कहते हैं हमारा चेहरा हमारी शख्सियत का आईना होता है। किसी की स्किन पर अगर कोई चोट लग गई है या एक्ने के बड़े निशान हो गए हैं तो उनकी केयर करना थोड़ा मुश्किल काम हो सकता है। चोट के निशान हों या फिर बड़े एक्ने के निशान दोनों की ही स्किन केयर बहुत मुश्किल होती है और ऐसी स्किन पर आप हर तरीका आजमा नहीं सकते हैं। ऐसी स्किन वालों को अपना ध्यान रखना चाहिए और उन्हें हर स्टेप स्किन केयर एक्सपर्ट की देखरेख में लेना चाहिए। 

अगर आपकी स्किन भी ऐसी है तो हो सकता है आपके मन में इसे लेकर कई सवाल हों। हमने ब्यूटी एक्सपर्ट शहनाज़ हुसैन से इसके बारे में चर्चा की और स्किन केयर को लेकर कुछ बेसिक सवालों के जवाब जुटाने की कोशिश की। एक्ने के निशान, चोट के निशान, केलॉइड्स आदि की समस्या बहुत से लोगों को होती है और उन्हें अपनी स्किन के लिए क्या करना चाहिए ये जान लीजिए। 

पहला सवाल: चोट, बड़े एक्ने के निशान आदि के लिए स्किन केयर कैसे की जाए?

जवाब: 

स्किन पर निशान, झाइयां, चोट के मार्क आदि कई कारणों से हो सकते हैं जैसे एक्ने, चोट, स्किन का जलना आदि। आपकी स्किन केयर इस बात पर निर्भर करती है कि आपकी स्किन पर कैसी इंजुरी हुई है। जहां तक स्किन केयर की बात है तो आपको ये सोचना चाहिए कि पहले आपकी स्किन ठीक हो जाए और चोट पूरी तरह से हील हो जाए तब ही आप स्किन केयर शुरू करें। जब स्किन ठीक हो रही होती है तब चोट के साथ एक्स्ट्रा स्कार टिशू (निशान पैदा करने वाला टिशू) आ जाता है जिसे केलॉइड कहते हैं। इसलिए आपकी स्किन केयर कई फैक्टर्स पर निर्भर करती है। एक बार जब चोट ठीक हो गई हो तो स्किन केयर करें। 

अगर चोट के गहरे निशान हैं तो माइक्रोडर्माब्रेसन (microdermabrasion) और केमिकल पीलिंग एक ऑप्शन हो सकते हैं। क्योंकि केमिकल पीलिंग में कई रिस्क होते हैं इसलिए मैं वेज पीलिंग की सलाह ही दूंगी। ये एक तरह का क्लीनिकल ट्रीटमेंट होता है। 

अगर घर में करनी है वेज पीलिंग तो क्या करें?

अगर घर पर आपको वेज पीलिंग करनी है तो आप 3 चम्मच शहनाज़ वेज पील पाउडर या फिर डर्माब्रेसिव पाउडर लें। इसे 1 अंडे के साथ मिलाएं और अपने चेहरे पर लगाएं। जब ये सूख जाए तो पानी से इसे गीला करें और हल्के हाथों से अपने चेहरे को रगड़ें। इसे पहले क्लॉकवाइज और फिर एंटी क्लॉकवाइज मूवमेंट्स में रब करें और फिर पानी से धो लें। इसके बाद चेहरे पर Shaclove लगाएं और फिर 15 मिनट के बाद धो दें। इस ट्रीटमेंट को आप हफ्ते में एक बार कर सकते हैं। 

skin scar treatment shahnaz

इसे जरूर पढ़ें- सरसों के तेल से जुड़ा ये हैक करेगा बालों का झड़ना कम, जानें कैसे

दूसरा सवाल: चोट या एक्ने के निशानों के लिए DIY हैक्स क्या होंगे?

