भारत देश कई विविधताओं से भरा हुआ और अपने आप में कई विशेषताओं को समेटे हुए है। भारत में कई ऐसी जगहें भी मौजूद हैं जो आश्चर्य से भरी हुई हैं ऐसी ही एक आश्चर्य से भरी जगह है उत्तर पूर्व भारत के मणिपुर में स्थित लोकटक झील। जी हाँ ये झील देखने में खूबसूरत होने के साथ एक अद्भुत विशेषता से भरी हुई है। लोकटक झील एक ऐसी झील है जिसे फ्लोटिंग झील भी कहा जाता है क्योंकि ये विश्व की एकलौती ऐसी झील है जो तैरती हुई दिखाई देती है। आइये जानें लोकटक झील से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में। 

कहां है लोकटक झील 

manipur loktak lake beauty

लोकटक झील भारत के पूर्वोत्तर भाग में स्थित मणिपुर राज्य की एक बेहद खूबसूरत झील है। यह अपनी सतह पर तैरते हुए वनस्पति और मिट्टी से बने द्वीपों के लिये पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है, जिन्हें "कुंदी" कहा जाता है। झील का कुल क्षेत्रफल लगभग 280 वर्ग किमी है। झील पर सबसे बड़ा तैरता द्वीप "केयबुल लामजाओ" कहलाता है और इसका क्षेत्रफल 40 वर्ग किमी है। यहां संगइ हिरण पाए जाते हैं जो सिर्फ इसी जगह पर मौजूद हैं और एक विलुप्तप्राय प्रजाति है। 

जलीय पौधे और जानवरों का घर 

फुमदी वनस्पति, मिट्टी और अन्य कार्बनिक पदार्थों का एक द्रव्यमान है जो समय के साथ जम जाते हैं जो झील में स्वतंत्र रूप से तैरने वाले भूस्वामी से मिलते जुलते हैं। इसे फ्लूमिडिस के कारण दुनिया की एकमात्र तैरती हुई झील भी कहा जाता है। विभिन्न प्रकार के जलीय पौधे और जानवर बिना आरक्षण के फलते फूलते हैं।

फ्लोटिंग नेशनल पार्क 

लोकटक झील में फूमदी का सबसे बड़ा घेरा 40 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल का है। इस घेरे के रूप में निर्मित इस भूभाग को भारत सरकार ने ‘केइबुल लामजाओ राष्ट्रीय पार्क’ का नाम व दर्जा दिया है। केइबुल लामजाओ राष्ट्रीय पार्क’ दुनिया का एकमात्र तैरता हुआ राष्ट्रीय पार्क भी है। जो वास्तव में एक अद्भुद नमूना प्रस्तुत करता है। 

स्थानीय लोगों की आजीविका का स्रोत

loktak lake manipur beauty

मणिपुर की अर्थव्यवस्था में झील की महत्वपूर्ण भूमिका है और स्थानीय लोगों के लिए उनके सामाजिक-आर्थिक और सांस्कृतिक जीवन में इसके महत्व के कारण इसे वहां की जीवन रेखा माना जाता है। इसके अलावा, प्राचीन लोकटक झील जल विद्युत् उत्पादन, पीने के पानी की आपूर्ति और सिंचाई के लिए पानी के स्रोत के रूप में कार्य करती है। इतना ही नहीं, बल्कि उस जगह पर जाकर देख सकते हैं कि लोकटक झील आसपास के इलाकों में रहने वाले ग्रामीण मछुआरों के लिए कैसे आजीविका का साधन है। 

इसे जरूर पढ़े:बेहद खूबसूरत है हिमाचल का ये गांव जीभी, जरूर जाएं यहां घूमने

कैसे पहुंचें लोकटक झील 

कोई भी लोकटक झील में जाने के लिए सार्वजनिक परिवहन सुविधा का लाभ उठा सकता है। यदि आपको भी इस आश्चर्य से भरी जगह को देखना और उसका नज़ारा कैमरे में कैद करना है तो एक बार इस झील को जरूर देखें। 

इसे जरूर पढ़े:भारत की इन चार जगहों पर मिलेगा स्नोफॉल का असली मजा

यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

लोकटक झील की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सर्दियों के मौसम के दौरान होता है, यानी नवंबर और फरवरी के बीच, क्योंकि किसी भी पर्यटक को उस समय हिरणों को देखने का अवसर मिलता है। साल के अन्य मौसमों में वे हिरन आसपास की पहाड़ियों में रहते हैं। पर्यटक सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 09:00 बजे से 06:00 बजे के बीच लोकतक झील की सैर कर सकते हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock