कॉपर यानि तांबे के बर्तन में खाने के कई फायदे होते हैं। इसमें खाने से आपकी सेहत को पोषक तत्व मिलते हैं। पहले के जमाने में लोग तांबे के बर्तनों में ही खाया करते थे। लेकिन धीरे-धीरे चीजें बदलने पर यह परंपरा भी बदल गई। तांबे के बर्तनों को काफी देखभाल की जरूरत होती है। उनके रख-रखाव का बहुत ध्यान दिया जाता है। साथ ही उन्हें कैसे साफ करना इन बातों का भी खास ख्याल रखा जाता है। तांबे के बर्तनों की देखभाल न की जाए तो वह काले हो जाते हैं और फिर फायदा पहुंचाने के बदले वो नुकसान पहुंचाते हैं। मगर बात यह है कि कैसे तांबे के बर्तनों की देखभाल की जाए? तो चलिए हम आपको यही इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं।

डिशवॉशर में तांबे के बर्तनों को धोने से बचें

copper utensil  never clean them in dishwasher

घर में डिशवॉशर होना आपकी कई समस्याओं को दूर कर देता है। आप सारे बर्तनों को डिशवॉशर  में आसानी से धो सकते है, लेकिन तांबे के बर्तनों को कभी भी उसमें नहीं धोना चाहिए। इसके अलावा तांबे के बर्तनों को कभी ऐसे डिटर्जेंट से न धोएं, जिनमें ब्लीच हो। इतना ही नहीं, अब्रेसिव प्रोडक्ट्स जो सेफ होने का दावा करते हैं, उनका इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए।

तांबे के बर्तन को प्री-हीट करने से बचें

आप कई बार ऐसा भी करती होंगी कि पहले बर्तन को तेज आंच पर गर्म कर लिया और फिर उसमें कुछ पकाया। तांबे के बर्तनों के साथ ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए। ऐसे बर्तन बहुत जल्दी गर्म हो जाते हैं, इसलिए उन्हें गैस पर रखते हुए ध्यान दें। इस बात का ख्याल रखेंगी तो आपके तांबे के बर्तन लंबे चलेंगे।

तांबे के बर्तन को खुरचे नहीं

never scour copper utensil

हम स्टील, लोहे के बर्तनों में सब्जी और दाल बनाते हुए खुरचते हैं, लेकिन तांबे के बर्तन को बिल्कुल भी खुरचनी नहीं चाहिए। यह सॉफ्ट टिन लाइनिंग को बहुत जल्दी खराब कर सकता है। इसके अलावा खाना बनाने के बाद उन्हें धोने के लिए भी पहले चीजों को साफ कर लें और फिर उसमें पानी और थोड़ा सा साबुन का पानी डालकर थोड़ा गर्म करें और बैंबू के स्क्रेपर से ही साफ करें। उससे तांबे के बर्तन को नुकसान नहीं पहुंचेगा।

तांबे के बर्तन में तले नहीं

तांबे के पैन की टिन लाइनिंग 450 डिग्री फारेनहाइट पर पिघलती है। इसलिए इन बर्तनों में मीट और मछली बिल्कुल न पकाएं। चिकन या चिकन ब्रेस्ट को इसमें पकाया जा सकता है, लेकिन इसके अलावा इसमें कुछ और पकाना नहीं चाहिए। उनमें ऐसी चीजें भी नहीं पकानी चाहिए, जिन्हें पकाने में ज्यादा टाइम लगे। इसकी जगह लोहे और एल्यूमीनियम के बर्तनों को चुनें।

इसे भी पढ़ें :किचन में काम को आसान बनाएंगे ये 5 टिप्‍स और बचेगा आपका बहुत सारा टाइम

तांबे के बर्तनों को हर छह महीने में पॉलिश करें

polish copper utensil

टार्निश, जंग की एक परत होती है, जो चांदी, मेटल्स और तांबे पर चढ़ती है। यह एक सामान्य प्रक्रिया होती है, जो पानी और हवा के संपर्क में आने से हो जाती है। टार्निश से बचाने के लिए, तांबे को हर छह महीने में एक विशेष तांबे के क्लीनर से पॉलिश किया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें :10 आसान किचन हैक्‍स जो आपके काम को बना देंगे आसान

सिलिकॉन या लकड़ी की कल्छी का उपयोग करें

अगर आप तांबे के बर्तन में खाना बना रही हैं, तो उसे नॉन-स्टिक कुकवेयर की तरह इस्तेमाल करें। मतलब आपको उसमें स्टील की कल्छी इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए। उसमें सिलिकॉन या लकड़ी की कल्छी का ही इस्तेमाल करना चाहिए।

Recommended Video

इसी तरह से तांबे के बर्तनों को धोने के लिए भी बहुत ध्यान रखना चाहिए। तांबे के बर्तन को ला रही हैं, तो उसकी देखभाल भी ठीक से करें। आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

Image Credit: freepik