कोरोना महामारी ने न जाने कितने लोगों को घर से बेघर कर दिया है, न जाने कितने लोगों ने अस्पतालों में दम तोड़ दिया और न जाने कितनों को ऑक्सीजन न मिल पाने की वजह से मौत ने गले लगा लिया। यही नहीं सबसे बुरा मंज़र उनके लिए रहा जिन नवजात शिशुओं ने इस महामारी में अपनी मां को ही खो दिया।

वास्तव में दिल दहला देने वाली बात है ये कि एक नवजात शिशु जो पूरी तरह से अपनी मां पर निर्भर होता है वो इस महामारी में अपनी स्तनपान कराने वाली मां को खो चुका है। न जाने कितने मासूमों की ये निष्ठुर दास्तान कोरोना के कहर को बयान करती है। ऐसे में असम की एक महिला रोनिता कृष्णा शर्मा रेखी ने ठानी उन शिशुओं को स्तनपान कराने की जो कोरोना काल में अपनी मां को खो चुके हैं। जानें कौन हैं असम की ये महिला और क्या है उनसे जुड़ी पूरी खबर। 

दो महीने की बच्ची की मां 

assam lady ronita

गुवाहाटी में दो महीने की एक बच्ची की मां ने स्वेच्छा से शहर में उन नवजात बच्चों को स्तनपान कराने की ठानी है, जिन्होंने अपनी मां को कोरोना काल में खो दिया है। असम की रोनिता कृष्णा शर्मा रेखी खुद एक दो महीने की बच्ची की मां हैं और पेशे से प्रोडक्शन मैनेजर हैं। रेखी खुद भी अपनी प्रेग्नेंसी के दौरान कोरोना पॉज़िटिव हुई थीं और इस बीमारी से लड़कर बाहर निकली थीं।  

ट्विटर पर की स्तनपान कराने की पेशकश 

रोनिता कृष्णा शर्मा रेखी ने कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक मेसेज देखा कि कुछ लोग दिल्ली में अपनी मां को खो देने वाले एक बच्चे के लिए किसी महिला से मदद मांग रहे थे। इस मेसेज में उस नन्हें बच्चे को स्तनपान कराने का अनुरोध किया गया था। इसे देखने के बाद ही उनके दिमाग में भी यह बात आई कि अगर गुवाहाटी में भी ऐसे किसी बच्चे को कोई जरूरत लगी तो वो उसकी मदद करेंगी। रेखी ने हाल ही में ट्वीट किया है कि "अगर गुवाहाटी में किसी नवजात को मां के दूध की जरूरत है तो मैं यहां मदद के लिए हूं।" हालांकि अभी तक कोई अनुरोध नहीं आया है, लेकिन रेखी अपने संदेश को विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने बच्चे, अलाया मोहसिन रेखी की देखभाल करते हुए आगे बढ़ा रही हैं। 

प्रेग्नेंसी के दौरान हुई कोविड पॉजिटिव

एक रिपोर्ट के अनुसार रोनिता कहती हैं,'मैं नहीं चाहती कि किसी नवजात बच्चे को कभी अपनी मां से दूर होना पड़े। मैं खुद कोरोना के वक्त में अपनी प्रेग्नेंसी के दौरान कोविड संक्रमित हुई हूं। इसलिए मैं प्रार्थना करती हूं कि कभी किसी गर्भवती महिला को ये मुश्किल ना देखनी पड़े। अगर किसी वजह से किसी नवजात को अपनी मां को खोना पड़ा या उसकी मां की तबीयत बिगड़ी, तो मै उसकी सहायता जरूर करूंगी।'

मुख्य रूप से मुंबई की रहने वाली हैं 

ronita assam lady

रोनिता मुख्य रूप से मुंबई में रहती हैं लेकिन अपनी डिलीवरी के लिए असम के गुवाहाटी आयी थीं। बीते साल जब उनकी प्रेग्नेंसी के तीन महीने ही पूरे हुए थे, तभी वो कोरोना से संक्रमित हो गई थीं। हाल ही में बच्चे की डिलिवरी के लिए वो असम पहुंचीं, लेकिन इसी दौरान मुंबई में फिर से कोरोना के मामले बढ़ने लगे तो वह यहीं रुक गईं। 

रोनिता कृष्णा शर्मा रेखी की इस पहल का समर्थन करने के लिए उनके पति ने उनका पूरा साथ दिया है और उनका ये प्रयास वास्तव में सराहनीय है जिससे हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Ronita Sharma Rekhi (@ronitasharmarekhi)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:freepik and instagram @ronitasharmarekhi