मावा की स्टफिंग से तैयार गुजिया तो आपने बहुत बार खाई होगी इस बार गुजिया में कुछ नया ट्राई करने के लिए सूजी की गुजिया जरूर ट्राई करें। 

होली फेस्टिवल बहुत ही करीब है और इस बार तो होली पर long weekend पड़ रहा है। ऐसे में घरों में होली के जश्न की तैयारियां शुरू हो गई हैं। अगर इस बार आपके घर में होली पार्टी प्लान हुई है और आप फैमली के साथ-साथ मेहमानों को मिठाई में आपके हाथ का बना हुआ कुछ नया ट्राई करवाना चाहती हैं तो सूजी की गुजिया जरूर ट्राई करें। 

चलिए आपको बताते हैं कैसे बनती हैं सूजी की गुजिया। 

suji gujiya inside

क्या-क्या चाहिए सूजी की गुजिया बनाने के लिए 

  • 100 ग्राम सूजी 
  • 250 ग्राम मैदा 
  • 150 ग्राम बूरा 
  • कद्दूकस किया हुआ सूखा नारियल 
  • दरदरी कुटी हुई काली मिर्च
  • घी 
  • मावा 
  • बादाम 
  • किशमिश
  • काजू 
  • इलायची 
  • जायफल

suji gujiya inside

ऐसे बनाते हैं सूजी की गुजिया 

  • सबसे पहले सूजी की गुजिया बनाने के लिए आप मैदा से डोह बनाकर तैयार कर लीजिए। मैदा के बीच में थोड़ी सी जगह बनाकर इसमें घी मिला दीजिए। 
  • अब आप इस मैदा में थोड़ा-थोड़ा गुनगुना पानी डालकर पूरी के आटे से थोड़ा सख्त गूथकर तैयार कर लीजिए। 

ऐसे बनानी है  स्टफिंग 

  • स्टफिंग बनाने के लिए सबसे पहले एक पैन गरम कर लीजिए। अब इसमें थोड़ा सा घी डाल दीजिए। घी पिघलने के बाद इसमें सूजी डाल दीजिए और इसे लगातार चलाते हुए गोल्डन ब्राउन होने तक मीडियम गैस पर भून लीजिए। 
  • अब गैस बंद कर दीजिए और सूजी को लगातार चलाते रहिए क्योंकि कढ़ाही अभी भी गर्म होगी। एक प्याले में बूरा लीजिए और भुनी हुई सूजी को शुगर के ऊपर डाल दीजिए। 
  • अब एक पैन में काजू और बादाम डालिए और इनको लगातार चलाते हुए केवल 2 मिनट तक भून लीजिए। इनको पैन से निकालकर सूजी और बूरा में डाल दीजिए। 
  • कद्दूकस किया हुआ सूखा नारियल पैन में डालकर इसे लगातार चलाते हुए आधा मिनट तक भून लीजिए। 
  • अब मावा को तोड़कर पैन में डाल दीजिए। इसे लगातार चलाते हुए हल्का-सा कलर बदलने और अच्छी खुशबू आने तक मीडियम गैस पर भून लीजिए। 
  • भुने हुए मावा और किशमिश को उसी प्याले में डाल दीजिए। 
  • अब इसमें आप इलायची और जयाफल को कूट कर मिला दीजिए। 
  • मैदा के सैट होने पर इसको थोड़ा-सा मसल लीजिये. गुंथे मैदा को दो भागों में बांटकर इसे लंबाई में बढ़ा लीजिए। इससे छोटी-छोटी लोइयां तोड़कर तैयार कर लीजिये। 
  • एक लोई उठाइए और इसे मसलते हुए गोल कीजिए और पेड़े की तरह बना लीजिए। फिर इसे पतला बेल लीजिए। ध्यन से पूरी को किनारे से दबाते हुए ही बेलें। ध्यन रखें कि यह कहीं से मोटी और कहीं से पतली नही होनी चाहिए। 
  • अब एक सांचा लीजिए और इसके ऊपर पूरी का निचला भाग ऊपर की ओर रखिए। इसमें थोड़ी सी स्टफिंग बीच में रखिए। 
  • पूरी के चारों ओर थोड़ा-सा पानी लगाइए और सांचे को चारों तरफ से अच्छी तरह दबाकर बंद कर दीजिए। सांचे की बाहर की साइड बचे अतिरिक्त मैदा को तोड़कर हटा दीजिए। 
  • अब सांचे को खोलिये और गुजिया को निकालकर एक प्लेट में रख लीजिए। 

ऐसे तलनी हैं सूजी की गुजिया 

  • एक कढ़ाही में घी गर्म कर लीजिए। ध्यान रखें गुजिया तलने के लिए तेज गर्म घी की जरूरत नहीं होती है। अब आप एक गुजिया घी में डालकर देख लीजिए। अगर यह गुजिया तली जा रही है तो मतलब घी सही गर्म है। अब आप गैस धीमी करके कढ़ाही में जितनी गुजिया आ जाएं उतनी तलने के लिए डाल दीजिए। 
  • जब गुजिया नीचे की तरफ से थोड़ी सी सिक जाये तब इसे पलट दीजिए। गुजिया को गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए। 

अब तली हुई गुजिया को कलछी से उठाइए और कढ़ाही के किनारे पर थोड़ी देर रोकिए ताकि एक्स्ट्रा घी कढ़ाही में ही वापस चला जाए। इसके बाद इनको निकालकर प्लेट में रख लीजिए। अब आपकी सूजी की गुजिया तैयार है। 

Tips 

  • सूजी की गुजिया बनाते टाइम जो एक्स्ट्रा आटा हटाया जाता है आप उसे एक अलग प्लेट में रख लीजिए। इसे बाद में इकट्ठा करके गुजिया बनाने के लिए यूज़ में लाया जा सकता है। 
  • ध्यान रखें स्टफिंग बनाने के लिए सारी चीजों को अच्छे से भूनें। 
  • होली के दिन आपकी तैयार की गईं सूजी की गुजिया आप 15 दिन तक के लिए स्टोर करके रख सकती हैं। 
  • डोह ना ज्यादा सख्त ना ज्यादा नरम होना चाहिए. यह ऎसा होना चाहिए कि बिना घी या सूखा आटा लगाए, आसानी से बेला जा सके. 
  • स्टफिंग बहुत ज्यादा ना भरें वरना गुजिया खुल सकती है। 
  • गुजिया पर कोई चम्मच या नाखून नही लगना चाहिए नहीं तो गुजिया फट भी सकती है। 
  • अगर तलते समय कोई गुजिया फट जाए तो उसे तुरंत घी से निकालकर अलग रख दीजिए और सबसे अंत में तलिए। ऐसा करने से घी खराब नही होगा। 
  • आप चाहें तो बूरा के बदले चीनी भी डाल सकती हैं। 

गुजिया बनाने के लिए सांचे का इस्तेमाल करें तो ज्यादा अच्छा होगा क्योंकि इससे गुजिया आसानी से और जल्दी भी बन जाती हैं।