अभी कुछ सालों से फिश पेडीक्योर काफी चलन में है। फिश पेडीक्योर एक ऐसी थेरेपी है, जिसमें हम अपने पैरों को मछलियों के एक टब या जार मे डालते है और इसमें मौजूद छोटी-छोटी मछलियां पैरों के डेड स्किन को खा जाती है। फिश पेडीक्योर करवाने से हमारे पैरों की स्किन मुलायम होती है। साथ ही, इससे ना सिर्फ पैर मुलायम होते हैं बल्कि यह पैरों के दर्द से भी छुटकारा दिलाने में मददगार होता है। फिश पेडीक्योर करवाने में अपने पैरों को छोटी-छोटी मछलियों से भरी हुई टैंक में डालकर अपने पैरों की मृत कोशिकाओं को निकलवाना में मजा भी बहुत आता है। साथ ही, ऐसा माना जाता है कि एक्जिमा और सोरायसिस की बीमारी में फिश पेडीक्योर काफी लाभकारी होता है।

fish pedicure tips inside

इसे जरूर पढ़ें: Celebrity Beauty Secrets: कियारा अडवाणी से लें त्वचा को ‘यूथफुल’ बनाने के टिप्स

आजकल ज्‍यादातर मॉल में फिश पेडीक्योर की सुविधा होती है और यह बहुत ज्यादा मंहगा भी नहीं होता है। मॉल्स में कई बार एक ही टैंक में कई लोग अपने पैरों को डालकर पेडीक्योर करवाते रहते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि जिस टैंक में आप कई लोगों के साथ पैर डालकर बैठी हैं वो कितना साफ सुथरा है। क्‍या आपने ये जानने की कोशिश की है कि आपके साथ जो इंसान टब में पैर डालें हुए है उसे कहीं कोई स्किन से जुड़ी कोई बीमारी तो नहीं है।बेसन-चावल से foot scrub बनाने के लिए पढ़े

अगर फिश पेडीक्योर या स्पा की बात करें तो यह तभी सुरक्षित हो सकते हैं जब वहां पर काफी हद तक साफ-सफाई का ख्‍याल रखा जाए। फिश पेडीक्योर के लिए इस्तेमाल होने वाली गारा रूफा मछलियां पैरों कि डेड स्किन को खा जाती है जिसके कारण हमारे पैर सुंदर और ग्‍लोइंग दिखते हैं। यह मछलियां पैरों की डेड स्किन को निकालने के साथ-साथ हमारे रक्तप्रवाह को भी बढ़ा देती है और हमारे शरीर के एक्यूप्रेशर पॉइंट्स को भी उत्तेजित करती है जिससे इसका असर तुरंत दिखाई देने लगता है। पैरों की टैनिंग दूर करने के लिए पढ़े

things in mind while keeping fish pedicure inside

लेकिन फिश पेडीक्योर करवाते हुए हमें कुछ बातों का ध्‍यान रखना चाहिए नहीं तो हमें भारी नुकसान हो सकता है। आइए जानें फिश पेडीक्योर करवाते हुए किन बातों का ध्‍यान रखना चाहिए और क्‍या सावधानियां बरतें।

फिश पेडीक्योर करवाने वाले स्पा सेंटर टब के पानी को कई दिनों तक नहीं बदलते जिसकी वजह से आपको इंफेक्शन हो सकता है। ऐसे में फिश पेडीक्योर करवाते हुए इस बात का ध्‍यान रखें कि पानी दूषित न हो और टैंक का पानी रोज बदला गया हो और पानी साफ हो। अगर हर एक सेशन के बाद उस टैंक का पानी बदला नहीं जाता है तो संक्रमण होने का खतरा बना रहता है। घर पर पेडिक्‍योर करने के लिए पढ़े

keep these things during fish pedicure inside

अगर आपके पैरों में चोट लगी हो या पैर कहीं से कटा हुआ हो तो फिश पेडीक्योर न करवाएं क्‍योंकि ऐसे में फिश पेडीक्योर करवाने से खून बहने लगता है। यह खून, स्पा टब में चला जाता है और इससे इंफेक्शन फैलने का डर रहता है। हो सकता है आपके लगे खून से दूसरे किसी व्‍यक्ति को इंफेक्शन हो जाए।

  • अगर फिश पेडीक्योर करवाते समय पैरों से खून निकलने लगे तो पैरों को तुरंत पानी से बाहर निकालें और उसे डेटॉल या एंटीसेप्टिक दवाई से साफ करें।
  • अगर आपको पहले से ही कोई शारीरिक समस्‍या है या चोट लगी है तो ऐसे में फिश पेडीक्योर न करवाएं।
  • अगर आप कमजोर इम्युनिटी और डायबिटीज के मरीज हैं तो आप फिश पेडीक्योर कभी न करवाएं।

fish padicure inside

इसे जरूर पढ़ें: 3 आसान नैचुरल घरेलू तरीके अपनाएं, चेहरे के बाल हटाएं

  • फिश पेडीक्योर करवा रहे लोगों में से अगर किसी व्यक्ति को एड्स या कोई संक्रमण से फैलने वाला रोग है तो वह दूसरे व्यक्ति को भी हो सकता है। मानसून में पैरों की देखभाल करने के लिए पढ़े
  • इस बात की भी संभावना होती है कि टैंक में उपस्थित माइक्रोबैक्टीरिया के कारण आपको इन्फेक्शन हो जाए।

Photo courtesy- (MDedge, D Magazine, The Health Edge, RTE, Turkey Tour)