एक्ट्रेस और प्रेजेंटर मिनी माथुर कई कारणों से फेमस हैं। मिनी माथुर ने खुद की एक जगह बनाई है और वो एंटरटेनमेंट वर्ल्ड में काफी चर्चित भी हैं। वो उन कुछ लोगों में से एक हैं जिनके चेहरे से उनकी उम्र का अंदाज़ा लगाना मुश्किल है। वो खुद काफी फिट रहती हैं और यही नहीं उन्होंने अलग-अलग ब्यूटी टेक्नीक्स का इस्तेमाल भी किया है। हाल ही में उन्होंने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज में फेशियल कपिंग करती हुई एक तस्वीर डाली थी। 

इस तस्वीर से ये साफ जाहिर होता है कि मिनी माथुर खुद को फिट और ब्यूटिफुल रखने के लिए काफी मेहनत करती हैं। मिनी माथुर जिस तकनीक का इस्तेमाल कर रही थीं वो चेहरे पर ब्लड सर्कुलेशन को और भी बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। दरअसल, इस तकनीक से चेहरे में चमक आती है और साथ ही साथ ये रिंकल्स को भी कम करती है। चलिए मिनी माथुर द्वारा की गई इस फेशियल कपिंग तकनीक के बारे में और जानकारी लेते हैं। 

क्या है फेशियल कपिंग-

जैसा कि नाम बता रहा है ये एक कपिंग तकनीक है जिससे चेहरे के बल्ड सर्कुलेशन को सक्शन की मदद से ठीक किया जाता है। अगर चेहरे पर मसल्स टेंशन के कारण झुर्रियां आ गई हैं या फिर उम्र के कारण चेहरे के सेल्स और मसल्स ढीले पड़ने लगे हैं तो ये रीजनरेशन में मदद करती है और इससे चेहरे में कसाव आता है। 

face cupping mini mathur

जिस तरह से बॉडी कपिंग होती है उसी तरह से फेस कपिंग भी होती है बस फर्क सिर्फ इतना है कि इसमें छोटे कोन्स का इस्तेमाल होता है और सक्शन फोर्स काफी कम होता है जिससे चेहरे के नाजुक मसल्स को नुकसान न हो। 

इसे जरूर पढ़ें- Jawed Habib Tips: मेहंदी नहीं ये है सबसे अच्छा नेचुरल हेयर कलर, जानें लगाने का सही तरीका

कैसे अलग है बॉडी कपिंग से-

फेशियल कपिंग तकनीक में छोटे कोन्स का इस्तेमाल होता है

  • इसमें फोर्स काफी कम लगता है
  • ये खासतौर पर रिंकल्स के लिए इस्तेमाल की जाती है
  • ये स्किन रिजुविनेशन के लिए है
  • बॉडी कपिंग में दर्द और चोट आदि पर भी असर होता है, लेकिन फेशियल कपिंग में ऐसा नहीं है। 
  • बॉडी कपिंग में कप मार्क्स रह जाते हैं, लेकिन फेशियल कपिंग में ऐसा नहीं है।  
face cupping anti ageing

क्या है फेशियल कपिंग करने का सही तरीका? 

फेशियल कपिंग को पहली बार किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करना चाहिए। अगर आपने इसे एक्सपर्ट की देखरेख में नहीं किया तो हो सकता है कि आप कुछ गलत कर दें। इसके अलावा, फेशियल कपिंग करते समय हमेशा चेहरे को फेशियल ऑयल से अच्छे से मसाज कर लेना चाहिए। ऐसा इसलिए ताकि चेहरे पर कपिंग के दाग न पड़ें और ये अच्छी तरह से सेट हो जाए।  

दरअसल, फेशियल कपिंग का वैक्युम सक्शन अलग-अलग टिशू लेयर पर असर करता है। ये माइक्रोट्रॉमा और टियरिंग कर सकता है और इसलिए कुछ हद तक फेशियल कपिंग के बाद चेहरे पर लाल निशान बन सकते हैं।  

Recommended Video

फेशियल कपिंग तकनीक के फायदे क्या हैं? 

फेशियल कपिंग तकनीक खासतौर पर एंटी-एजिंग प्रोसेस है जिसके कई फायदे हैं 

  • ये ऑक्सीजन से भरपूर ब्लड सर्कुलेशन करती है।
  • ये स्किन को मजबूत बनाती है।
  • इससे मसल टेंशन रिलैक्स होता है जिससे झुर्रियां कम होती है।
  • ये चेहरे से पफिनेस हटाती है।
  • आपकी चिन, जॉलाइन और गर्दन आदि की टोनिंग करती है।
  • चेहरे पर सही मात्रा में ऑयल प्रोडक्शन करती है।
  • इससे स्किन ब्राइट होती है और रेगुलर इस्तेमाल से झाइयां भी कम होती हैं। 
face cupping tech

इसे जरूर पढ़ें- घर पर ही बिना थ्रेडिंग के आसानी से दे सकती हैं Eyebrow Shape, ये ट्रिक आएगी काम  

हालांकि, अगर सही से न की गई तो इससे चक्कर आना, उल्टी आना, पसीने आना जैसे साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं और ऐसा भी हो सकता है कि ये किसी इंसान को सूट न करे।  

आप अगर फेशियल कपिंग तकनीक के बारे में सोच रही हैं तो पहले किसी एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें और उनकी निगरानी में ही खुद इस तकनीक को करें।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।