जवाब: 

अगर आप चोट के पूरी तरह से ठीक हो जाने के बाद होम रेमेडीज का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो फेशियल स्क्रब का इस्तेमाल करें जिससे चोट के निशान कम हों।  

कैसे बनाएं होम मेड स्क्रब? 

आप चावल के आटे को दही के साथ मिक्स करें और इसमें चुटकी भर हल्दी डालें। इसे फेस स्क्रब की तरह हफ्ते में 1 या 2 बार इस्तेमाल करें। इसे सिर्फ निशानों पर ही लगाएं और स्किन को हल्के हाथों से सर्कुलर मूवमेंट्स में रब करें। इसे थोड़ी देर के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर पानी से धो लें।  

आब नींबू के रस और शहद को एक बराबर मात्रा में मिलाकर इसे हर रोज़ अपने चोट के निशानों में लगा सकते हैं। इसे लगाकर 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर सादे पानी से धो लें। इस फेस मास्क को हफ्ते में दो बार लगाएं।  

2 चम्मच आटे का चोकर और 1 चम्मच ओट्स और 1 छोटा चम्मच शहद, दही और नींबू का रस या अंडे की जर्दी लेकर इसे मिलाएं। इसे अपने पूरे चेहरे पर लगाएं (होंठ और आंखों के आस-पास का एरिया छोड़कर) और आधे घंटे बाद इसे धो लें।  

Recommended Video

तीसरा सवाल: काले धब्बों के लिए सबसे अच्छा उपाय क्या है? 

जवाब: 

अगर आपके चेहरे पर काले धब्बे हैं तो आपको बाहर निकलने के पहले हमेशा सनस्क्रीन लगानी चाहिए। अगर आप सूरज में 1 घंटे से ज्यादा रह रहे हैं तो सनस्क्रीन दोबारा लगाएं। आप पिसे बादाम को दही और चुटकी भर हल्दी के साथ मिलकर हफ्ते में दो बार फेशियल स्क्रब कर सकते हैं। इसे अपनी स्किन में लगाकर धीमे-धीमे सर्कुलर मोशन में मसाज करें। खासतौर पर उस जगह पर जहां काले धब्बे ज्यादा हैं। इसे कुछ समय के लिए ऐसे ही छोड़ दें और फिर पानी से धो दें। 

 इसके अलावा, दो चम्मच दही और थोड़ी सी हल्दी लेकर चेहरे के काले धब्बे जहां हैं वहां लगाएं और 20 मिनट बाद इसे पानी से धो दें।  

skin injury treatment shahnaz

इसे जरूर पढ़ें-  बालों की कई समस्याओं से निजात पाने के लिए आजमाएं शहनाज़ हुसैन के ये टिप्स  

चौथा सवाल: कौन सा बेसिक स्किन केयर रूटीन फॉलो करना चाहिए? 

जवाब:  

आपके रोज़ाना के स्किन केयर रूटीन में क्लींजिंग, एक्सफोलिएशन (स्क्रब्स का इस्तेमाल), टोनिंग, मॉइश्चराइजिंग, नरिशिंग और मास्क्स का इस्तेमाल शामिल होना चाहिए। स्किन केयर हमेशा स्किन टाइप के हिसाब से होनी चाहिए। क्लींजिंग से मिट्टी, पॉल्यूटेंट्स, पसीना, तेल, डेड स्किन सेल्स और मेकअप आदि निकल जाते हैं। अगर आप साबुन का इस्तेमाल करते हैं तो दिन में सिर्फ दो बार ही अपना चेहरा धोएं। ड्राई स्किन वालों को क्लींजिंग क्रीम या जेल की जरूरत होती है। ऑयली स्किन वालों के लिए फेस वॉश, हल्के क्लीजिंग मिल्क या लोशन बेहतर होते हैं। पिंपल वाली स्किन के लिए मेडिकेटेड क्लींजर बेहतर होता है।  

