अनचाहे बाल किसी भी महिला को बिल्कुल भी अच्छे नहीं लगते। आमतौर पर इन अनचाहे बालों से निजात पाने के लिए महिलाएं वैक्सिंग से लेकर थ्रेडिंग व रेजर आदि का सहारा लेती है। लेकिन इन्हीं सभी तरीकों में बेहद कम वक्त में बाल दोबारा आ जाते हैं। ऐसे में अगर आप लंबे समय तक अनचाहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं तो लेजर हेयर रिमूवल तकनीक को अपनाया जा सकता है। यह प्रक्रिया थोड़ी महंगी अवश्य है, लेकिन इसके कारण आप सालों तक अनचाहे बालों से मुक्ति पा सकती है और यही कारण है कि इस प्रोसेस को काफी पसंद किया जा रहा है। हालांकि, कुछ महिलाएं चाहकर भी लेजर हेयर रिमूवल तकनीक को नहीं अपनाती हैं, क्योंकि उनके मन में इस प्रोसेस को लेकर कई तरह के मिथ्स होते हैं।  मसलन, लेजर हेयर रिमूवल तकनीक अपनाने से इनफर्टिलिटी या कैंसर की समस्या हो सकती हैं। तो चलिए आज हम आपको लेजर हेयर रिमूवल से जुड़े कुछ मिथ्स और उनकी वास्तविक सच्चाई से आपको रूबरू करवा रहे हैं-

मिथक 1- लेजर हेयर रिमूवल से कैंसर होता है

inside  lezer hair removel myths

सच्चाई- जी नहीं, इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। लेजर हेयर रिमूवल प्रोसेस के दौरान इस्तेमाल किया जाने वाला लेजर त्वचा की परतों में केवल हेयर फॉलिकल्स को टारगेट करने के लिए त्वचा की कोशिका से होकर गुजरता है। यह साबित करने के लिए कोई शोध नहीं है कि लेजर बालों को हटाने से कैंसर हो सकता है। प्रक्रिया के दौरान थोड़ी मात्रा में रेडिएशन उत्पन्न होता है लेकिन यह हानिकारक नहीं है और इसके कैंसर से जुड़े होने का कोई सबूत अभी तक नहीं मिला है।

मिथक 2- इनफर्टिलिटी का कारण बनता है लेजर हेयर रिमूवल 

inside  hair removel myths

सच्चाई- यह भी लेजर हेयर रिमूवल को लेकर एक पॉपुलर मिथ है। लेकिन जैसा कि बताया जा चुका है कि लेजर केवल त्वचा पर काम करता है; यह शरीर के किसी अन्य अंग को प्रभावित नहीं करता है। ऐसे में यह कहना गलत होगा कि इससे बांझपन हो सकता है। लेज़र हेयर रिमूवल काफी सुरक्षित है, वास्तव में, यदि आप इसे अपने निजी अंगों जैसे संवेदनशील क्षेत्रों पर भी करवाने का निर्णय लेते हैं, तो यह बिल्कुल भी हानिकारक नहीं माना जाता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-बेसन से लाएं सुंदरता में चार-चांद, इन 3 तरह से बनाएं फेस पैक

मिथक 3- होम लेजर रिमूवल किट प्रभावी हैं

inside  hair tips in home

सच्चाई- इन दिनों, होम लेजर हेयर रिमूवल किट उन लोगों के लिए भी उपलब्ध हैं जो स्किन एक्सपर्ट के पास नहीं जाना चाहते हैं। हालांकि, इन किटों की सुरक्षा और प्रभावशीलता को लेकर निश्चित तौर पर कुछ कहा नहीं जा सकता है। बहुत से लोग इन किटों से औसत परिणाम का अनुभव करते हैं, बालों का विकास हल्का या महीन होता है क्योंकि वे उतने शक्तिशाली नहीं होते जितने कि त्वचा विशेषज्ञ के क्लिनिक में उपलब्ध होते हैं।

Recommended Video

मिथक 4- लेज़र हेयर रिमूवल से बाल अधिक घने और बार-बार बढ़ते हैं।

inside  hair care tips in hindi

सच्चाई- कुछ लोगों का यह भी मानना होता है कि लेजर हेयर रिमूवल करवाने के बाद जब बाल आते हैं तो वह अधिक घने होते हैं और वह बार-बार बढ़ते हैं। लेकिन, लेजर हेयर रिमूवल से बाल घने नहीं होते हैं। प्रत्येक उपचार से बालों के विकास में 10 प्रतिशत से 25 प्रतिशत की कमी आती है। लगातार सत्रों में बालों की डेंसिटी, थिकनेक और ग्रोथ रेट में कमी दिखाई देती है। इतना ही नहीं, रिमूवल प्रोसेस के बाद बाल जो वापस बढ़ते हैं, वे आमतौर पर पहले की तुलना में बहुत महीन और हल्के होते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें- DIY: बालों के दोमुंहें होने की समस्या से परेशान हैं, तो लौकी का होममेड हेयर मास्क करें ट्राई

मिथक 5- एक सिटिंग में परमानेंट हेयर्स को हटाया जा सकता है।

inside  hair care tips

सच्चाई- लेजर हेयर रिमूवल केवल एक ही सिटिंग में पूरी तरह से प्रभावी नहीं होता है। लेजर एनर्जी बालों के ग्रोइंग फेज़ को डैमेज पहुंचाती है। ऐसे में आपको एक्टिव ग्रोथ फेज से पूरी तरह बाल हटाने के लिए आपको कई सीटिंग की आवश्यकता होगी। प्रत्येक ट्रीटमेंट के लगभग 6-10 सप्ताह बाद आपको एक एडिशनल ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। इस प्रक्रिया के लिए लगभग 6 से 8 सत्रों की सिफारिश की जाती है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image credit-freepik.com