टोक्यो ओलंपिक की शुरुआत इसी महीने 23 जुलाई से होने वाली है। इस ओलंपिक में अलग-अलग खेलों में हिस्सा लेने वाले भारतीय खिलाडियों की संख्या इस बार लगभग 127 है, जिसमें 56 भारतीय महिला खिलाड़ी भी शामिल हैं। पिछले कुछ दशक से ओलंपिक में भारतीय महिला खिलाड़ी बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। ओलंपिक में शामिल होने वाली महिलाओं की लिस्ट में हॉकी टीम भी शामिल है, जो इस बार गोल्ड मेडल अपने नाम ज़रूर करना चाहेगी। 

इस महा खेल और भारतीय महिला खिलाडियों के बारे में करीब से बताने के लिए हरजिंदगी हर रोज किसी न किसी महिला खिलाड़ी से रूबरू करा रही है। पिछली बार आपने हॉकी खिलाड़ी शर्मिला देवी के बारे में ज़रूर जाना होगा। आज इस लेख में हम आपको एक और भारतीय महिला हॉकी टीम की शान मोनिका मलिक के बारे में बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं।

कहां की रहने वाली हैं मोनिका मलिक?

hockey player monika malik tokyo olympics

मोनिका मलिक का जन्म 5 नवंबर, 1993 में हरियाणा के सोनीपत जिले के गांव गामड़ी में हुआ था। बचपन से ही मोनिका को खेलों से लगाव था। मोनिका के पिता चंडीगढ़ पुलिस में हैं। पढ़ाई के साथ-साथ खेल में भी मोनिका का खूब ध्यान रहता था। स्कूल में भी हॉकी के साथ-साथ कई खेलों में हमेशा हिस्सा लेती थी। एक बार मोनिका की दादी को कहा कि तुम हॉकी में अपनी पहचान बना सकती हो, तब से ही मोनिका ने हॉकी खेल में अपना करियर संवारने की ठान ली।

इसे भी पढ़ें: टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करेंगी सुतीर्था मुखर्जी, कभी फर्जीवाड़े में नाम आने पर किया गया था सस्पेंड

मुश्किल नहीं थी राह

know indian hockey team player monika malik tokyo olympics

एक मीडिया हाउस से इंटरव्यू में मोनिका मलिक ने बताया 'भारतीय हॉकी टीम में पहुंचने के लिए बहुत अधिक मेहनत की हैं, खूब पसीना भी बहाया है। शुरुआती दिनों में दादी और पापा ने मुझे बहुत सपोर्ट किया। आगे वो कहती हैं कि लड़की थोड़ी बड़ी हुई नहीं कि उसकी शादी करने में लग जाते थे लेकिन, मेरे घर में ऐसा कुछ नहीं था। खासकर मेरी दादी मुझे भारतीय हॉकी टीम में देखना चाहती थी'। (डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर के बारे में जानें)

जूनियर हॉकी टीम में चयन 

hockey team player tokyo olympics

स्कूल खत्म होने के बाद मोनिका के पिता तक़दीर सिंह ने अपनी बेटी को चंडीगढ़ लेकर आए। चंडीगढ़ आने के बाद तक़दीर सिंह ने मोनिका के खेल में सुधार और आगे बढ़ने के लिए चंडीगढ़ के एक हॉकी एकेडमी में दाखिला दिला दिया। इसके बाद मोनिका ने जिला और राज्य स्तर के मुकाबलों में कई बार श्रेष्ठ प्रदर्शन किए। उनके खेलों को देखते हुए साल 2009 में उनका चयन भारतीय जूनियर हॉकी टीम में कर लिया गया। फिर साल 2011 में सीनियर टीम में शामिल हो गई।

Recommended Video

मोनिका मालिक की उपलब्धियां    

indian hockey player monika mali

साल 2014 में इंचिओन में हुए एशियाई खेलों में ब्रोंज मेडल जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा बनी थीं मोनिका मालिक। 2017 में गिफू में हुए हॉकी के एशिया कप में गोल्ड मेडल और साल 2018 में जकार्ता में हुए एशियाई खेलों में सिल्वर मेडल जीतने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थी। आपको बता दें कि 2009 में जूनियर हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व भी कर चुकी हैं।

इसे भी पढ़ें: टोक्यो ओलंपिक: भारतीय महिला हॉकी खिलाड़ी शर्मिला देवी के बारे में जानें

टोक्यो में क्वालीफाइंग मैच कब है?

indian hockey team player monika malik tokyo olympics

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय महिला टीम ने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराकर पहली बार सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है।  भारत की तरफ से एकमात्र गोल गुरजीत कौर ने दागा। आपको ये भी बता दें कि भारतीय टीम 41 साल बाद ओलंपिक खेलों के सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई हैं। समूचे भारत को उम्मीद है कि इस बार भारतीय महिला हॉकी खिलाड़ी देश के लिए मेडल ज़रूर नाम करेगी। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@firstsportz.com,ravivardelhi.com)