Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    जानिए क्यों इंडियन रेलवे के स्टेशनों पर लिखा होता है टर्निमल, जंक्शन और सेंट्रल?

    इस लेख में हम आपको बताएंगे कि इंडियन रेलवे के स्टेशनों पर टर्निमल, जंक्शन और सेंट्रल क्यों लिखा होता है। 
    author-profile
    Published -22 Nov 2022, 14:52 ISTUpdated -22 Nov 2022, 15:03 IST
    Next
    Article
    difference between terminal, central and junction station

    आपने कई बार ट्रेन में सफर किया होगा और सफर के दौरान आपने यह भी नोटिस किया होगा कि इंडियन रेलवे स्टेशन पर टर्निमल, जंक्शन या फिर सेंट्रल लिखा होता है लेकिन आखिर किस कारण से कुछ स्टेशन के नाम के पीछे टर्मिनल, जंक्शन या फिर सेंट्रल लिखा होता है इसके बारे में हम आपको इस लेख में बताएंगे। 

    क्यों लिखा होता है जंक्शन?

    आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ स्टेशन के नाम के पीछे जंक्शन लिखा होता है जैसे दिल्ली जंक्शन, इलाहाबाद जंक्शन और अलीगढ़ जंक्शन आदि। आपको बता दें कि अगर किसी स्टेशन के नाम के पीछे जंक्शन लिखा होता है तो उसका मतलब है कि वह ट्रेन कम से कम एक साथ दो रूट से आ सकती है या फिर जा भी सकती है।

    आपको बता दें कि स्टेशन में आने वाली ट्रेनों में कम से कम दो आउटगोइंग ट्रेन लाइनें होनी चाहिए और एक स्टेशन से कम से कम 3 रूट गुजर रही हैं तो वह स्टेशन जंक्शन होता है। जैसे दिल्ली जंक्शन से सदर बाजार, दिल्ली शाहदरा और दिल्ली किशनगंज रेलवे स्टेशन के लिए रूट जाते हैं। 

    इसे भी पढ़ें:ये हैं दुनिया के सबसे पुराने रेलवे स्टेशन

    क्यों लिखा होता है टर्मिनल?

    what is the difference between terminal central and junction railway station

    आपको बता दें कि टर्मिनल स्टेशन हमेशा उस स्टेशन को कहा जाता है जो रूट का आखिरी स्टेशन होता है। इसे टर्मिनस भी कहा जाता है। टर्मिनल स्टेशन पर जो ट्रेन आती है वह उस दिशा में ही जाती है जिस दिशा में उसका आगमन हुआ होता है। आपको बता दें कि टर्मिनल स्टेशन से ट्रेन एक ही दिशा में प्रवेश कर सकती है।

    कई सारे स्टेशनों के नाम के पीछे टर्मिनल या फिर टर्मिनस लिखा हुआ होता है। जैसे छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस के आगे कोई रेलवे लाइन नहीं है इसलिए इस स्टेशन के नाम के पीछे टर्मिनल लिखा होता है।

    इसे भी पढ़ें- क्या आप जानती हैं भारत के इन 5 सबसे बड़े रेलवे स्टेशन्स के बारे में? जानें क्या है इनकी खासियत

    क्यों लिखा होता है?

    आपको बता दें कि सेंट्रल उन स्टेशनों के नाम के पीछे लिखा होता है जो सबसे महत्वपूर्ण स्टेशन होते हैं और ऐसे स्टेशन शहर के बहुत पुराने स्टेशन होते हैं। जिस स्टेशन के आखिर में सेंट्रल लिखा होता है वह स्टेशन बहुत व्यस्त स्टेशन भी माना जाता है और ये स्टेशन बाकी स्टेशनों के मुकाबले अधिक बड़े होते हैं।

    सेंट्रल स्टेशनों के जरिए दूसरे बड़े शहरों को एक दूसरे से जोड़ा जाता है। आपको बता दें कि भारत में केवल पांच सेंट्रल स्टेशन हैं। इन स्टेशन का नाम कानपुर सेंट्रल, मुंबई सेंट्रल, त्रिवेंद्रम सेंट्रल और चेन्नई सेंट्रल है। 

    तो यह थी जानकारी इंडियन रेलवे स्टेशन से जुड़ी हुई। उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें आर्टिकल के नीचे आ रहे कमेंट सेक्शन में कमेंट करके जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

     

    image credit- freepik/rail info 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।