लंडन पैरिस न्यूयॉर्क, वजीर और पद्मावत जैसी फिल्मों में अपनी एक्टिंग के जलवे दिखाने वाली अदिति राव हैदरी को उनके बेहतरीन कामों के लिए सिनेमा के सबसे बड़े सम्मान से नवाजा जा रहा है। अदिति को उनकी फिल्म भूमि के लिए दादासाहेब फाल्के पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है। हालांकि फिल्म 'भूमि' बॉक्स ऑफिस पर बहुत कामयाब नहीं रही थी, लेकिन इस फिल्म में अदिति राव की अदाकारी की सराहना सबने की थी। यही वजह है कि 2018 की अवॉर्ड्स लिस्ट में अदिति राव हैदरी को नॉमिनेट किया गया है। अदिति को फिल्म 'भूमि' के लिए बेस्ट क्रिटिक्स लीडिंग लेडी का अवॉर्ड दिया जाएगा। 

हाल ही में आई फिल्म पद्मावत में अदिति ने मेहरुन्निसा का छोटा सा रोल निभाया था, जिसमें वह रणवीर सिंह यानी अलाउद्दीन खिलजी की पत्नी बनी थीं। इस रोल में अदिति को काफी पसंद किया गया था।

aditi rao inside

कमाल की अदाकारी 

अदिति राव हैदरी को बॉलीवुड में बहुत ज्यादा समय नहीं हुआ है लेकिन वह बहुत सोच-विचार कर अपने किरदार चुनती हैं। इसे देखकर कहा जा सकता है कि वह उनके काम को लंबे वक्त तक याद रखा जाएगा। अदिति राव ने 6 साल की उम्र में भरतनाट्यम की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी थी। उन्हें एक्टिंग के साथ डांस का भी शौक है। दिलचस्प बात यह है कि एक्टिंग में करियर की शुरुआत भी उन्होंने डांस पर बेस्ड तमिल फिल्म 'श्रृंगारम' से की थी।  

गाने का शौक भी रखती हैं अदिति

डांस और एक्टिंग में माहिर होने के साथ अदिति सिंगिंग की भी उस्ताद हैं। अपनी फिल्म 'लंदन पेरिस न्यूयॉर्क' से उन्होंने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म में उन्होंने दो गानों में अपनी आवाज दी थी। अदिति की मम्मी भी ठुमरी गायिका रह चुकी हैं।

मुंबई में सम्मान समारोह का होगा आयोजन

21 अप्रैल 2018 को मुंबई के बांद्रा के सेंट एंड्रयूज ऑडोटोरियम में एक सम्मान समारोह आयोजित किया जाएगा, जिसमें अदिति को भारतीय सिनेमा के इस सबसे बड़े सम्मान से नवाजा जाएगा। 

दादा साहेब फाल्के पुरस्कार

दादा साहेब फाल्के पुरस्कार भारतीय सिनेमा जगत का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है। भारत सरकार हर साल यह पुरस्कार उस भारतीय सिनेमा की शख्सीयत को देती है, जिसने भारतीय सिनेमा जगत में महत्वपूर्ण योगदान दिया हो। इसके निर्धारण के लिए भारतीय सिनेमा जगत के प्रख्यात व्यक्तियों की एक समिति का गठन किया जाता है। भारतीय सिनेमा के जन्मदाता दादा साहेब फाल्के की जन्म शताब्दी के अवसर पर वर्ष 1969 में इस पुरस्कार की स्थापना की गई थी।

 

Recommended Video

Read More : ऐश्वर्या राय, प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण दुनिया में सबसे ज्यादा सराही गई महिलाओं में शुमार