Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    22 साल की उम्र में IAS बनने वाली Smita Sabharwal से आप भी ले सकती हैं इंस्पिरेशन

    आज हम आपको बताने वाले हैं 22 साल की उम्र में आईएएस बनने वाली स्मिता सभरवाल के बारे में। 
    author-profile
    Updated at - 2022-12-26,16:40 IST
    Next
    Article
    ias smita sabharwal journey

    जरूरी नहीं है कि फेमस होने के लिए हमें फिल्मों और टीवी में ही काम करना हो। कई बार लोग अपने शानदार काम और मुकाम के लिए भी जाने जाते हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही शक्सियत के बारे में बताने वाले हैं। 

    आईएएस स्मिता सभरवाल 2000 बैच की आईएएस हैं और अक्सर अपने कार्य की वजह से चर्चा में रहती हैं। एक इंटरव्यू के दौरान वह कहती हैं, "यह सोचना गलत है कि केवल कठिन अध्ययन करके ही कोई सिविल सेवा में सफलता प्राप्त कर सकता है। अंतिम दौर में चयन के लिए आपकी रुचियों और शौक को भी ध्यान में रखा जाता है।" 

    टॉपर हैं IAS Smita Sabharwal

    who is smita sabharwal

    स्मिता सभरवाल IAS को 'जनता अधिकारी' के रूप में भी जाना जाता है। एक आईएएस अधिकारी के रूप में उनके अनुकरणीय कार्य ने उन्हें कई प्रशंसाएं अर्जित की हैं और वह पूरे देश में आईएएस उम्मीदवारों के लिए एक प्रेरणा बन गई हैं। वह 2000 की यूपीएससी परीक्षा में चौथी रैंक हासिल करने वाली आईएएस टॉपर थीं। 

    इसे भी पढ़ेंः IAS Tina Dabi की बैचमेट अर्तिका शुक्ला ने हासिल की थी चौथी रैंक, जानें उनके बारे में

    कहां से की है पढ़ाई 

    स्मिता मूल रूप से दार्जिलिंग की रहने वाली स्मिता ने नौवीं कक्षा से हैदराबाद में पढ़ाई की। उन्होंने सेंट एन्स, मेरेडपल्ली, हैदराबाद से 12वीं की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने अपनी बारहवीं कक्षा (आईसीएसई बोर्ड) में अखिल भारतीय प्रथम रैंक हासिल की। उसके बाद, उन्होंने सेंट फ्रांसिस डिग्री कॉलेज फॉर वूमेन से बी.कॉम किया।

    सिविल सेवा परीक्षा में अपने पहले प्रयास में, स्मिता आईएएस प्रारंभिक परीक्षा में असफल रही। 2000 में अपने दूसरे प्रयास में, उन्होंने न केवल परीक्षा पास की बल्कि 4वीं रैंक भी हासिल की!

    इसे भी पढ़ेंः IAS बनने में आएंगे ये टिप्स काम, टीना डाबी ने भी बताया है सही

    स्मिता सभरवाल ने किए हैं यह काम

    स्मिता सभरवाल को ईमानदार आईएएस अधिकारी के रूप में जाना जाता है। वारंगल में नगर निगम आयुक्त के रूप में उन्होंने "फंड योर सिटी" योजना शुरू की थी। इसके साथ-साथ उन्होंने सार्वजनिक-निजी भागीदारी के साथ फुट ओवर ब्रिज, ट्रैफिक जंक्शन, पार्क, बस स्टॉप जैसी बड़ी संख्या में सार्वजनिक उपयोगिताओं का निर्माण किया गया।

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Photo Credit: Twitter 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।