दिल्ली की डॉक्टर सीमा गोयल मिसाल हैं उन सबके लिए जो जिंदगी में हार मानने के मजबूर नहीं हैं। ज़िंदगी कितनी भी मुश्किल क्यों ना हो लेकिन आप अगर उसका सामना हिम्मत से करती हैं तो आप अपनी मंज़िल पर जरूर पहुंच जाती हैं। शादी के 15 साल बाद जब डॉक्टर गोयल को उनके पति से अलग होना पड़ा और उसके 10 साल बाद जब उन्हें ये पता चला कि उन्हें कैंसर है जो उन्होंने इन सारी मुशकिलों का सामना अकेले ही कैसे किया इस बारे में उन्होने बताया। उनकी ज़िंदगी का ये अनुभव पढ़ने के बाद आप भी उनकी तरह मुशकिलों का डटकर सामना करने के बारे में जरूर सोचेंगी। 

women empowerment inside

डॉक्टर सीमा गोयल का दिल्ली में डेंटल क्लिनिक है और उनका एक बच्चा भी है जिसकी परवरिश उन्होंने तलाक के बाद अकेले ही की है। अपनी ज़िंदगी के पन्नों को पलटते हुए डॉक्टर सीमा ने बताया मैने  ऐसे  परिवार मे जन्म लिया था जहां पर सादगी और उच्च विचारों से ज़िंदगी को जीना सीखाया गया है। मेरे माता-पिता इस बात पर विश्वास रखते हैं कि पढ़ाई आपके लिए बहुत जरूरी है चाहे आप उससे कमाई करें या ना करें। किस्मत का भरोसा नहीं होता कि कब पलट जाए और आपको हर परिस्थिति के लिए हमेशा अपने आपको तैयार रखना चाहिए। शिक्षा ही सिर्फ वो सहारा है जिसकी मदद से आप ज़िंदगी की कोई भी जंग लड़ सकते हैँ।

मेरी मां ने हमेशा कहा है जो लड़की अपने लिए कमाना जानती है वो अपनी शर्तो पर जिंदगी जीने के काबिल है। ज़िंदगी में बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं कई बार हार का सामना भी हुआ है। लेकिन हिम्मत से मैने हर मुश्किल का सामना किया है। शुरूआत में मैने भी पैसों की तंगी देखी है। मुझे अपना दांतों को क्लिनिक खोलने के लिए बैंक से लोन भी नहीं मिला मैने अपने गहने बेच कर इसकी शुरूआत की । भगवान की कृपा से शिक्षा और मेहनत से आज मैं इस मुकाम पर हूं। 

women empowerment inside

जब शादी के 15 साल बाद हुआ तलाक 

शादी के 15 साल बाद मेरे पति ने मुझे किसी और औरत के लिए छोड़ दिया। उस समय बहुत बुरा लगा लेकिन मैने फिर भी हिम्मत नहीं हारी। मेरा एक छोटा बच्चा था और मेरा अपना प्राइवेट क्लिनिक था दोनो ही जगह मेरे समय और ध्यान की जरूरत थी । तब मैने अपनी शिक्षा का इस्तेमाल पैसे कमाने के लिए किया। एक अकेली मां होना पैसे कमाना और उस दौरान अपने दर्द को भी संभालना आसान नहीं था। 

मैने अपनी प्राथमिकताओं के बारे में सोचा कई सारे काम एक साथ करने के लिए पहले से प्लानिंग की और वयवस्थित तरीके से काम करने के तरीके से मुझे काफी मदद मिली।

मैने इंटरनेट से अपने स्किल्स को अपडेट किया क्योंकि इसके अलावा मेरे पास और कोई चारा नहीं था। कई सालों की मुश्किलों के बाद मैंने अपने खर्चों को संभालना सीख लिया है। अब मैं अपने हिसाब से जी सकती हूं। अपने पैशन यानि पूरी दुनिया को घूमने का सपने पूरा कर सकती हूं। 

