बेंगलुरु एक जीवंत शहर है, जहां देखने और घूमने के लिए एक से एक बेहतरीन जगहें हैं। एक तरह से इस शहर में आपको आधुनिक और प्राचीन का एक बेहतरीन मिश्रण देखने को मिलेगा। लेकिन, इस शहर में कुछ ऐसी भी जगहें हैं जहां जाना खतरे से खाली नहीं कहा जाता है।

जी हां, आज इस लेख में हम आपको बेंगलुरु की उन भुतहा जगहों के बारे बताने जा रहे हैं, जहां शायद ही अकेले कोई जाना चाहेगा। बेंगलुरु में मौजूद इन भुतहा जगहों की कहानी भी बेहद दिलचस्प है, तो आइए जानते हैं इन भुतहा जगहों के बारे में।

कल्पल्ली कब्रिस्तान

most haunted places in bangalore inside

वैसे तो बेंगलुरु में एक से एक डरावने कब्रिस्तान है लेकिन, सबसे अधिक चर्चित है कल्पल्ली कब्रिस्तान है। यह जगह कई डरावनी कहानियों के लिए मानी जाती हैं। स्थानीय लोगों कि मानें तो उनका कहना होता है कि इस जगह के आसपास की हवा इतनी भारी होती है कि इन्सान दम घुटने जैसा महसूस करने लगता है। शाम होते ही इस जगह के आसपास कोई भी अकेले जाने से डरता है।

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: वारंगल फोर्ट: दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन ऐतिहासिक धरोहर में से एक

सेंट मार्क रोड

most haunted places in bangalore inside

बेंगलुरु में मौजूद सेंट मार्क रोड भी भुतहा जगहों में शामिल है। कहा जाता है कि यहां एक प्राचीन घर है जो भुतहा माना जाता है। लोगों कि मानें तो इस घर में मालिक की हत्या कर दी गई थी जिसके बाद उसकी आत्मा आज भी भटकती है और इस घर से अजीब-अजीब आवाजें सुनाई देती हैं। कहा जाता है कि इस घर का निर्माण ब्रिटिश काल में हुआ था।

 

राष्ट्रीय राजमार्ग 4

know most haunted places in bangalore inside

सिर्फ बेंगलुरु में ही नहीं बल्कि भारत के कई हिस्सों में राष्ट्रीय राजमार्ग भुतहा कहानियों के लिए प्रसिद्ध हैं। बंगलौर में मौजूद राष्ट्रीय राजमार्ग 4 भी डरावनी कहानियों के लिए फेमस है। लोगों कि मानें तो उनका कहना होता है कि रात को कई बार सफ़ेद कपड़े में लिपटे आत्मा लोगों से लिफ्ट मांगती है। कई बार ये भूत आपस में लड़ाई भी करते देखे गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: चंडीगढ़ से महज 110 किमी की दूरी पर है खूबसूरत चैल हिल स्टेशन

बरगद वृक्ष

haunted places in bangalore inside

बेंगलुरु से लगभग 150 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद दूर टिपुर क्षेत्र में एक बड़ा बरगद का पेड़ है, जो भुतहा जगहों में से एक है। इस पेड़ पर प्रेत निवास करते हैं। कहा जाता है कि जब भी इस पेड़ को काटने का फैसला लिया जाता है, तो कोई न कोई घटना हो जाती है। लोगों की मानें तो यहां आज भी कई आत्मा रहते हैं और रात में उनकी आवाजें सुनाई देती हैं।

नोट: यह लेख लोक कहानियों पर आधारित है।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit(@i.ytimg.com,theplanetsworld.com)