भारत में नवरात्रि का दिन महापर्व की तरह होता है। देश भर में धूम-धाम में मां दुर्गा की पूजा होती है। लेकिन, अगर बात की जाए भारत में सबसे अधिक नवरात्र को लेकर कहां उत्साह होती है, तो कोलकाता शहर सबसे ऊपर होगा। इस राज्य में दुर्गा पूजा का एक अलग ही रूप देखने को मिलाता है। देश के कोने-कोने से इस शहर में दुर्गा पूजा देखने के लिए लोग पहुंचते हैं।

अगर आप इस साल कोलकाता में दुर्गा पूजा देखने के लिए जा रहे हैं, तो पूजा देखने के साथ-साथ आपको बिरला तारामंडल भी ज़रूर पहुंचना चाहिए। एशिया का सबसे बड़ा और दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा तारामंडल कहा जाता है। आज इस लेख में हम आपको बिरला तारामंडल के बार में करीब से बताने जा रहे हैं, जिसके बाद आप भी यहां घूमने जाना ज़रूर पसंद कर सकते हैं, तो आइए जानते हैं।  

बिरला तारामंडल का इतिहास

birla planetarium kolkata isnide

बिड़ला तारामंडल की स्थापना साल 1962 में सितंबर में महीने में हुई थी। लेकिन, औपचारिक रूप से साल 1963 में उस समय के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा इस विशाल तारामंडल का उद्घाटन किया गया था। यह तारामंडल यह शिक्षा, अनुसंधान और वैज्ञानिक के विकास के फील्ड में एक बड़ा कदम था क्योंकि, उस समय भारत में स्थापित होने वाला एक विशाल तारामंडल था।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह एकल मंजिला गोलाकार भवन है, जिसे भारतीय शैली में डिज़ाइन किया गया है। कहा जाता है कि बिरला तारामंडल की वास्तुकला सांची के बौद्ध स्तूप से मिलती जुलती है। यह एक खगोल विज्ञान गैलरी है जहां, खगोलीय मॉडल के विशाल संग्रह आदि चीजें दिखाई जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: अटेर का किला: मध्य प्रदेश में मौजूद एक प्राचीन और भव्य फोर्ट

बिरला तारामंडल में शो का समय

birla planetarium kolkata isnide

बिरला तारामंडल पर्यटकों के लिए एक नहीं बल्कि कई शो का आयोजन किया जाता है। इसके अलावा एक नहीं बल्कि कई भाषाओं में भी आयोजन किए जाते हैं। तो आइए समय के बारे में जानते हैं। हालांकि, आपको बता दें कि ये समय ऊपर-नीचे सकते हैं।

  • अंग्रेजी में- दोपहर-1:30 बजे और शाम 6:30 बजे
  • हिंदी में- 12:30 बजे और शाम 4:30 बजे
  • बंगाली में- 3:30 बजे और शाम 5:30 बजे

Recommended Video

बिरला तारामंडल शो टिकट की कीमत

birla planetarium kolkata inside

बिरला तारामंडल में शो देखने के लिए पर्यटक और स्टूडेंट्स के लिए टिकट की कीमत अलग-अलग है। व्यस्क पर्यटकों के लिए टिकट की कीमत लगभग 100 रुपये के आसपास है और स्टूडेंट्स के लिए लगभग 40 रुपया है। छोटे बच्चों के लिए लगभग 5 से 10 रुपये की टिकट है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यहां घूमने का सबसे बेस्ट समय नवरात्र के दिनों में ही माना जाता है क्योंकि, इस समय शहर में हर तरह ख़ुशी का माहौल रहता है।

इसे भी पढ़ें: भारत की 9 सबसे ऊंची चोटियों की एक झलक आप भी देखें इन तस्वीरों में

आसपास घूमने की जगह

ऐसा नहीं है कि बिरला तारामंडल के आसपास घूमने के लिए कोई जगह नहीं है। इसके आसपास मौजूद विक्टोरिया मेमोरियल, जोरासांको ठाकुर बाड़ी, इस्कॉन मंदिर, सेंट जॉन चर्च और भारतीय संग्रहालय जैसी बेहतरीन जगहों पर भी घूमने के लिए जा सकते हैं। साथ ही निक्को पार्क, मार्बल पैलेस और बॉटनिकल गार्डन आदि जगहों पर भी घूमने के लिए जा सकते हैं।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@i.ytimg.com)