जब भी स्किन टाइप की बात होती है तो हम अमूमन चार तरह की स्किन की बात करते हैं- ऑयली, नार्मल, कॉम्बिनेशन व ड्राई। इसके अलावा, एक स्किन कंडीशन डिहाइड्रेट स्किन भी होती है। आमतौर पर महिलाओं के मन में डिहाइड्रेट स्किन और ड्राई स्किन को लेकर एक कंफ्यूशन होती है और अमूमन महिलाएं अपनी डिहाइड्रेट स्किन को ड्राई स्किन समझ लेती हैं। हालांकि, हर बार ऐसा ही हो, यह जरूरी नहीं है। ड्राई स्किन डिहाइड्रेट हो सकती है, लेकिन हर बार डिहाइड्रेट स्किन ड्राई ही हो, यह जरूरी नहीं है। इतना ही नहीं, दोनों स्किन कंडीशन में आपको उसे अलग तरह से ट्रीट करना होगा। इसलिए, पहले आपको इन दोनों के बीच अंतर को समझना चाहिए। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको ड्राई और डिहाइड्रेट स्किन के बीच का अंतर बता रहे हैं, जिसे जानने के बाद आपके लिए अपनी स्किन कंडीशन के बारे में समझना आसान हो जाएगा-

ड्राई स्किन मतलब ऑयल व लिपिड की कमी

inside  dry skin

आपकी त्वचा में छोटे-छोटे छिद्र होते हैं, जिनके नीचे वसामय ग्रंथियां होती हैं। यह वसामय ग्रंथियां सीबम नामक एक तेल का उत्पादन करती हैं जो स्वस्थ और कोमल त्वचा के लिए आवश्यक है। लेकिन जिन महिलाओं की स्किन की यह ग्रंथियां बेहद कम तेल का उत्पादन करती हैं, तो उनकी स्किन ड्राई कहलाती है। वहीं, डिहाइड्रेट स्किन का मतलब होता है, स्किन में मॉइश्चर की कमी। कभी-कभी आपकी स्किन डिहाइड्रेट और इरिटेटिड महसूस कर सकती है। यह आपकी त्वचा की सबसे ऊपरी परत में पानी की कमी के कारण होता है।

ड्राई स्किन है एक स्किन टाइप

inside  skin tips

ड्राई और डिहाइड्रेट स्किन के बीच का एक मुख्य अंतर यह है कि जहां ड्राई स्किन वास्तव में एक स्किन टाइप है, जबकि डिहाइड्रेट स्किन एक स्किन कंडीशन है। इसका अर्थ यह है कि डिहाइड्रेट स्किन की समस्या किसी भी महिला को हो सकती है, भले ही आपकी स्किन ऑयली, नार्मल या कॉम्बिनेशन ही क्यों ना हो। इसके अलावा, अगर स्किन की नमी व वाटर इनटेक पर सही तरह से ध्यान दिया जाए तो इससे डिहाइड्रेट स्किन की समस्या को दूर किया जा सकता है। वहीं, ड्राई स्किन कोई समस्या नहीं है और इस स्किन टाइप की महिलाओं को किसी भी प्रॉडक्ट का चयन करते समय अपनी स्किन टाइप का ख्याल रखना चाहिए। 

इसे ज़रूर पढ़ें-Juhi Parmar Tips: डार्क सर्कल्‍स से छुटकारा पाने के लिए ये 2 घरेलू नुस्‍खे अपनाएं

अलग होते हैं लक्षण

inside  diffrent type

अगर आप ड्राई और डिहाइड्रेट स्किन के बीच अंतर करना चाहती हैं तो एक तरीका यह भी है कि आप इसके बीच के लक्षणों के अंतर को समझें। अगर ड्राई स्किन के लक्षणों की बात हो तो ड्राई स्किन हमेशा रफ और फ्लेकी नजर आती है। इसके अलावा, उसका हमेशा रूखा दिखना और ड्राई पैचेस भी ड्राई स्किन के लक्षण हैं। वहीं स्किन के डिहाइड्रेट होने पर प्री-मेच्योर साइन ऑफ एजिंग, स्किन का टाइट व इरिटेटिड होना, स्किन का डल व सेंसेटिव होना आदि प्रमुख लक्षण हैं।

Recommended Video

पिंच टेस्ट से करें पहचान

inside  skin test

ड्राई और डिहाइड्रेट स्किन के बीच अंतर करने के लिए पिंच टेस्ट का सहारा भी लिया जा सकता है। इसके जरिए आप चुटकियों में अपनी स्किन की पहचान कर सकती हैं। इस टेस्ट को करने के लिए आप अपने हाथ के बैक के एक स्मॉल एरिया पर पिंच करें। आप इसे अपने गाल या पेट पर भी कर सकती हैं। अगर आपकी स्किन एकदम से बाउंस बैक करती है तो इसका अर्थ है कि आपकी स्किन अच्छी तरह से हाइड्रेटेड है और आपको जो लक्षण नजर आ रहे हैं, वह ड्राई स्किन की ओर इशारा करते हैं। वहीं, अगर आपकी स्किन को बाउंस बैक होने में थोड़ा समय लगता है तो यह संभव है कि आपकी स्किन डिहाइड्रेट है।

इसे ज़रूर पढ़ें- हाथ और पैर की टैनिंग को खत्म करने के लिए पपीते से बनाएं DIY क्रीम

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik