सर्दियों में पुणे, लोनावाला जैसी जगहों पर जाने का अपना ही एक अलग मजा है। क्योंकि पुणे  में मौजूद जगहों की खूबसूरती सर्दियों में अलग ही निखरकर आती है। साथ ही, लोनावाला, पुणे भारत की एक ऐसा जगह है, जो ना सिर्फ अपने संस्कृति पहलुओं के लिए जाना जाता है बल्कि कई मशहूर कई ऐतिहासिक जगहों के लिए मशहूर है। अगर आपकी रुचि इतिहास में है, तो आपको महाराष्ट्र में स्थित ऐतिहासिक लोहागढ़ फोर्ट को जरूर देखना चाहिए।

इस किले की वास्तुकला दिखने में जितनी दिलचस्प है, इसका इतिहास भी उतना ही रोचक है। इसलिए आज हम आपको पुणे के सबसे लोकप्रिय लोहागढ़ फोर्ट के बारे में और इसके इतिहास के बारे में कुछ रोचक बातें बताते हैं। जिसे जानने के बाद यकीनन आपको लोहागढ़ फोर्ट घूमने में मज़ा आएगा, लेकिन क्यों आइए जानते हैं। 

लोहागढ़ फोर्ट के बारे में जानें 

lohagad fort in hindi

यह किला 18 वीं शताब्दी का हैं, जो कई राजवंशों के लिए शक्ति का प्रमुख केंद्र था। इस किले की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 3400 फीट हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस किले में प्रवेश द्वार चार हैं, जिसे लोग हनुमा दरवाजा, गणेश दरवाजा, नारायण दरवाजा और महा दरवाजा के नाम से जाने जाते हैं। यह किला पुणे से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जो ट्रैकिंग के लिहाज से बहुत ही अच्‍छा विकल्‍प है। बता दें कि इसे आयरन किला भी कहा जाता है। यह पूरा किला पहाड़ों पर बना हुआ है।

साथ ही, इस किले को स्मारकीय पहाड़ी किले के माम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इस किले को छत्रपति शिवाजी द्वारा युद्ध के लिए इस्तेमाल किया गया था। हालांकि, यह किला पूरी तरह से टूट कर बिखर चुका है लेकिन इस किले की चढ़ाई आज भी बेहद रोमांचित है। 

इसे ज़रूर पढ़ें- भूरागढ़ किले पर क्यों आयोजित किया जाता है नटबली का मेला? जानें क्या है वजह

इस किले पर जैसे-जैसे पढ़ने जाते हैं रास्ता उतना ही खराब होता जाता है। साथ में पहाड़ों से रिसता पानी रास्तों को फिसलन भरा बना देता है। यहां टॉप पर पहुचने पर आपको नेचुरल वॉटर के कुंड मिलेंगे। साथ ही शिव मंदिर और किसी पीर बाबा की मजार भी देखने को मिलेगी। यहां से बहुत ही सुंदर नजारे दिखते हैं, जो आपको यहां बार-बार आने को मजबूर कर देंगे। आप भी इस किले को एक्सप्लोर कर सकते हैं। 

Recommended Video

फोर्ट के अंदर क्या है खास?

lohagad fort details in hindi

लोहागढ़ फोर्ट एक प्राचीन और ऐतिहासिक किला है। यह व्यापक रूप से अपनी खूबसूरत वास्तुकला के लिए जाना जाता है। यह पुणे के सबसे बड़े और पुराने किले में से एक है। इसके अलावा, ये किला ट्रेकिंग स्थलों के लिए भी लोकप्रिय है। क्योंकि आपको किले तक पहुंचने के लिए कई ट्रेकिंग मार्ग मिलेंगे। पर्यटक दूर-दूर से लोहागढ़ फोर्ट ट्रैकिंग करने आते हैं। अगर आप ट्रैकिंग का शौक रखते हैं, तो इस किले को एक्सप्लोर कर सकते हैं। 

इन जगहों को करें एक्सप्लोर 

इस किले को घूमने के अलावा, आप पुणे, की कई खूबसूरत जगहों जैसे तुंगा किला, भजा गुफाएं, राजमाची पॉइंट,लोनावला झील पुणे और लोनावला आदि जगहों को एक्सप्लोर कर सकते हैं। साथ ही, महाराष्ट्र की संस्कृति और फेमस व्यंजनों का भी लुत्फ उठा सकते हैं। यह शहर विश्व भर में अपनी हस्तशिल्प कलाओं के बारे लिए भी जाना जाता है। हालांकि, महाराष्ट्र में मौजूद सभी किलों में लोहागढ़ फोर्ट सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। 

इसे ज़रूर पढ़ें- क्या आप भी जानते हैं भारत की इन 5 सबसे खूबसूरत गुफाओं के बारे में?

लोहागढ़ फोर्ट घूमने का सही समय? 

lohagad fort Pune details

इस किले को घूमने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक होता है। हालांकि, आप इन महीनों के अलावा भी ये किला घूम सकते हैं। साथ ही, आप लोहागढ़ फोर्ट की सैर सुबह 10 बजे से शाम के 6 बजे तक कर सकते हैं। (भारत में स्थित हैं कई रहस्यमयी फोर्ट्स) साथ ही, ये किला सप्ताह के सातों दिन खुला रहता हैं। आप किसी भी दिन इस किले की सैर कर सकती हैं।

इस किले की सैर करने के बाद यकीनन आपको बहुत अच्छा लगेगा। आपको लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही, ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Google and Travel Website)