एक्सफोलिएशन डीप पोर क्लींजिंग का एक तरीका है जिससे डेड स्किन सेल्स निकल जाते हैं। ये फेशियल स्क्रब्स की मदद से होता है। ड्राई स्किन वाले लोग हफ्ते में सिर्फ एक बार ही स्क्रब का इस्तेमाल करें जब्कि बिना पिंपल्स वाली ऑयली स्किन में हफ्ते में दो या तीन बार स्क्रब का इस्तेमाल किया जा सकता है। स्क्रब को हल्के हाथों से चेहरे पर लगाना चाहिए और फिर सर्कुलर मोशन में मसाज करनी चाहिए। इसके बाद इसे पानी से धो लेना चाहिए।  

स्किन टोनिंग क्लींजिंग के बाद की जाती है। इससे स्किन सरफेस का बल्ड सर्कुलेशन ठीक होता है, पोर्स छोटे होते हैं और स्किन ताज़ा लगती है। गुलाबजल सबसे अच्छा नेचुरल स्किन टोनर होता है। क्लींजिंग के लिए रुई का इस्तेमाल करें जिसे ठंडे स्किन टॉनिक या फिर गुलाब जल में डुबाया हुआ हो। इसके बाद स्किन पर पैट कर इसे कॉटन से पोंछें।  

स्किन केयर का एक सबसे जरूरी हिस्सा होता है सूरज से बचाव। ज्यादातर सनस्क्रीन बिल्ट इन मॉइश्चराइजर्स के साथ आती हैं। अधिकतर स्किन में SPF 20 या 25 तक सनस्क्रीन का इस्तेमाल किया जा सकता है। सेंसिटिव स्किन जो जल्दी लाल हो जाती है या फिर जल जाती है उसे SPF 40 या उससे अधिक की जरूरत होती है। ऑयली स्किन के लिए SPF 20 वाल सनस्क्रीन जेल भी काम कर सकता है।  

स्किन के लिए मॉइश्चर बहुत जरूरी होता है और मॉइश्चराइजर्स दोनों जेल और क्रीम फॉर्म में उपलब्ध होते हैं। ड्राई स्किन वालों को मेकअप के अंदर भी मॉइश्चराइजर्स लगाना चाहिए। ऑयली स्किन वालों को मॉइश्चराइजर्स की जरूरत सिर्फ ठंड के मौसम में पड़ती है। ऑयली स्किन वालों को नॉन ऑयली प्रोडक्ट्स का ही इस्तेमाल करना चाहिए।  

नार्मल से लेकर ड्राई स्किन तक को नॉरिशिंग की जरूरत ज्यादा होती है। इससे स्किन लुब्रिकेट होती है और सॉफ्ट भी होती है जिससे मॉइश्चर स्किन में रिटेन किया जा सकता है। रात में स्किन क्लींजिंग के बाद मॉइश्चराइजिंग क्रीम लगाकर मसाज करनी चाहिए। ये मसाज 2-3 मिनट तक आउटवर्ड और अपवर्ड मोशन में करनी चाहिए। इसे सोने से पहले रूई से पोंछ देना चाहिए।  

मास्क स्किन केयर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं क्योंकि ये स्किन के कई फंक्शन्स परफॉर्म करते हैं। रेगुलर मास्क लगाने से स्किन अच्छी कंडीशन में रहती है, इसमें ग्लो रहता है और स्किन टाइट बनी रहती है। इससे स्किन रिनिवल प्रोसेस भी सही होता है और बढ़ती उम्र के कई लक्षण दिखने कम होते हैं। इसे चेहरे पर लगाएं (होंठों और आंखों के आस-पास का एरिया छोड़कर) और फिर सूखने के बाद पानी से धो दें। जो भी मास्क इस्तेमाल कर रहे हों उसके हिसाब से उसे लगाने और धोने का तरीका अलग हो सकता है।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।