मैने वो सब किया जो मैं कर सकती थी। और अब मैं अपनी आज़ादी का आनन्द ले रही हूं। चाहे कुछ भी हो जाए ज़िंदगी चलती रहती हैं। आपको किसी को इम्प्रेस करने की जरूरत नहीं है बल्कि आप दूसरों को अपने कामयाबी को डील करने के तरीकों से इम्प्रेस होने दें। मैने अपनी ज़िंदगी से जो सीखा है अपने उन्ही अनुभवों से मैं अपनी कामवाली बाई से लेकर अपनी रिसेप्शनिस्ट , ट्रीटमेंट कॉर्डिनेटर, और जूनियर डॉकटर तक सबको यही सलाह देती हूं कि अपने स्किल को आप ज्यादा से ज्यादा बढाएं। अपने तलाक के दर्द ने उभरने के बाद मैंने देखा है कि ज़िंदगी और भी आरामदायक हो चुकी है। 

women empowerment inside

जब एक साथ शरीर में 2 तरह के कैंसर के बारे में पहली बार पता चला

डॉक्टर सीमा गोयल ने ये भी बताया कि उन्हें तलाक के 10 साल बाद जब कैंसर हुआ तो वो चौक गई। उन्होंने बताया कि मेरे शरीर में एक साथ 2 तरह के कैंसर डायग्नॉस हुए। लेकिन इलाज करवाने के लिए मेरे पास मेडिकल पॉलिसी थी जिसे मैने सही समय पर पहले से ही लिया हुआ था। 

तो ऐसे मुश्किल वक्त में मुझे पैसों की चिंता नहीं हुई मैने अपनी फिटनेस के ऊपर ध्यान दिया योगा और मेडिटेशन किया। मैं इस बात पर यकीन रखती हूं कि अच्छी चीज़े उन्हें मिलती हैं जो विश्वास रखते हैं और बेहतरीन चीज़े उन्हें मिलती हैं जिनमें सहने की क्षमता होती है और सबसे बेहतरीन चीज़ें उन्हें मिलती हैं जो कभी हार नहीं मानते। 

मैने मौत को बहुत करीब से अपनी आंखों से देखा है लेकिन फिर भी मैने यही कहा कि मैं अभी ये दुनिया छोड़ने के लिए तैयार नहीं हूं क्योंकि अभी मेरी बहुत सारी जिम्मेदारियां हैं जो अधूरी हैं हालांकि मुझे ज़िंदगी भर जीने के लिए मेडिकल देखभाल की जरूरत है लेकिन फिर भी मैं खुश हूं। 

एक बार जब ये इलाज पूरा हो जाएगा तो मैं आराम महसूस करुंगी। मैं सोचती हूं कि आप जीत सकते हो अगर आप ये सोचो कि आप हरा सकते हो। अपना ताज सीधा करो और किसी रानी की तरह आगे बढ़ों। 

women empowerment inside

दुआ करने से या सोचनें से मुशकिलें नहीं चली जाएंगी कि और ना ही  सब ठीक हो जाएगा आपको मुश्किलों से अच्छे से लड़ना ही होगा। रास्ते में कई मुश्किले तो आएंगी ही। लेकिन अगर आपमें सहने की क्षमता है तो आप बहुत अच्छा कर पाएंगी। आप इन मुशकिलों के बाद ज्यादा मजबूत महसूस करेंगी। कभी भी ज़िंदगी में हार मानने की जरुरत नहीं है आगे बढ़िये हर मुशकिल का सामना करिए। 

कमर कस कर सामना करो तो आप जिंदगी की हर चुनौती का सामना करे पाओगी। 

आखिरकार मैं इस बात से खुश हूं कि मैं जिंदा हूं मेरे पास अगला दिन है सही करने के लिए 

चीज़ो को और अच्छा बनाने के लिए 

दूसरा दिन है कोशिशें करते रहने के लिए 

जिंदगी में अपने लिए अच्छी आशा रखती हूं। 

भगवान के आशीर्वाद के बिना कुछ भी संभव नहीं है और परिवार का साथ जिन्हें मैं सच्चे दिल से हमेशा धन्यवाद देती रहूंगी।