्छा नहीं होता है। यदि घर में कोई भी छठ पूजा करता हो तो किसी भी सदस्य को भूलकर भी तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए। खासतौर पर इस चार दिनों के त्यौहार में मांस मदिरा के सेवन से बचना चाहिए। ऐसा न करने से छठ माता नाराज़ हो सकती हैं। 

aarti dahiya chhth puja

बच्चों को पूजा से दूर रखें 

छठ पूजा के दौरान साफ़ सफाई बहुत जरूरी है इसलिए बच्चों को पूजा की सामग्री छूने से बचना चाहिए। छठ पूजा के दौरान बच्चों को दूर रखना ही बेहतर है जिससे कोई अशुद्धता न हो और पूजा का पूर्ण फल मिल सके। (क्यों मनाई जाती है छठ पूजा)

Recommended Video


कलह कलेश से रहें दूर 

छठ पूजा के दौरान कभी भी किसी प्रकार का लड़ाई झगड़ा नहीं करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि लड़ाई झगड़े और कालेज कलेश से घर में अशांति फैलती है और छठ माता नाराज़ हो जाती हैं। जिससे घर की सुख समृद्धि दूर हो सकती है। इस दौरान व्रती को किसी भी तरह की नकारात्मकता से दूर रहना चाहिए और किसी की बुराई करने से भी बचना चाहिए। किसी से भी अपशब्द का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:Chhath Puja 2021: जानें छठ पूजा में नहाय खाय और खरना की तारीखें और महत्व

चारपाई या बिस्तर पर न सोएं 

छठ पूजा के दौरान मुख्य रूप से व्रती महिलाओं को बिस्तर पर सोने से बचना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि पूरे चार दिन जमीन पर सोने से छठ पूजा का पूर्ण फल मिलता है और घर की शांति बनी रहती है। व्रत के दौरान जमीन पर कपड़ा बिछाकर सोना अच्छा माना जाता है। 

किसी भी बर्तन से सूर्य को जल देना 

chhth puja  vidhi

आमतौर पर लोग सूरज को जल देते समय किसी भी बर्तन का इस्तेमाल करते हैं। ऐसा करना ठीक नहीं माना जाता है क्योंकि किसी भी अशुद्ध बर्तन से सूरज को जल देने से छठ माता की कृपा दृष्टि नहीं प्राप्त होती है। सूरज को जल देते समय पीतल, ताम्बे या स्टील के बर्तन का इस्तेमाल करें। वहीं इस दिन प्लास्टिक के बर्तनों का प्रयोग न करें।

शुद्ध रूप से प्रसाद न बनाना 

छठ पूजा का फल प्राप्त करने के लिए जब भी प्रसाद तैयार करें इस बात का ध्यान रखें की कभी भी जूठे या अशुद्ध तरीके से प्रसाद न बनाएं। प्रसाद बनाते समय पूर्ण शुद्धता का ध्यान रखें। सफाई और शुद्धता न रखने पर सही फल प्राप्त नहीं होते हैं। 

छठ पूजा के दौरान यहां बताई इन सभी गलतियों को करने से बचें जिससे छठ माता की कृपा मिलने के साथ पूजा का पूर्ण फल भी मिल सके। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: shutterstock and freepik