कोरोना काल में महामारी ने अपने पैर ऐसे पसारे हैं कि कोई भी इससे अछूता नहीं बचा है। कोई बीमारी की चपेट में आ गया, तो कोई इसके प्रभाव से बेरोजगार हो गया। न जाने कितने घरों को उजाड़ दिया कोरोना के कहर ने और कितने ही मासूमों से उनका जीने का सहारा छीन लिया। ऐसे में कुछ लोग कोरोना पीड़ितों के लिए फ़रिश्ते की तरह सामने आये और गरीबों और जरूरतमंदों की मदद की। ऐसा ही एक उदाहरण प्रस्तुत किया मशहूर डांसर मंजरी चतुर्वेदी ने।

मंजरी ने खुद कोविड पॉज़िटिव होने के बावजूद ऐसे कलाकारों की बढ़ चढ़ कर मदद की जो इस महामारी का शिकार होकर आर्थिक रूप से कमजोर हो गए हैं। आइए जानें क्या कत्थक डांसर मंजरी चतुर्वेदी में क्या ख़ास है और इनसे जुड़ी कुछ बातें। 

कौन हैं मंजरी चतुर्वेदी 

manjari chaturvedi sufi dancer

मंजरी चतुर्वेदी भारत की एक लोकप्रिय सूफी कथक नर्तकी हैं। वह लखनऊ घराना से संबंधित हैं और भारतीय शास्त्रीय नृत्य की एक नयी कला जिसे सूफी कथक कहा जाता है, के लिए मशहूर हैं। चतुर्वेदी का जन्म 9 दिसंबर, 1974  लखनऊ में हुआ था। उनके पिता एक भूविज्ञानी थे और उन्होंने अर्जुन मिश्रा के मार्गदर्शन में कथक की शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने पंजाबी सूफी परंपराओं में बाबा बुलेह शाह के योगदान का बारीकी से अध्ययन किया।

खुद भी हुईं कोरोना पॉज़िटिव 

manjari chaturvedi corona

कोरोना महामारी ने साल 2021,अप्रैल में मंजरी को भी अपनी चपेट में लिया ऐसे में  उत्तर प्रदेश, पंजाब और राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों के कई कव्वाली गायक, तबला वादक, सितारवादक और मंच तकनीशियनों ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने के लिए कड़ी प्रार्थना की। मंजरी को कलाकारों के 150 से अधिक परिवारों की दुआएं मिलीं क्योंकि वो उनकी आर्थिक रूप से तब से मदद कर रही हैं जब से महामारी ने अपना कहर लाइव संगीत और नृत्य प्रदर्शन पर बरसाते हुए ऐसी गतिविधियों को रोक दिया है।  

इसे जरूर पढ़ें:मिलिए 76 साल की फैशन ब्लॉगर मिसेज वर्मा से जो बन गई हैं सोशल मीडिया स्टार

करती हैं गरीब कलाकारों की मदद 

helps poor artists

मंजरी उन सभी गरीब कलाकारों की मदद करती हैं जो आर्थिक रूप से असहाय हैं और कोरोना काल में पूरी तरह से बेरोजगार हो गए हैं। उनमें से अधिकांश कलाकार कोई अन्य काम नहीं कर सकते हैं क्योंकि उन्होंने अपना पूरा जीवन संगीत बजाने में लगा दिया है। मंजरी ने अपने नेटवर्क में दोस्तों और लोगों तक पहुंचकर उनके लिए धन जुटाना शुरू कर दिया। पिछले एक साल में, वह 25 लाख रुपये से अधिक धनराशि जुटाने में सफल रही हैं, जिसे प्रत्येक पीड़ित परिवारों को 3,000-5,000 रुपये के मासिक भत्ते के रूप में वितरित किया जा रहा है ताकि वे भूखे न रहें। 

मंजरी ने कही ये बात 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Manjari Chaturvedi (@sufikathak)

मंजरी कहती हैं कि " भारतीय संस्कृति को दुनिया के सामने प्रदर्शित करते समय कलाकार केवल सुंदर पोस्टर चित्र नहीं हैं, जिनका सिर्फ उपयोग किया जाए। वे भी सामान्य नागरिक हैं और सरकार को उनके लिए ठोस योजना बनाने की जरूरत है"। 

सोशल मीडिया पर लगाई मदद की गुहार 

manjari act for poor

मंजरी लोगों को संबोधित करते हुए कहती हैं- "महामारी के दौरान अपने मनोरंजन के लिए आपके द्वारा सुने गए हर एक गीत के लिए, कलाकारों को जीवित रहने में मदद करने के लिए उन्हें दान करें।" मंजरी ने सोशल मीडिया पर दानदाताओं से भी संपर्क किया और जैसे-जैसे यह बात फैली, अधिक से अधिक लोगों ने वित्तीय सहायता के लिए उनसे संपर्क करना शुरू कर दिया। इसके बाद मंजरी ने कॉरपोरेट घरानों, प्रायोजकों और सांस्कृतिक संगठनों को भी मदद के लिए सन्देश भेजा। वित्तीय पारदर्शिता बनाए रखने के लिए, वह कहती हैं, संभावित दाताओं को सीधे लक्षित लाभार्थियों के संपर्क में रखा गया था। पिछले साल लगातार धन का प्रवाह हुआ लेकिन पिछले कुछ महीनों में दानदाताओं की संख्या कम रही है। इस बीच, परिवारों की ज़रूरतें बुनियादी किराने के सामान से आगे बढ़ गई हैं। उनमें से कुछ को कोविड से पीड़ित होने के साथ अब पास के शहरों के अस्पतालों में दवाओं और इलाज के लिए पैसे की जरूरत है।

इसे जरूर पढ़ें:असम की महिला ने जाहिर की कोरोना काल में मां को खो चुके नवजातों को स्तनपान कराने की इच्छा, जानें पूरी खबर

Recommended Video

ऐसे की कलाकारों की मदद 

परिवारों को कुछ आय उत्पन्न करने में मदद करने के लिए, मंजरी ने कुछ सब्जियों की गाड़ियां खरीदने या कढ़ाई कार्यशालाओं में काम दिलाने में भी मदद की। उनकी वित्तीय परेशानियों का स्थायी समाधान खोजने के लिए, उन्होंने पिछले साल अगस्त में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय और बाद में कई राज्य सरकारों को पत्र लिखकर सिफारिश की थी कि ऑनलाइन संगीत कार्यक्रम आयोजित किए जाएं ताकि कलाकार समय-समय पर पैसा कमा सकें। उनमें से कुछ को फायदा हुआ, लेकिन मंजरी का मानना है कि अभी उन कलाकारों के लिए और कुछ करने की भी जरूरत है। 

मंजरी चतुर्वेदी वास्तव में हम सभी को प्रेरणा देती हैं कि कैसे कठिन परिस्थितियों में जरूरतमंदों की मदद करनी चाहिए। उनका ये प्रयास वास्तव में सराहनीय है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:instagram.com @sufikathak