काम न ही कोई छोटा होता है और न ही कोई बड़ा, बस उस काम को पूरा करने के लिए आपके पास एक संकल्प होना चाहिए, चाहें वो पुरुष हो महिला। अगर महिलाएं ठान लें तो कुछ भी कर सकती है। कुछ ऐसा ही उदहारण प्रस्तुत किया है भरतीय रेलवे के कुछ महिलाओं ने। जी हां, आपने बिल्कुल सही सुना! भारतीय रेलवे में पहली बार मालगाड़ी ट्रेन चलाने वाली पायलट से लेकर गार्ड तक सभी महिलाएं थीं, जो आज भारत में लाखों महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन गई हैं। तो चलिए जानते हैं इन महिलाओं के बारे में और इस ट्रेन के बारें में। 

all women crew in indian railway to drive goods train inside

खबर के अनुसार यह मालगाड़ी महाराष्ट्र के पालघर जिले के वसई रोड़ स्टेशन से माल लेकर गुजरात के वडोदरा पहुंची। कहा जा रहा है कि इस सफ़र को पूरा करने में लगभग सात घंटे लगे। ये भी कहा जा रहा है कि इस ट्रेन में लगभग 43 बंद डिब्बों में 3,686 टन का माल लेकर यह मालगाड़ी गुजरात के वडोदरा पहुंची।

इसे भी पढ़ें: मिलिए उन महिला अधिकारियों से जो डिलीवरी के कुछ ही दिन बाद ड्यूटी पर लौट आई


सभी क्रू मेंबर्स का स्वागत 

all women crew in indian railway to drive goods train inside

ट्रेन स्टार्ट होने से पहले ट्रेन के सभी क्रू मेंबर्स को बेहद ही उत्साह के साथ और फूल देकर बधाई भी दी गई। इस कामयाबी के लिए स्टेशन पर मौजूद कई अन्य अधिकारियों ने कुमकुम एस डोंग, उदिता वर्मा और आकांक्षा रे आदि सभी महिलाओं को शुभकामनाएं भी दी गई। कहा जा रहा है कि इस ट्रेन को महिलाओं ने लगभग 60 किमी प्रति घंटे की औसत गति से निर्धारित जगह पर पहुंचने में कामयाब रही। (फ्लाइट जिसमें सभी क्रू मेंबर्स महिलाएं हैं)

कुमकुम एस डोंग के नेतृत्व में 

all women crew in indian railway to drive goods train inside

कहा जा रहा है कि इस ट्रेन की लोको पायलट कुमकुम एस डोंग थीं। वहीं इस ट्रेन में सहायक लोको पायलट उदिता वर्मा और गुड्स गार्ड आकांक्षा रे थीं। यानि इस ट्रेन में पायलट से लेकर सुरक्षा गार्ड तक सभी महिलाएं ही थी। सभी क्रू मेंबर्स के द्वारा इसे सफलतापूर्वक सफ़र तय करके भारत में एक नया इतिहास रचा है। इस ख़ुशी के मौके पर कई लोगों ने सोशल मीडिया पर बधाई संदेश भी लिखा। 

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: देश की पहली 'वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर' अवार्ड विनर ऐश्वर्या

रेल मंत्री का ट्वीट 

 

इस उपलब्धि के मौके पर देश के रेल मंत्री ने भी सभी महिलाओं को ट्वीट करते हुए बधाई दी। उन्होंने अपने ट्वीट में 'महिला सशक्तिकरण का एक अद्भुत उदाहरण होने का जिक्र किया'। आगे उन्होंने लिख-'इस ट्रेन में लोको पायलट से लेकर गार्ड तक की जिम्मेदारी महिला कर्मचारियों द्वारा संभाली गयी'।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@twitter)