बाजार में आपको तरह-तरह के प्रिंट और ग्राफिक्‍स वाली टी-शर्ट और हुडीज मिल जाएंगी। दिखने में ये जितनी अच्छी और खूबसूरत लगती हैं, इन्‍हें स्टोर करना और नया जैसा बना कर रखना उतना ही कठिन होता है। 

आमतौर पर प्रिंट और ग्राफिक वाली टी-शर्ट और हुडीज में जो सबसे बड़ी दिक्कत देखने को मिलती है, वह यह कि प्रिंट और ग्राफिक क्रेक होने लग जाते हैं। ऐसे में टी-शर्ट या हुडीज का सारा लुक खराब हो जाता है। कुछ मामलों में तो प्रिंट और ग्राफिक उखड़ने भी लग जाते हैं, ऐसे में उन टी-शर्ट और हुडीज को पहन कर आप घर के बाहर नहीं निकल सकते क्योंकि वह दिखने में बेहद भद्दे लगते हैं। 

आज हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे कि ऐसा क्यों होता है और ऐसा न हो इसके लिए आपको क्‍या करना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें: घर पर हैवी दुपट्टा धोते समय इन बातों का रखें ध्यान, नहीं होगा खराब  

How  to  protect  t shirt  prints

क्या है प्रिंट के क्रेक होने का? 

सबसे पहले यह जान लें कि अगर आपकी टी-शर्ट या हुडी में स्‍क्रीन प्रिंटिंग है, तो उसके फेड और क्रेक होने के कम ही चांसेस होते हैं, वहीं अगर आपकी टी-शर्ट या हुडी में डिजिटल स्‍क्रीन प्रिंटिंग हैं तो वह जल्दी फेड और क्रेक होने लगती है क्योंकि उसमें प्लास्टिक बेस्ड इंक का इस्तेमाल होता है। यह इंक बहुत ही थिक होती है और जब यह हीट के संपर्क में आती है, तो क्रेक होने लग जाती है। 

इसके अलावा अगर आप टी-शर्ट या हुडी को बार-बार धोती हैं और सुखाती हैं, तो इस प्रॉसेस में भी प्रिंट और ग्राफिक फेड या फिर क्रेक हो जाते हैं। आजकल कुछ कपड़ों में सिल्क स्क्रीन प्रिंटिंग भी की जाती है। अगर इसकी ड्यूरेबिलिटी पर बात की जाए, तो यह ज्यादा नहीं होती है। 

इसे जरूर पढ़ें: कपड़ों से इंक या स्‍याही के दाग हटाने के 5 आसान हैक्‍स

How  to  fix  a  broken  print  on  clothes

 कैसे प्रिंट या ग्राफिक को क्रेक होने से बचाया जा सकता है? 

  • टी-शर्ट और हुडीज पर लगे फैंसी लोगो, प्रिंट या ग्राफिक से ही उसकी खूबसूरत को मापा जाता है। ऐसे में यदि आप कपड़े को अधिक दिन तक नया जैसा बना कर रखना चाहते हैं, तो इन टिप्‍स को जरूर फॉलो करें। 
  • जब आप टी-शर्ट या हुडी को वॉश (कपड़ों को लॉन्ग लास्टिंग बनाने के लिए टिप्‍स) करें तो कोशिश करें कि उनके रंग और फैब्रिक से मेल खाते कपड़े ही साथ में वॉश करें। प्रिंटेड और ग्राफिक वाले कपड़ों को बटन और जिप लगे हुए कपड़ों के साथ कभी भी वॉश न करें, ऐसा करने से उसमें स्क्रैच आ जाते हैं। 
  • आप नियमित रूप से फिर जल्‍दी-जल्‍दी प्रिंटेड और ग्राफिक टी-शर्ट या हुडी को न पहनें। आप जितना कम ऐसे आउटफिट पहनेंगे, उतना कम वह गंदे होंगे और उन्‍हें वॉश भी कम करना पड़ेगा, जिससे प्रिंट और ग्राफिक्स को कम हानि पहुंचेगी। 
Why  do  prints  on  shirts  crack
  • अगर आप इस तरह के कपड़ों को वॉशिंग मशीन में वॉश कर रही हैं, तो भूल से भी स्ट्रांग वॉशिंग ऑप्‍शन का चुनाव न करें। ऐसे कपड़ों को हमेशा जेंटल वॉश ही दीं। 
  • गर्म पानी से भी आपको इस तरह के कपड़ों को वॉश नहीं करना चाहिए। दरअसल, प्लास्टिक इंक पर इससे बुरा प्रभाव पड़ता है और वह क्रेक होना शुरू हो जाती है। इसलिए हमेशा ऐसे कपड़ों को ठंडे पानी से वॉश करें। 

अगर बेस्ट प्रैक्टिस की बात की जाए तो आप इस तरह के कपड़ों को हाथ से वॉश करें और हार्ड डिटर्जेंट की जगह सॉफ्ट लिक्विड डिटर्जेंट का इस्तेमाल करें। यदि आप इस तरह के कपड़ों को वॉशिंग मशीन में वॉश कर रही हैं तो पहले कपड़े को उल्टा कर लें और फिर उसे वॉशिंग मशीन के अंदर डालें। 

इन बातों का भी रखें ध्‍यान 

  1. कभी भी प्रिंट या ग्राफिक वाली टी-शर्ट या हुडी को तेज धूप में सूखने के लिए न डालें। 
  2. इस तरह के कपड़ों पर जब प्रेस करें, तो गर्म प्रेस प्रिंट पर न रखें। 
  3.  टी-शर्ट या हुडी पर बने प्रिंट पर परफ्यूम या फिर सेंट का प्रयोग न करें। 

 


उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इस‍ तरह के और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।