Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    राजस्थान में बनी भगवान शिव की 369 फीट ऊंची प्रतिमा, जानें क्या है इसकी खासियत

    हाल ही में बनी शिव भगवान की सबसे बड़ी मूर्ति के दर्शन करने के लिए आपको 6 नंवबर तक रूकना पड़ेगा।
    author-profile
    Updated at - 2022-11-01,14:18 IST
    Next
    Article
    all about world tallest shiva statue built in rajasthan

    सत्य ही शिव है शिव ही सुंदर, यह गाने के बोल आपने भी जरूर सुने होंगे? भगवान शिव देवों के देव हैं, इसलिए उन्हें महादेव के नाम से पुकारा जाता है। शिव की महिमा अपंरपार है। दुनिया भर में शिव भगवान की कई मूर्तियां मौजूद हैं। हाल ही में राजसमंद के नाथद्वारा की गणेश टेकरी पहाड़ी पर शिव की प्रतिमा स्थापित की गई है। मूर्ति के उद्घाटन के बाद से ही यानि 29 अक्टूबर से 6 नंवबर तक धार्मिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। चलिए विस्तार से जानते हैं इस मूर्ति की खासियत से लेकर बनने तक की कहानी। 

    दुनिया की पांचवी बड़ी भगवान शिव की मूर्ति

    भारत में शिव भगवान के कई प्राचीन मंदिर हैं। साथ ही कई मूर्तियां भी हैं। हाल ही में राजस्थान के राजसमंद जिले के नाथद्वारा में शिव भगवान की प्रतिमा बनाई गई है। इसका काम करीब 10 साल से चल रहा था। संत मोरारी बापू ने इस मूर्ति को बनाने की नींव रखी थी। यह मूर्ति कई मान्यों में बेहद खास है क्योंकि यह दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी मूर्ति है। इस मूर्ति की ऊंचाई 369 फीट है, जिसका नाम विश्वास स्वरूपम रखा गया है। 

    ये हैं शिव जी की अन्य बड़ी मूर्तियां

    world tallest shiva statue name

    • नेपाल में भी शिव की 143 मीटर ऊंची प्रतिमा मौजूद है। यह कैलाशनाथ महादेव के नाम से जानी जाती है। 
    • भगवान शिव की दूसरी सबसे ऊंची प्रतिमा 123 मीटर है। यह कर्नाटक में स्थित है, जिसे मरूद्वेश्वर कहा जाता है। 
    • आदियोग के नाम से प्रसिद्ध  मूर्ति के बारे में ज्यादातर लोग जानते हैं। यह मूर्ति तमिलनाडु के कोयम्बटूर शहर में बनाई गई है। यह करीब 112 मीटर ऊंची है। 
    • मॉरीशस में मंगल महादेव की 108 मीटर ऊंची प्रतिमा स्थापित है।

    किसने बनाई है यह मूर्ति?

    भगवान शिव की यह मूर्ति नरेश कुमार ने बनाई है। वह राजस्थान के पिलानी गांव के वासी हैं। उन्होंने यह मूर्ति मानेसर में बनाई है। 

    इसे भी पढ़ें: राजस्थान का कर रहे हैं 3 दिन का ट्रिप प्लान, तो करें इन जगहों को एक्सप्लोर

    शिव जी का किया जाएगा जलाभिषेक

    शिव जी का जलाभिषेक भी किया जाएगा। इसके लिए सिर के पास दो टैंक लगाए लगे हैं, जिसमें एक टैंक के द्वारा शिव जी की जटाओं से गंगाजल बहेगा। वहीं दूसरा टैंक आपातकालीन स्थिती के लिए बनाया गया है। 

    इसे भी पढ़ें: राजस्थान की 10 सबसे फेमस ऐतिहासिक जगहों की झलक आप भी देखें इन तस्वीरों में

    क्या खास है मूर्ति में?

    • इस मूर्ति में भगवान शिव ध्यान मुद्रा में बैठे हैं। 
    • मूर्ति की ऊंचाई के कारण यह आपको काफी दूर से ही नजर आ जाएगी। 
    • प्रतिमा को देखने के लिए 280 फीट तक लिफ्ट जाएगी, जहां से आप अरावली पहाड़ी का खूबसूरत नजारा देख पाएंगे। 
    • इसके अलावा आप लिफ्ट के जरिए भगवान शिव के त्रिशूल भी देख पाएंगे। 
    • यहां लोग आराम से बैठ सकें इसके लिए हॉल भी बनाया गया है। 
    • मूर्तिकार ने बताया है कि इस मूर्ति को ढाई हजार साल तक कुछ नहीं होगा। 
    • मूर्ति को लेजर लाइट्स से भी सजाया गया है, जिससे रात के समय में इस मूर्ति की का रिफलेक्शन नजर आएगा। 
    • यह कहा जाता है कि नंदी के बगैर शिव अधूरे हैं। ऐसे में शिव जी के ठीक सामने नंदी जी की भी मूर्ति बनवाई गई है, जो 25 फीट ऊंची और 37 फीट चौड़ी है। 

    राजसमंद शहर की खासियत?

    all about rajsmand lakeराजसमंद शहर का नाम झील के नाम पर पड़ा है। राणा राज सिंह मेवाड़ ने 17वीं शताब्दी में राजसमंद झील का निर्माण किया था। ऐसे में आप अगर इस प्रतिमा को देखने जाएं तो इस झील की खूबसूरती का भी आनंद उठा सकते हैं। यह झील नाथद्वारा से करीब 25-30 मिनट दूर है। 

    उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

    Image Credit: freepik

     

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।