सोलो ट्रैवल अपने साथ कई अनोखे अनुभव और उन्हें अपनी शर्तों पर अपनाने की आजादी लेकर आता है। आप अपनी कल्पना से परे स्थानों की खोज करते हैं और कई रोचक पलों को जीते हैं। सोलो ट्रैवल में कोई आपको टोकने वाला नहीं होता। कहां जाना है? कहां खाना है और क्या करना है ? सब आपकी अपनी पसंद के ऊपर होता है।

बीते कुछ सालों में सोलो ट्रैवलिंग का चलन काफी ज्यादा बढ़ने लगा है और पुरुषों के साथ-साथ महिलाएं भी इसमें आगे बढ़ रही हैं। अब जब सोलो ट्रैवलिंग की बात है, तो सवाल उठता है अकेले रहने का... एक पुरुष तो फिर भी एडजस्ट कर सकता है, लेकिन महिलाओं के लिए अक्सर यह सेफ्टी का सवाल खड़ा करता है।

सोलो ट्रैवलिंग को बढ़ते देख देश की कई जगहों पर होस्टल की सुविधाएं होने लगी है। इन में वह सारी चीजें उपलब्ध होती हैं, जो आप एक होटल में पा सकते हैं, बल्कि उससे कई ज्यादा एक्टिविटीज यहां करने का मौका मिलता है। आप लोगों से घुल-मिल सकते हैं। नए दोस्त बनाते हैं और कंफर्टेबल होकर इन जगहों पर रह सकते हैं।

अगर आप एक सोलो ट्रैवलर हैं, तो आपको इस आर्टिकल को जरूर पढ़ना चाहिए। इसमें हम आपको कुछ ऐसे होस्टल के बारे में बताएंगे, जो आपके बजट में होंगे और महिलाओं के लिए खासतौर पर सेफ होंगे।

जोस्टल, लद्दाख

zostel ladakh

अगर आप लेह-लद्दाख की यात्रा पर जा रही हैं, तो वहां वैसे भी कई चीजों का ध्यान रखना जरूरी है। अब ऐसे में रहने की टेंशन लेना एक बड़ी समस्या हो जाती है। अगर आप लद्दाख में हैं, तो रुकने के लिए जोस्टल का सहारा ले सकती हैं। यह साफ-सुथरा और आरामदायक होस्टल है, जहां कई सारे रूम्स आपको कम कीमतों पर उपलब्ध होंगे। यहां जाने से पहले फोन पर एक बार बुकिंग की बात कर लें। यहां आपको 479 रुपये/ रात में भी बेड मिल जाता है, लेकिन उसके लिए डेट और समय अनुकूल होना चाहिए। फ्री वाई-फाई की सुविधा मिलती है, जिससे आपके काम आसान हो सकते हैं। ब्रेकफास्ट के लिए आपको शुल्क देना पड़ता है।

ट्रिपर बीच होस्टल, गोकर्णा

tripper beach hostel gokarna

गोवा से बोर हो चुके लोग गोकर्णा जरूर जाते हैं। अगर अब तक आप वहां नहीं गई हैं, तो आपको वहां जरूर जाना चाहिए। और अगर रुकने की चिंता हो, तो आप ट्रिपर बीच होस्टल में रुक सकती हैं। समुद्र के किनारे इस खूबसूरत कोजी से होस्टल में रहने का मजा ही अलग होगा। गोकर्ण बीच के पास बना यह सस्ता हॉस्टल महाबलेश्वर मंदिर से तीन कि.मी. और गोकर्ण रोड रेलवे स्टेशन से 12 कि.मी. दूर है। किफ़ायती डॉर्म में बंक बेड्स और लकड़ी के पैनल वाली दीवारें हैं। यहां आपको एक बेड 600 रुपये/रात के हिसाब से मिल जाएगा, लेकिन पहले बुकिंग के लिए बात जरूर करें। यहां आपको एयरकंडीशन, फ्री वाई-फाई भी मिलेगा। कमाल की बात यह है कि यह होस्टल पेट-फ्रेंडली है।

इसे भी पढ़ें : बेहद अनोखा है भारत का ये गांव, जानें मलाणा से जुड़ी वो बातें जिन्हें हर कोई नहीं जानता

Fulglers होस्टल, धर्मकोट

bluesheep hostel dharmkot

पहाड़ों के बीच रहने का कितना अलग मजा है न? आप सुबह-सुबह सूरज की रौशनी से उठते हैं। ठंडी-ठंडी हवाएं और साफ वातावरण आपको तरोताजा रखता है। आप मैकलॉडगंज और धर्मकोट तो जाते ही होंगे? अगर इस बार धर्मकोट जाने का प्लान बने, तो किसी होटल में रुकने से बेहतर है कि इस होस्टल में रुकें। यहां आप टैरेस पर बैठकर कॉफी के साथ पहाड़ों के दृश्य निहार सकते हैं। इसके अलावा आप यहां इटैलियन, कॉन्टिनेंटल, एशियन आदि ब्रेकफास्ट ऑप्शन भी चुन सकते हैं। हां यह फ्री में नहीं है, इसके लिए आपको पैसे देने पड़ेंगे।

इसे भी पढ़ें : दुनिया की इन जगहों पर महिलाओं का जाना है मना

ब्लूशीप होस्टल, तीर्थन वैली

tirthan valley hostel

तीर्थन घाटी एडवेंचर पसंद लोगों के लिए सबसे बेहतरीन घाटियों में से एक है। ये जगह प्राकृतिक सौंदर्य और कई पर्यटन स्‍थलों से भरी है। अगर आप तीर्थन वैली आने का प्लान कर रहे हैं, तो आपको यहां स्थित ब्लूशीप होस्टल में ठहरना चाहिए। यह तीर्थन घाटी में एक स्थानीय सेराजी हिमाचली परिवार द्वारा संचालित एक छोटा सा होमस्टे और होस्टल है। होस्टल के बाहर निकलते ही आप सेब के कई बाग देख सकते हैं। लकड़ी से बना यह होस्टल रॉयल फीलिंग देता है। आप यहां परिवार के साथ भी आ सकते हैं और खास बात यह है कि यहां आपको कुक मिलता है, तो आप जो चाहें उससे बनवा सकते हैं। हालांकि आपको उसका पैसा देना पड़ेगा।

ये हैं वे कुछ होस्टल, जहां आप जाकर स्टे कर सकती हैं। सफाई के मामले में, सेफ्टी के मामले में, और खाने-पीने के मामले में यहां आपको कोई शिकायत नहीं होगी। अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। ट्रैवल से जुड़े ऐसे आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: Zostel & tripadvisor