मानसून का सीजन बीमारियों वाला होता है और इस सीजन में तरह-तरह के बैक्टीरिया हमारे शरीर में आ सकते हैं। नॉर्मल खुजली से लेकर मानसून में होने वाले रैशेज तक और खांसी से लेकर टाइफाइड तक बहुत सारी बीमारियां भी इस सीजन में हो सकती हैं। अधिकतर लोगों को लगता है कि बार-बार हाथ धोने से हम बीमारियों से बच सकते हैं और ये फैक्ट सही भी है क्योंकि हाथ धोने से 70% तक बैक्टीरिया मर सकते हैं, लेकिन नाखूनों का क्या?

कई लोग जल्दबाजी में हाथ धोते हैं और नाखून साफ करना भूल जाते हैं। नाखूनों से भी बीमारियां हो सकती हैं और इसलिए ये जरूरी है कि हम नाखूनों की हाइजीन का भी उतना ही ख्याल रखें जितना हाथों का रखते हैं। मानसून सीजन में नाखूनों का ख्याल रखने के लिए ये कुछ टिप्स बहुत काम आ सकते हैं। 

1. नाखूनों को रखें सूखा-

हाथ धोने के बाद पोंछ लेना आसान है, लेकिन अगर आपके नाखून लंबे हैं तो अंदर की ओर वो गीले रह जाते हैं और ऐसे में नेल इन्फेक्शन का खतरा भी रहता है। 

  • पैरों के नाखूनों के साथ तो ये समस्या बहुत ही ज्यादा रहती है और ह्यूमिडिटी के कारण वो डैमेज हो जाते हैं। 
  • हाथों और पैरों के नाखूनों को हवा लगने दें। ज्यादा देर तक दस्ताने या बंद जूते न पहनें। 
  • अगर हाथ पैर धो रहे हैं तो हल्के हाथों से नाखूनों के साइड में भी पोंछ लें। 
  • ओपन शूज या फ्लोटर्स पहनने की कोशिश करें। 
  • हो सके तो मानसून के समय छोटे नाखून रखें। 
cleaning nails during monsoon

इसे जरूर पढ़ें- नाखूनों की सेहत का ख्याल रखने के लिए घर पर गुड़ की मदद से बनाएं नेल पेंट 

2. नाखूनों को इस तरह से करें साफ-

मानसून के समय हाथों और पैरों के नाखूनों में मिट्टी बहुत भर जाती है क्योंकि अधिकतर जगह की मिट्टी गीली होती है और इसलिए ये आसानी से नाखूनों के अंदर तक पहुंच सकती है। इसी के साथ, मानसून के समय बैक्टीरिया काफी एक्टिव रहता है और ह्यूमिड मौसम का फायदा मिलता है इसलिए बेहतर होगा कि आप रोज़ाना अपने नाखूनों को साफ करें। 

  • एक पुराने टूथब्रश की मदद से हाथों और पैरों के नाखूनों को साबुन से साफ करें। 
  • अगर साइड से मिट्टी जमी है तो नाखूनों को थोड़ा ट्रिम करने की कोशिश करें।  
nails and hygiene issues in monsoon

3. हमेशा नेलकटर का ही इस्तेमाल करें- 

कई लोगों की आदत होती है कि वो अपने नाखूनों के साइड से निकलने वाले क्यूटिकल्स को मुंह से या हाथ से निकाल लेते हैं। मैं आपको बता दूं कि मानसून के समय नेल इन्फेक्शन होने वाले सबसे बड़े कारणों में से एक ये भी है। ऐसे क्यूटिकल्स निकालने में जब स्किन छिल जाती है तो बैक्टीरिया बहुत आसानी से एंटर कर सकता है। 

नेलकटर के इस्तेमाल से नेल इन्फेक्शन से बचा जा सकता है और इसलिए ये जरूरी है कि आप इन बातों का ध्यान रखें।  

4. एंटीफंगल पाउडर का इस्तेमाल करें- 

अपनी मानसून हाइजीन में एंटीफंगल पाउडर का भी इस्तेमाल करें। ये हाथों और पैरों के नाखूनों के लिए अच्छा साबित हो सकता है। दिन में एक बार आप ये एक बार कर लेते हैं तो आपके लिए ये फायदेमंद स्थिति साबित होगी। एंटीफंगल पाउडर आपके नाखूनों को ड्राई भी करेगा और साथ ही साथ बैक्टीरियल और फंगल इन्फेक्शन से भी बचाएगा।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- बहुत खूबसूरत दिखेंगे पैर और नाखून, बस आजमाएं ये टिप्स  

5. सही प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें- 

नाखूनों में कोई भी नेल पॉलिश लगा लेना, किसी भी रिमूवर से उन्हें साफ करना, नुकीले टूल्स का इस्तेमाल करना सब कुछ उनकी सेहत के लिए अच्छा नहीं है। अगर आप सही तरह के प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं करेंगे तो नाखूनों की ऊपरी लेयर टूटती जाएगी और इसके कारण आपके नाखून और खराब होंगे।  

ये पांचों टिप्स लग तो बहुत सिंपल रहे होंगे, लेकिन ऐसा कई बार होता है कि लोग इन सिंपल टिप्स को भी फॉलो नहीं करते हैं। ऐसे में आपको ये बातें ध्यान रखनी चाहिए कि आपने नाखून भी शरीर का हिस्सा हैं और उनका ख्याल आपको ही रखना है।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।