हमारी दादी-नानी के जमाने में बाजार में बहुत सारे ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स नहीं आते थे। उन दिनों कुदरती चीजों से ही महिलाएं अपनी सुंदरता को संवारती थीं। बालों के लिए भी देसी चीजों का इस्तेमाल किया जाता था। अमूमन महिलाएं बालों में तब सरसों का तेल लगाया करती थीं। आज के समय में सरसों का तेल आमतौर पर केवल खाना बनाने में ही इस्तेमाल किया जाता है। मगर यह तेल आज के समय में भी बालों के लिए उतना ही लाभदायक है, जितना पहले हुआ करता था। 

अगर आप भी सरसों का तेल बालों में लगा कर उसके फायदे उठाना चाहती हैं, तो आपको इसे इस्तेमाल करने की सही विधि जरूर पता होनी चहिए। इस बारे में हमारी बात ब्‍यूटी एक्‍सपर्ट पूनम चुघ से हुई। वह कहती हैं, 'सरसों के तेल का सबसे अच्छा गुण होता है कि वह बालों में मेलेनिन प्रोडक्शन को बूस्ट करता है। इसके अलावा सरसों के तेल में वह सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी बालों को जरूरत होती है।'

तो चलिए पूनम जी से जानते हैं कि बालों में सरसों का तेल कैसे लगाया जाए- 

इसे जरूर पढ़ें: Expert Tips: बालों को असमय सफ़ेद होने से बचा सकते हैं ये घरेलू नुस्खे

mustard  oil  for  hair  conditioning

सरसों के तेल में पोषक तत्व 

  • सरसों के तेल में सेलेनियम होता है।  
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड भी सरसों के तेल में होता है। 
  • विटामिन-बी3 की भी अच्‍छी मात्रा सरसों के तेल में पाई जाती है। 
  • सरसों के तेल में प्रोटीन होता है। 
  • सरसों के तेल में मैग्नीशियम, कैल्शियम और जिंक जैसे मिनरल भी पाय जाते हैं। 

सरसों के तेल के फायदे 

  • एनसीबीआई की एक रिसर्च रिपोर्ट में यह पाया गया है कि बालों में सरसों का तेल लगाने से उनके झड़ने की समस्या में थोड़ी कमी आ जाती है।  इसका सबसे बड़ा कारण यह होता है कि सरसों का तेल स्कैल्प में ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है। 
  • बाल यदि बहुत अधिक रूखे हैं तो आपको सरसों का तेल जरूर लगाना चाहिए। सरसों के तेल में कंडीशनिंग प्रॉपर्टीज होती हैं। यह बालों को मुलायम और चमकदार बनाती हैं। पूनम जी कहती हैं, 'बाल अगर पहले से ऑयली हैं तो सरसों के तेल में नींबू का रस मिक्स करके लगाएं।'
  • अगर आपको दो मुंहे बालों की समस्या है तो सरसों का तेल बालों में लगाने से उसमें भी राहत मिलेगी। 
 
mustard  oil  on  hair  side  effects

कैसे करें सरसों के तेल का इस्तेमाल 

  • सरसों का तेल हमेशा आपको हल्का गुनगुना करके ही बालों में लगाना चाहिए। इस बारे में पूनम जी कहती हैं, 'सरसों का तेल गाढ़ा होता है और गुनगुना करने से उसकी थिकनेस कम हो जाती है, साथ ही गुनगुने सरसों के तेल से हेड मसाज करने पर ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है।'
  • अगर आपके बाल ऑयली हैं, तो सरसों का तेल डायरेक्‍ट बालों में न लगाएं। बल्कि इसके स्थान पर आपको एक स्प्रे बॉटल में आधा पानी और आधा सरसों का तेल मिक्स कर लेना चाहिए। फिर इस मिश्रण को गीले बालों में लगाएं। 
  • सरसों का तेल लगाने के बाद आप हॉट टॉवल हेयर ट्रीटमेंट भी ले सकती हैं। इससे तेल अच्‍छे से जड़ों तक पहुंच जाएगा। आपको केवल 5 मिनट के लिए ही टॉवल से बालों को रैप करना है। 
  • सरसों का तेल आपको बालों में 1 घंटे से ज्यादा नहीं रखना चाहिए। पूनम जी कहती हैं, 'अगर आपको हाइपर टेंशन या हाई बीपी की समस्‍या है, तो सरसों के तेल की तेज महक आपको परेशान कर सकती है। इसलिए बहुत थोड़ी सी मात्रा में और केवल 30 से 60 मिनट के लिए ही इसे बालों में लगाएं।'
  • सरसों का तेल बालों में लगाने के बाद आपको बालों को कम से कम 2 बार शैंपू से वॉश करना चाहिए। यह तेल गाढ़ा होता है इसलिए एक बार हेड वॉश करने से इसकी चिकनाई नहीं निकलती है। 

ये सावधानियां जरूर बरतें 

  • यदि आपको स्कैल्प पर मुंहासे की समस्या है, तो सरसों का तेल भूल से भी न लगाएं। यह तेल गर्म होता है और इससे मुंहासे की समस्या बढ़ सकती है।  
  • बालों में अगर कोई केमिकल ट्रीटमेंट लिया है, तो आपको सरसों का तेल तब ही लगाना चाहिए जब आप दोबारा टचअप कराने जा रही हों। 

Recommended Video


नोट- अगर आपको सरसों का तेल बालों में लगाने से स्कैल्प में जलन या खुजली की समस्या हो रही है, तो समझ जाएं कि आपकी त्वचा सेंसिटिव है। आपको बिना डर्मेटोलॉजिस्‍ट की सलाह के इस तेल का दोबारा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 


सरसों के तेल से जुड़ी यह जानकारी आपको पसंद आई हो, तो इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी ब्‍यूटी हैक्‍स जानने के लिए पढ़ती रहें हरजिंदगी। 

Image Credit: Freepik