ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज होना काफी आम समस्‍या है जिसका ज्‍यादातर महिलाएं सामना करती हैं। गर्मियों में या मौसमी एलर्जी के कारण यह समस्‍या ज्‍यादा परेशान करने लगती हैं। रैशज के कारण महिलाओं को ब्रा पहनने में दिक्कत महसूस होती है और इससे होने वाली खुजली और जलन रोजमर्रा के काम पर भी असर डालने लगती है। 

क्‍या आप भी इस समस्‍या से परेशान हैं? क्‍या आप इससे छुटकारा पाने के लिए किसी घरेलू नुस्‍खे की तलाश में हैं? तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें। आज हम आपको इन्‍हीं रैशेज से छुटकारा पाने के असरदार घरेलू नुस्‍खों के बारे में बता रहे हैं। लेकिन सबसे पहले इसके कारणों के बारे में जान लेते हैं।

ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज होने के कारण

अगर आपको अपनी ब्रेस्‍ट के नीचे की त्वचा में जलन या रेडनेस दिखाई देती है, तो संभवतः यह रैशेज के कारण हैं। हालांकि कई कारक ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज को पैदा कर सकते हैं लेकिन सबसे आम कारणों में से एक हीट रैश है। अन्य कारणों में इंफेक्‍शन्‍स, एलर्जी, ऑटोइम्यून विकार आदि हो सकते हैं। यदि आपके लक्षण किसी भी गंभीर मेडिकल कंडीशन के समान हैं, तो किसी भी जटिलताओं को दूर करने के लिए तुरंत डॉक्‍टर से बात करें। लेकिन अगर रैशेज माइक्रोबियल संक्रमण या एलर्जी के कारण होते हैं, तो इस आर्टिकल में कुछ अद्भुत घरेलू नुस्‍खे दिए गए हैं जो आपकी मदद करेंगे।

ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज से छुटकारा दिलाने वाले घरेलू नुस्‍खे

नारियल का तेल

coconut  oil for rashes under breast inside

नारियल तेल की एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुणों से ब्रेस्‍ट के नीचे होने वाले चकत्तों से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। कैंडिडा के खिलाफ नारियल के तेल के एंटी-माइक्रोबियल गुण का इस्‍तेमाल खमीर संक्रमण के इलाज के लिए किया जा सकता है जो चकत्ते पैदा कर सकता है।

सामग्री

  • नारियल का तेल- 1-2 चम्मच

इस्‍तेमाल का तरीका

  • वर्जिन नारियल तेल को अपनी हथेलियों में रगड़ें और रैशेज पर त्‍वचा पर लगाएं।
  • इसे सूखने तक लगा रहने दें।
  • इसका इस्‍तेमाल आप रोजाना 1-2 बार कर सकती हैं।

एलोवेरा

aloe vera for rashes under breast isnide

एलोवेरा अर्क में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण का उपयोग ब्रेस्‍ट के नीचे चकत्ते से जुड़ी खुजली और सूजन को कम करने में किया जा सकता है।

सामग्री

  • एलोवेरा जैल- आवश्‍यकतानुसार

इस्‍तेमाल का तरीका

  • एलोवेरा की एक पत्ती से जैल निकालें।
  • एक कांटा का उपयोग करके जैल को अच्‍छी तरह से मिक्‍स करें।
  • इसे समस्‍या वाली त्‍वचा पर लगाएं। 
  • इसे 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे पानी से धो लें।
  • ऐसा आप रोजाना 1-2 बार कर सकती हैं।

एप्पल साइडर विनेगर

vinegar for rashes under breast inside

एप्पल साइडर विनेगर में एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है जो कैंडिडा समेत कई सूक्ष्म जीवों के खिलाफ प्रभावी ढंग से काम करता है। अगर आपकी ब्रेस्‍ट के नीचे चकत्ते खमीर इंफेक्‍शन के कारण हैं तो यह उपाय उपयोगी हो सकता है। 

