भारत में ऐसे कई किले हैं, जो किसी ना किसी वजह से पर्यटकों के बीच बेहद मशहूर हैं। इनमें से ही एक भूरागढ़ किला है। यह बांदा में स्थित एक ऐसा किला है, जिसे देखने हर साल पर्यटकों का एक भारी हुजूम आता है। केन नदी के किनारे स्थित भूरागढ़ किले को 17वीं शताब्दी में राजा गुमान सिंह द्वारा भूरे पत्थरों से बनवाया गया था। वर्तमान समय में किले के खंडहर मौजूद हैं। यह स्थान स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महत्वपूर्ण था। वैसे इस स्थान पर एक मेला आयोजित किया जाता है, जिसे 'नटबली का मेला' कहा जाता है। इस मेले के चर्चे दूर-दूर तक होते हैं। 

क्यों आयोजित किया जाता है नटबली का मेला?

bhuragarh kila banda details in hindi

बांदा शहर की सीमा पर केन नदी और भूरागढ़ दुर्ग के बीच दो पुराने मंदिर हैं। ये दोनों ही मंदिर नटबली की वजह से जाने जाते हैं। मालूम हो, मकर संक्रांति के दिन इन दो मंदिरों के पास ही एक मेले का आयोजन किया जाता है। इस मेले को नटबली और उसकी प्रेमिका की याद में आयोजित किया जाता है। कहा जाता है कि नटबली अपनी प्रेमिका को पाने के लिए केन नदी को सूत की रस्सी पर चलकर पार कर रहा था। मगर नदी पार करते हुए वो अपनी जान गंवा बैठा। ऐसे में नटबली और उसकी प्रेमिका को याद करते हुए इस मेले का आयोजन किया जाता है। 

माना जाता है कि भूरागढ़ किले के किलेदार की बेटी से एक नट को प्यार हो गया था। जब इस बात की खबर किलेदार को पड़ी तो वो पहले बहुत नाराज हुआ, लेकिन बाद में उसने नट के सामने एक शर्त रखी। उसने कहा कि अगर सूत की रस्सी पर चलकर नदी पार करके नट किले में आता है तो वो उससे अपनी बेटी की शादी कर देगा। किलेदार की ये शर्त उस प्रेमी नट ने स्वीकार कर ली। अपनी शर्त को पूरा करने के लिए नट ने मकर संक्रांति का दिन चुना।

इसे जरूर पढ़ें: बेहद खास है बुंदेलखंड का इतिहास, इन 3 किलों के बारे में जानें

प्रेमिका ने भी कूदकर दे दी थी जान 

bhuragarh ka kila

इसी क्रम में नट ने सूत की रस्सी को नदी के इस पार से लेकर किले तक बांध दिया। रस्सी पर चलते हुए नट ने नदी पार कर ली और वह दुर्ग के करीब आ गया। इस दौरान नट बिरादरी के लोड उस युवक का हौसला बढ़ा रहे थे तो वहीं किलेदार भी अपनी बेटी के साथ इस नज़ारे को किले से देख रहा था। ऐसे में नट बस दुर्ग पर पहुंचने ही वाला था कि किलेदार ने उसकी रस्सी काट दी, जिससे नट की चट्टानों पर गिरकर मृत्यु हो गई। युवती से ये नजारा देखा नहीं गया तो उसने भी दुर्ग से छलांग लगाकर जान दे दी। 

Recommended Video

दोनों की मृत्यु की याद में दो मंदिरों का निर्माण कराया गया, जो आज भी वहां मौजूद हैं। इन मंदिरों को नट बिरादरी के लोग आज भी पूजते हैं। यही कारण है कि हर साल मकर संक्रांति के मौके पर नट और उसकी प्रेमिका की याद में यहां मेले का आयोजन किया जाता है। इस मेले को देखने के लिए बड़ी तादाद में लोग आते हैं, जहां अधिकतर पति-पत्नी या प्रेमी-प्रेमिका के जोड़ो की भरमार देखने को मिलती है।  

इसे जरूर पढ़ें: अंडमान का बना रहे हैं प्लान तो इस द्वीप को जरूर करें एक्सप्लोर

उम्मीद है आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हमें इस आर्टिकल के बारे में बताना ना भूलें।

Image Credit: Google