गणेश चतुर्थी आने वाली है और अब इस मौके पर हम आज भारत के एक ऐसे प्राचीन मंदिर की बात करते हैं जिसे कई बार तोड़े जाने की कोशिश की गई, लेकिन वो टूट न सका। ये मंदिर है पोंडीचेरी जिसे अब पुद्दुचेरी कहते हैं वहां। मंदिर का नाम है मानाकुला विनयागर मंदिर (Manakula Vinayagar Temple), भले ही कई लोगों को लगे कि पुद्दुचेरी एक ऐसी जगह है जहां चर्च ज्यादा होंगे, लेकिन असल में ये एक ऐसी जगह है जहां मंदिरों की भी कमी नहीं है। ये गणेश मंदिर 500 साल से भी ज्यादा पुराना है और कहा जाता है कि ये उस इलाके का सबसे पुराना मंदिर है। 

पुद्दुचेरी ट्रैवल पर जाएं तो एक बार इस मंदिर में दर्शन किए जा सकते हैं। यहां श्रद्धालु और टूरिस्ट दोनों की ही भीड़ मिल जाएगी। यहां गजराज आपका स्वागत करने भी खड़े होंगे। बाकायदा ये हाथी लोगों को आशिर्वाद देता है। वैसे तो इस मंदिर में साल भर किसी उत्सव जैसा माहौल होता है, लेकिन यहां ब्रह्महोत्सव और गणेश चतुर्थी सबसे खास है। ये उत्सव 24 दिन चलता है। 

 ganesh chaturthi

इसे जरूर पढ़ें- Ganesh Chaturthi 2019: नीता अंबानी और मुकेश अंबानी के घर धूम-धाम से मनाया जाएगा गणेश उत्सव, देखें कार्ड की पहली झलक 

कई बार तोड़ने की कोशिश की गई इस मंदिर को- 

ये मंदिर 1666 के आस-पास बना था जब पुद्दुचेरी में फ्रेंच कॉलानी स्थापित थी। लोककथा के अनुसार इस मंदिर से जुड़ी कई कहानियां हैं। उस समय फ्रेंच अफरस गणपति का मजाक उड़ाते थे कि हाथी की शक्ल का देवता यहां मौजूद है। एक बार एक फ्रेंच अफसर ने इस मंदिर की मूर्ति को तोड़ने का फरमान जारी किया और कहा कि मूर्ति को समुद्र में फेंक दिया जाए।

oldest temples in india

काम करने वालों ने ऐसा ही किया और वापस आकर देखा तो मूर्ति वहीं थी। फिर से यही किया गया और मूर्ति वापस समुद्र में फेके जाने के बाद भी अपनी जगह पर आ गई। इसके बाद मूर्ति को तोड़ने की बात की गई, लेकिन उसे तोड़ने की कोशिश करने वालों को खुद ही चोट लग गई। तबसे ही इस मंदिर की मान्यता और बढ़ गई। ये प्रसिद्ध मंदिर लोगों के बीच लोकप्रिय है। 

सोने का रथ और मान्यता- 

यहां एक सोने का रथ है जो 7.5 किलो सोने से बना है और जिस समय ये बनाया गया था तब इसकी कीमत 35 लाख थी। ये रथ 10 फिट ऊंचा और 6 फिट चौड़ा है। इसे लड़की से बनाकर तांबे की प्लेट्स से सजाया गया है और उसके ऊपर सोने के रैक्स लगे हैं। इसकी पहली झलक लोगों को 5 अक्टूबर 2003 में दिखी थी और तभी से ये मान्यता है कि इस रथ को खींचने वाले की मनोकामना पूरी होती है। इसे सिर्फ एक दिन (दशहरे पर) ही मंदिर से बाहर निकाला जाता है। बाकी दिन इसे मंदिर के अंदर ही देखा जा सकता है।  

ganesh temple in puducherry

इसे जरूर पढ़ें- घर में लाएं गणपति की ऐसी प्रतिमा, जो पूरी कर दे सारी मनोकामनाएं 

टूरिस्ट का होता है आना जाना-  

इसे कोई कम चर्चित टूरिस्ट स्पॉट न समझें। ये मंदिर प्राचीन काल से यहां स्थित है और श्रद्धालुओं के साथ विदेशी टूरिस्ट भी यहां आते हैं। यहां पूर्वमुखी गणेश हैं। ये सिर्फ 10 मिनट दूर है पुद्दुचेरी के प्रसिद्ध बीच Promenade Beach से।  

गणेश के 40 अलग रूप मौजूद हैं दीवारों पर- 

यहां जाने के लिए कोई एंट्री फीस नहीं लगती। मंदिर सुबह 5.45 पर खुलता है और 12.30 बजे दोपहर में बंद होता है। इसके बाद शाम 4 बजे खुलता है और रात 9.30 बजे बंद होता है। इस मंदिर की दीवार पर गणेश के 40 अलग-अलग रूप दीवारों पर मौजूद हैं। यहां जाकर आपको काफी शांति महसूस हो सकती है।