आज के समय में जब देश की महिलाएं काफी तेजी से प्रगति कर रही हैं और वर्कप्लेस में मजबूती से अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही हैं, एक मिडिल एज की महिला ने महिला विरोधी बयान देकर सबको हैरत में डाल दिया था। हालांकि इस महिला ने अब अपने बयान के लिए ये कहते हुए माफी मांग ली है कि उनकी बातें बहुत दुख पहुंचाने वाली और 'गलत' हैं। ये माफी इस महिला ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर डाली है। कैसे शुरु हुआ ये विवाद और इस महिला को क्यों माफी मांगने पर होना पड़ा मजबूर, आइए जानते हैं।

शॉर्ट स्कर्ट पहनने वाली लड़कियों के लिए कही थी ये गलत बात

बताया जाता है कि कुछ महिलाएं 'नुक्कड़वाला' रेस्टोरेंट आईं थीं, जिनके ड्रेसेस के लिए इस महिला ने कहा, 'जो लड़कियां छोटे कपड़े पहनती है, उनका रेप होना चाहिए।' इन्होंने महिलाएं के लिए जैसे ही यह आपत्तिजनक बात कही, वैसे ही हर तरफ उनकी आलोचना होने लगी। सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हुआ। वीडियो में महिला कहती नजर आई कि 'शॉर्ट स्कर्ट्स पहनकर महिलाएं रेप को बढ़ावा दे रही हैं।' इस पर सामने खड़ी महिलाओं ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया और एक महिला होकर इस तरह की अशोभनीय बात करने के लिए उनकी आलोचना शुरू कर दी। 

इसे जरूर पढ़ें: प्रियंका चोपड़ा निभाएंगी ओशो का दायां हाथ रही कंट्रोवर्शियल मां आनंद शीला का किरदार

misogynistic statement short skirt wearing women must be raped

शॉर्ट स्कर्ट पहनने वालों के चरित्र पर उठाया सवाल

बताया जाता है कि वीडियो में लड़कियां इस महिला से बार-बार सवाल पूछ रही थीं और अपने विवादास्पद कमेंट के लिए माफी मांगने के लिए कह रही थीं। वहीं दूसरी तरफ ये महिला खुद को बचाने की कोशिश करती नजर आ रही थीं। लड़कियां इस महिला को सॉरी बोलने के लिए उस पर लगातार प्रेशर बना रही थीं। छोटे कपड़े पहनने वाली महिलाओं के कैरेक्टर पर सवाल उठाते हुए इस महिला ने कहा था कि इनके छोटे कपड़ों से इनके कैरेक्टर का भी अंदाजा लगाया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार वीडियो में महिलाएं इस मिडिल एज महिला से कहती नजर आईं, 'सॉरी बोलो, वरना वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर देंगें।' जब ये महिलाएं एक साथ इनका विरोध करने लगीं तो मिडिल एज महिला और भी ज्यादा भड़क गई। बताया जाता है कि उसने वीडियो बनाने वाली महिलाओं के साथ आए उनके पेरेंट्स को भी अपनी बेटियों को 'तमीज' सिखाने और उन्हें सपोर्ट करने के लिए कहा। विवाद होने के चलते इस वीडियो को अब हटा लिया गया है।

शिवानी गुप्ता के अकाउंट से जैसे ही यह वीडियो अपलोड हुआ, वैसे ही इस मिडिल एज महिला की ट्रोलिंग शुरू हो गई। उसके लिए गालियां, भद्दे कमेंट्स यहां तक कि रेप की धमकियां भी मिलने लगीं। कुछेक लोगों ने उनके प्राइवेट अकाउंट से उनकी शॉर्ट ड्रेस वाली तस्वीरें भी अपलोड कर दीं और उसकी जमकर आलोचना की। हर तरफ से आलोचना और धमकियां मिलने के बाद आखिरकार यह महिला बैकफुट पर आग गई और उसने अपने व्यवहार के लिए माफी मांग ली।

हालांकि इस महिला का यह महिला विरोधी बयान किसी भी लिहाज से सही नहीं माना जा सकता, लेकिन उनके बयान पर जिस तरह की अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया गया, उसकी शॉर्ट ड्रेस को लेकर ट्रोलिंग की गई और रेप की धमकियां दी गईं, उसे भी सही नहीं ठहराया जा सकता। सभ्य समाज में सभी महिलाओं के लिए आदर, सम्मान और मर्यादा से बात की जानी चाहिए। बहरहाल इस मामले पर माफी मांगे जाने के बाद यह साफ हो गया है कि महिलाओं के लिए अगर किसी तरह की आपत्तिजनक बात कही जाती है, तो वे खुद ऐसी चीजों का मुकाबला करने के लिए तैयार हैं और अब किसी को उन्हें कमजोर समझने की भूल नहीं करनी चाहिए।