दुनिया की छत कहा जाने वाला लेह-लद्दाख बहुत ही खूबसूरत भी है और साथ ही साथ अलौकिक एक्सपीरियंस दे सकता है। आप वहां जाएंगे तो ऐसा लगेगा जैसे किसी दूसरी दुनिया का हिस्सा बन गए हों। वहां कश्मीर की तरह हरियाली नहीं बल्कि बंजर पहाड़ दिखेंगे जो इतने मनमोहक होंगे कि आप वहां जाने के बाद खुद को हज़ारों तस्वीरें खींचने और इस माहौल का मज़ा उठाने से रोक नहीं पाएंगे। पर ये जितना अलौकिक एक्सपीरियंस लगता है उतना ही खतरनाक भी साबित हो सकता है। 

मैं हाल ही में लेह-लद्दाख ट्रिप से वापस आई हूं वहां से आने के बाद कुछ बातों की जरूरत महसूस हुई है जिनके बारे में मुझे पहले नहीं पता था। लेह-लद्दाख एडवेंचर ट्रिप साबित हो सकती है, लेकिन आपकी पूरी ट्रिप का एक्सपीरियंस खराब भी हो सकता है अगर आपने ध्यान ना दिया तो। 

लेह-लद्दाख महंगा भी है और अगर आप खुद ट्रिप प्लान करेंगे तो ये सस्ता भी पड़ सकता है, लेकिन यहां पर कई लोगों को जो समस्याएं होती हैं उनके बारे में आज मैं आपको बताती हूं। 

pandogn

1. ऑक्सीजन की समस्या का रखें ध्यान-

मेरी और प्लेन जगह से आने वाले लोगों की सबसे बड़ी गलती ये होती है कि पहले दिन लेह पहुंचने के बाद ही वो ऊपर की ओर जाने की कोशिश करते हैं। यकीन मानिए मैंने भी यही किया और परेशानी काफी ज्यादा हुई। लेह में ऑक्सीजन लेवल नॉर्मल से कम है और ऊपर चढ़ने पर तो ये और भी ज्यादा कम होने लगता है। नुब्रा, चांगला पास, खारदुंगला पास, पैंगोंग लेक आदि जगहों पर दो-तीन दिन बाद ही जाएं। पहले दो दिन लेह सिटी में ही रहें क्योंकि अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो हाई एल्टिट्यूड पर बीमार होने की गुंजाइश ज्यादा हो जाएगी। 

ladakh pass

इसे जरूर पढ़ें- Article 370: तो क्या अब बदल जाएगी लद्दाख ट्रिप? आपके प्लान पर होगा ये असर!

2. इनर लाइन परमिट का ध्यान रखें-

लद्दाख की दूसरी बड़ी समस्या ये होती है कि वहां कई जगहों पर जाने के लिए परमिट लगता है। अगर आपने ध्यान नहीं दिया तो वो परमिट आपको नहीं मिलेगा और आपको वो जगह घूमने नहीं मिलेगी। कई बार टूर-ट्रैवल एजेंट्स भी इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं और ऐसे में टूरिस्ट परेशान होते हैं। खारदुंगला पास, पैंगोंग लेक जैसी जगहों पर जाने के लिए तो आपको यकीनन परमिट लगेगा और उसका ध्यान जरूर रखें। 

ladakh trip

3. हर जगह फोटोग्राफी ना करें-

माना लद्दाख बहुत खूबसूरत है, लेकिन आपको ये ध्यान रखना होगा कि आप कहां फोटोग्राफी करें और कहां नहीं। लद्दाख में जगह-जगह मिलिट्री बेस है और ऐसे में अगर आप जरा सी भी चूक करते हैं तो आपको भुगतान करना पड़ सकता है। इतना ही नहीं लेह एयरपोर्ट भी मिलिट्री एयरपोर्ट है जहां आपको फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करने की सख्त मनाही है। अगर आप ऐसा करने की कोशिश करते हैं तो आपकी तस्वीरें डिलीट करवा दी जाएंगी और हो सकता है कि आपको काफी देर लगे मिलिट्री वालों को ये समझाने में कि आपका तस्वीरें खींचना आम था। ध्यान रखें कि आप कहां फोटोज खींच रहे हैं। 

Recommended Video

4. बाइक ट्रिप बिना तैयारी के करना- 

जैसा कि आपको बताया है कि लद्दाख ट्रिप आसान नहीं है और अधिकतर लोगों को लगता है कि लद्दाख में बाइक ट्रिप ही अच्छी होती है। यकीनन बाइक यहां घूमने का सबसे अच्छा तरीका हो सकती है, लेकिन वो तब जब आप पूरी तरह से तैयार हों।  

अगर आपने ठीक ठंड वाले कपड़े नहीं रखे हैं, एक्स्ट्रा पेट्रोल नहीं रखा है, एल्टिट्यूड से होने वाली बीमारियों की दवाएं नहीं रखी हैं, पोर्टेबल ऑक्सीजन (अगर आपको जरूरत हो तो), इनर लाइन परमिट, खाने-पीने की कुछ चीज़ें, इलेक्ट्रॉल आदि जरूरी सप्लाई नहीं रखी हैं तो लद्दाख आपको काफी परेशान कर सकता है। याद रखें कि यहां लोग अधिकतर बीमार पड़ जाते हैं और दिल से जुड़ी समस्याओं, सांस लेने से जुड़ी समस्याओं आदि में आपके लिए बाइक लेकर लद्दाख घूमना अच्छा नहीं होगा।  

ladakha tour and travel

इसे जरूर पढ़ें- भारत के 5 सबसे ठंडे शहर, यहां पड़ती है पलकें जमा देने वाली ठंड 

5. बहुत हैवी खाना- 

आपका शरीर डिहाइड्रेट ना हो इसके लिए पर्याप्त पानी पीना जरूरी है, लेकिन घूमने के दौरान बहुत हेवी खाना ना खाएं। खाना खाना जरूरी है, लेकिन बहुत हेवी खाना खाने से ना सिर्फ गैस से जुड़ी समस्याएं होंगी बल्कि चलते समय आपकी सांस ज्यादा फूलेगी। सांस फूलना लेह-लद्दाख में एक बहुत बड़ी समस्या है और इसका ध्यान रखना आपके लिए बहुत जरूरी है।  

ये कुछ बातें लेह ट्रिप प्लान करने से पहले जरूर ध्यान रखें। साथ ही अगर आप हाई एल्टिट्यूड पर जाएं और सांस लेने में दिक्कत हो रही हो तो तुरंत 500-700 मीटर नीचे आ जाएं। खारदुंगला जैसी जगह पर ऑक्सीजन 50% तक पहुंच सकता है इसलिए वहां ज्यादा देर ना रुकें।  

जहां भी घूमें सुरक्षित रहें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।