• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

क्या आप जानते हैं कि कोल्हापुर का नाम कोल्हापुर कैसे और क्यों पड़ा?

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि कोल्हापुर का नाम कोल्हापुर कैसे और क्यों पड़ा तो इस लेख को ज़रूर पढ़ें।  
author-profile
Published -21 Sep 2022, 07:00 ISTUpdated -20 Sep 2022, 18:26 IST
Next
Article
know why kolhapur is called kolhapur

कोल्हापुर महाराष्ट्र की एक फेमस और लोकप्रिय जगह है। यह शहर खान-पान के अलावा अपनी सांस्कृतिक और पारंपरिक चीजों के लिए भी फेमस हैं। इस शहर में हर दिन हजारों देशी और विदेशी सैलानी घूमने के लिए पहुंचते हैं।

लेकिन अगर आपसे यह पूछा जाए कि कोल्हापुर शहर का नाम कोल्हापुर कैसे पड़ा और क्यों पड़ा तो फिर आपका जबाव क्या हो सकता है?

इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि कोल्हापुर का नाम कोल्हापुर क्यों, कब और कैसे पड़ा। आइए जानते हैं।

कोल्हापुर का इतिहास 

Kolhapur History In Hindi

इस शहर का नाम कोल्हापुर क्यों पड़ा यह जानने से पहले इस शहर का प्राचीन इतिहास जान लेते हैं। इस शहर का इतिहास बेहद दिलचस्प है। यह शहर ब्रिटिश भारत के समय भारतीय मराठा की राजकीय रियासत थी। उस समय यह दक्कन विभाग के अंतर्गत था। 

कहा जाता है कि उस समय यह मराठा साम्राज्य का चौथी सबसे महत्वपूर्ण रियासत थी। एक अन्य कहानी है कि भारत की आजादी से पहले यह शहर 19 तोपों की सलामी रियासत के नाम से भी फेमस था।

इसे भी पढ़ें: वैष्णो देवी जा रहे हैं तो आसपास स्थित इन जगहों पर भी घूमने ज़रूर पहुंचें

कोल्हापुर का प्राचीन नाम 

know Kolhapur Name Information In Hindi

प्राचीन काल और मध्यकाल में इस शहर को कई नामों से जाना जाता था। कहा जाता है यह शहर 'दक्षिण काशी' के अलावा 'अंबाबाई' के नाम से भी जाना जाता था। एक अन्य कहानी है कि इस शहर को 19 तोपों का शहर भी बोला जाता था। (कोल्हापुर में घूमने की जगहें)

Recommended Video

कोल्हापुर का नाम कोल्हापुर क्यों पड़ा?

Kolhapur Name Information

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस शहर में एक कोल्हासुर राक्षस रहता है जिसके अत्याचार से स्थानीय लोग बहुत परेशान रहते थे। लोगों ने महालक्ष्मी देवी से प्रार्थना की कि इस अत्याचार से दूर करें। इस प्रार्थना के बाद कोल्हासुर राक्षस से महालक्ष्मी के साथ नौ दिनों तक युद्ध चला और अंत में कोल्हासुर हार गया। 

युद्ध हारने के बाद कोल्हासुर राक्षस मां महालक्ष्मी के पास गया और उनसे वर मंगा कि इस शहर को मेरे नाम का पहचान दीजिए। तब से कहा जाता है कि इस शहर को कोल्हासुर का नाम बदलकर कोल्हापुर रख दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: ट्रेन लेट होने पर यात्रियों को मुफ्त में मिलती हैं ये सुविधाएं, आप भी जानें


कोल्हापुरी चप्पल से मिली पहचान 

यह हम सभी जानते हैं कि कोल्हापुरी चप्पल पूरे भारत में बेहद पसंद किया जाता है। कहा जाता है कि इस शहर को पहचान काफी हद तक कोल्हापुरी चप्पल से भी मिली है। 

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks,temples-in-kolhapur)

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।