राजस्थान यानि एक तरह से ऐतिहासिक इमारत और अद्भुत फोर्ट के लिए पूरे विश्व भर में प्रसिद्ध है। यहां के हर जिले में आपको एक से बढ़कर एक ऐतिहासिक फोर्ट मिल जायेंगे, जो भारत के लिए एक गौरवपूर्ण इतिहास रखता है। इन फोर्ट में घूमने के लिए देश से लेकर विदेशों तक के सैलानी हर साल लाखों की तदाद में आते हैं। राजस्थान के जैसलमेर शहर में एक ऐसा ही फोर्ट है, जो सभी सैलानियों को आश्चर्यचकित कर देता है। हम बात कर रहे हैं 'जैसलमेर फोर्ट' के बारे में, जो भारत के इतिहास के साथ अपनी बेहतरीन संरचना के लिए पूरे विश्व भर में विख्यात है। जैसलमेर फोर्ट ने मध्य काल में कई लड़ाइयों को देखा है और आज भी वैसे के वैसे भी खड़ा है। तो चलिए इस लेख में इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जानते हैं।

जैसलमेर फोर्ट का इतिहास 

interesting facts about jaisalmer fort inside

रावल जैसल नामक भाटी राजपूत शासक द्वारा वर्ष 1156 में बनाया गया इस किले को। इसे किले को पाने के लिए मध्य काल में दिल्ली के सुल्तान द्वारा दो बार आक्रमण किया गया था। कहा जाता है कि वर्ष 1541 में फिर से हुमायूं ने भी इस महल पर आक्रमण किया जिसके बाद यहां के राजा को अपनी बेटी की शादी हुमायूं  के बेटे अकबर से करनी पड़ी। जिसके बाद आक्रमण नहीं हुआ और महल को भी सुरक्षित किया गया।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के इन 3 ऑफबीट ट्रेवल डेस्टिनेशन्स को विजिट करना है बेहद एक्साइटिंग

सोनार किला और स्वर्ण किला 

interesting facts about jaisalmer fort inside

कई लोग तो सिर्फ इसे जैसलमेर किले के नाम से ही जानते हैं, लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कई लोग इसे सोनार किला या स्वर्ण किले के रूप में भी जानते हैं। कहा जाता है कि इस महल के ऊपर एक जासूसी उपन्यास भी लिखा गया था, और आगे चल के इसी उपन्यास पर एक फिल्म भी बनी थी। कहा जाता है कि इस फिल्म के बनने के बाद ही इस फोर्ट को सोनार किला या स्वर्ण किला के नाम से जाना जाने लगा। (जैसलमेर की इन जगहों पर घूमना है बहुत खास)

फोर्ट की वास्तुकला

facts about jaisalmer fort inside

कहा जाता है कि भारत में ऐसे बहुत कम ही फोर्ट है जहां आपको एक साथ इस्लामी और राजपुताना शैली की वास्तुकला का एक अद्भुत संगम देखने को मिलेगा। लेकिन, अगर आपको सच में एक साथ इस्लामी और राजपुताना शैली की वास्तुकला का उदहारण देखना है, तो इसके लिए जैसलमेर फोर्ट बेस्ट किला है। पीले बलुआ पत्थरों से तैयार और बेहतरीन नक्काशी और डिजाइन के चलते आज यह महल यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है। (जैसलमेर जाने का है प्लान तो जरूर करें ये 5 चीज़ें

Recommended Video

फोर्ट में बाज़ार 

interesting facts about jaisalmer fort inside

कहा जाता है कि भारत में एक मात्र ऐसा फोर्ट है जहां मध्य काल में हर रोज आम लोगों के लिए दुकाने गलती थी, जहां शहर के बाहर से आकर कोई भी खरीदारी कर सकता था। उस समय यहां विदेशी सामान भी इस बाज़ार में खरीदने और बिकने का कई बार जिक्र किया जाता है। सजावट की सामान, मसाला, आनाज आदि इस बाज़ार में प्रमुख रूप से मिलते थे।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान की राजधानी जयपुर के बारे में कितना जानती हैं आप, ये क्विज खेलें और जानें


अन्य जानकारी 

  • कहा जाता है कि इस फोर्ट की मुख्य दीवारें तीन परतों में बनाई गई है, ताकि दुश्मनों को तोड़ने में आसान न हो।  
  • किले के अंदर महारावल पैलेस, ताज़िया टॉवर जैसे कई प्रमुख इमारत के लिए यह फोर्ट प्रसिद्ध है।  
  • ये भी कहा जाता है कि रेगिस्तान में होने चलते और सूरज की किरणों चलते इस फोर्ट का रंग कभी-कभी पीले रंग में भी तब्दील हो जाती है।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@www.tripsavvy.com,polarsteps.s3.amazonaws.com)