सामग्री

  • ऑर्गेनिक एप्पल साइडर विनेगर- 1-2 बड़े चम्मच 
  • पानी- ½ कप
  • कॉटन बॉल्‍स

इस्‍तेमाल का तरीका

  • आधा कप पानी में एक से दो बड़े चम्मच कच्चा एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं।
  • अच्छी तरह मिलाएं और इसमें एक कॉटन बॉल भिगो दें।
  • इस मिश्रण को प्रभावित त्‍वचा पर लगाएं और सूखने दें।
  • फिर इसे पानी से साफ कर लें। 
  • इसका इस्‍तेमाल आप रोजाना कई बार कर सकती हैं।

हल्दी

turmeric for rashes under breast inside

आपकी किचन में मौजूद हल्‍दी भी रैशेज को दूर करने में बहुत मददगार होती है। इसका प्रमुख घटक करक्यूमिन है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो ब्रेस्‍ट के नीचे होने वाले रैशेज के इलाज में मदद करते हैं।

सामग्री

  • हल्दी पाउडर- 1-2 चम्मच 
  • पानी (आवश्यकतानुसार)

इस्‍तेमाल का तरीका

  • पानी की कुछ बूंदों के साथ एक से दो चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं।
  • इसका गाढ़ा पेस्ट बनाने के लिए अच्छी तरह मिलाएं।
  • रैशेज वाली त्‍वचा पर पेस्ट को लगाएं और इसे 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसे पानी से साफ कर लें। 
  • आप इसका इस्‍तेमाल रोजाना या हर दूसरे दिन में एक बार कर सकती हैं।

टी ट्री एसेंशियल ऑयल

tea tree oil for rashes under breast inside

टी ट्री एसेंशियल ऑयल में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण इंफेक्‍शन पैदा करने वाले रोगाणुओं को समाप्त करने में मदद करता है। साथ ही यह सूजन और खुजली को कम करके ब्रेस्‍ट के नीचे चकत्ते से छुटकारा पाने में मदद करते हैं।

सामग्री

  • टी ट्री एसेंशियल ऑयल- 2-3 बूंदें
  • नारियल या जैतून का तेल- 2-3 चम्मच

इस्‍तेमाल का तरीका

  • नारियल या जैतून के तेल में से अपनी पसंद के तेल में टी ट्री ऑयल को मिलाएं।
  • अच्छी तरह से मिक्‍स करके समस्‍या वाली त्‍वचा पर इसे लगाएं। 
  • इसे रात-भर ऐसे ही लगा रहने दें और अगले दिन सुबह इसे साफ कर लें। 
  • इसका इस्‍तेमाल आप रोजाना एक बार कर सकती हैं। 

इन घरेलू नुस्‍खों से ब्रेस्‍ट के नीचे जिद्दी चकत्ते को दूर करने के अलावा आप कुछ फायदेमंद टिप्‍स को आजमा सकती हैं जो चकत्ते को दोबारा होने से रोक सकते हैं।

Recommended Video

 

ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज को होने से कैसे रोकें?

rashes under breast inside

  • रैशेज वाली त्‍वचा को रोजाना एंटी-बैक्‍टीरियल साबुन और पानी से साफ करें।
  • केवल खुशबू रहित मॉइश्चराइजर का इस्‍तेमाल करें।
  • रैशेज वाली त्‍वचा को खरोंचने से बचें।
  • मुलायम कपड़े पहनें जिससे आपकी त्वचा में जलन न हो।
  • पसीने से तर कपड़े तुरंत बदलें।
  • एक्‍स्‍ट्रा पसीना सोखने के लिए ब्रा लाइनर पहनें।
 

ब्रेस्‍ट के नीचे रैशेज से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए इन घरेलू नुस्‍खों और टिप्‍स के कॉम्बिनेशन को आजमाएं। अगर उपचार के बावजूद आपके लक्षणों में कोई सुधार नहीं दिखता है, तो चकत्ते के मूल कारण का पता लगाने के लिए जल्द से जल्द स्किन स्‍पेशलिस्‍ट से संपर्क करें। इस तरह के और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image Credit: Freepik.com