कहा जाता है कि एक बच्चे के भविष्य का निर्धारण माता पिता के साथ उसका टीचर ही करता है । जब बच्चा घर से बाहर कुछ सीखने के लिए कदम रखता है तब एक टीचर ही उसका हाथ थाम कर उसकी नींव को मजबूत बनाता है। टीचर कहें या गुरु, उसकी महिमा शब्दों में बयां कर पाना मुश्किल है। ज्ञान का ऐसा पुलिंदा जिसके पास हर चीज़ की जानकारी मौजूद होती है। टीचर और स्टूडेंट का रिश्ता कुछ अलग ही होता है।अपने टीचर्स को सम्मान देने के लिए भारत में हर वर्ष 5 सितम्बर को टीचर्स डे मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं टीचर्स डे की शुरुआत कब हुई थी। आइये आपको बताते हैं इसके इस्तिहास के बारे में -

किसकी याद में मनाते हैं टीचर्स डे 

teachers day  ()

टीचर्स डे डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस के रूप में हर साल 5 सितम्बर को मनाया जाता है। वह एक महान शिक्षक थे। इसके साथ-साथ वह स्वतंत्र भारत के पहले उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति भी थे। देश के पहले उप-राष्‍ट्रपति डॉ राधाकृष्‍णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को तमिलनाडु के तिरुमनी गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था (जानें देश की पहली महिला टीचर के बारे में )। वे बचपन से ही किताबें पढ़ने के शौकीन थे और स्वामी विवेकानंद से काफी प्रभावित थे। डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद में टीचर्स डे मनाते हुए टीचर्स की सम्मान दिया जाता है। 

टीचर्स डे का इतिहास 

teachers day  ()

हर साल 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाने के पीछे एक इतिहास है। कहा जाता है कि जब डॉ. एस राधाकृष्णन भारत के राष्ट्रपति बने तो उनके कुछ छात्र व मित्र उनके पास पहुंचे और उनसे उनका जन्म दिवस मनाने का आग्रह किया। तब उन्होंने अपने छात्रों से कहा कि यदि वो उनका जन्म दिन मनाना चाहते हैं तो इस खास दिन को शिक्षकों द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किए गए योगदान और समर्पण को सम्मानित करते हुए मनाएं। तो मुझे सबसे ज्यादा खुशी होगी। उनकी इसी इच्छा का सम्मान करते हुए हर साल 5 सितंबर को देशभर में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि मेरे जन्मदिन को अलग से मनाने के बजाय इस 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए तो यह मेरे लिए गौरवपूर्ण होगा। तभी से उनके जन्म दिवस को यानी कि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। 

इसे जरूर पढ़ें:Teachers Day: टीचर्स डे के मौके पर अपने शिक्षक को भेजें ये सन्देश

Recommended Video


टीचर्स डे का महत्त्व 

teachers day  ()

इस दिन का एक छात्र के लिए बहुत ज्यादा महत्त्व है। एक टीचर ही होता है जो स्टूडेंट को अच्छे और बुरे की पहचान कराता है। इसलिए टीचर के महत्त्व को समझना जरूरी है। यह भी कहा जाता है कि टीचर का स्थान माता-पिता से भी ऊपर होता है क्योंकि वही हमें माता-पिता का सम्मान करना सिखाता है (भारतीय शिक्षा प्रणाली से जुड़े सवाल)। बचपन से लेकर बड़े होने तक टीचर्स ही होते हैं जो हमें कई बातों का अनुभव करवाते हैं। टीचर चाहे नर्म हो या सख्त, हमें सक्सेस का मंत्र वही सिखाता है । इसलिए टीचर के साथ टीचर्स डे का भी बहुत ज्यादा महत्त्व है क्योंकि ये अपने टीचर्स को याद करना का दिन होता है। 

इसे जरूर पढ़ें: ऐसी जगहें जहां अपनी टिचर के साथ जाने से दोगुना हो जाता है ट्रिप का मजा

आप भी अपने टीचर्स को याद कर रही हैं तो उन्हें प्यार भरा कोई संदेश जरूर भेजिए। जिससे उन्हें भी पता चले कि वो आपके जीवन में क्या मायने रखते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:free pik