स्‍वयं के लिए आनंद को खोजना और शांतिपूर्ण प्रकृति के साथ मिलाना, मसाज वह है जो आपको चाहिए। मसाज थेरेपी में एक बेहतर अनुभव के लिए जड़ी-बूटियों और तेलों का इस्‍तेमाल किया जाता है। यह आपके तनाव को दूर रखते हुए, आपको अपनी आंतरिक शांति खोजने में मदद करता है। इसके साथ ही मसाज करने से शरीर का सर्कुलेशन अच्‍छा होता है और चेहरे पर ग्‍लो आता है। इस बारे में हमने डॉ गौरव गुप्ता, बीएएमएस, बिड़ला आयुर्वेद से बात की जिन्होंने हमें विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक मसाज और उनके फायदो के बारे में विस्‍तार से बताया

डॉ गौरव गुप्ता जी का कहना है, ''आयुर्वेद, प्रकृति और देसी तेलों के साथ शांति से शरीर के दोषों में सुधार करता है और 5000 से अधिक वर्षों से आंतरिक सामंजस्य स्थापित कर रहा है। आपके सिर से बहने वाले सुगंधित तेल आपको दुनिया के प्रेशर और संकटों से दूर ले जाते हैं और इसे पूरी तरह से रोकते हैं।

ayurvedic massage benefits

अभ्यंग आयुर्वेदिक मसाज

यह पूरे शरीर की मसाज का एक हिस्सा है जो रोगी की चिकित्सा स्थिति के अनुसार दोषों में औषधीय गर्म हर्बल तेल के साथ किया जाता है। मसाज की प्रक्रिया के दौरान, एक अलग प्रेशर पॉइंट पर दबाव डाला जाता है जो एनर्जी को उत्तेजित करता है। यह थेरेपी शरीर के अंदर मौजूद विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करती है और शरीर के ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार करती है।

इसे जरूर पढ़ें: इस आयुर्वेदिक तरीके से करेंगी मसाज तो तेजी से बढ़ेंगे बाल

मसाज के फायदे

  • यह मसाज नसों को शांत करती है।
  • शरीर से अशुद्धियों और विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करती है।
  • इस मसाज से मसल्‍स, जोड़ और हड्डियां मजबूत होती हैं।
  • बेहतर और गहरी नींद लाने में मदद करती है। 
  • पूरे शरीर को पोषण देती है।
  • सर्कुलेशन बढ़ाती है।
  • सहनशक्ति बढ़ाती है।

शिरोधारा आयुर्वेदिक मसाज

इस मसाज में सिर में नसों को मज़बूत करने के लिएस्‍कैल्‍प पर नेचुरल या sedated तेल की एक सुसंगत धारा डाली जाती है। जी हां शिरोधारा में आयुर्वेदिक हर्ब्‍स से बने हुए खास तरह के तेल के उपयोग से थेरेपी की जाती है। इसमें दूध, ऑयल या मक्खन जैसे लिक्विड का इस्‍तेमाल किया जाता है। लिक्विड में कई प्रकार की हर्ब्‍स को मिलाकर दवा अथवा औषधि का रूप दिया जाता है।

मसाज के फायदे

  • यह सिरदर्द से राहत दिलाती है।
  • यह स्पष्टता और फोकस को बढ़ाती है।
  • यह मानसिक थकान को दूर करती है।
  • तनाव और डिप्रेशन की समस्‍या में यह बेहद फायदेमंद होती है।
Shirodhara

पिज्हिचिल आयुर्वेदिक मसाज

यह मसाज का एक हिस्सा है जिसमें सप्‍लीमेंट के रूप में गर्म तेल का उपयोग किया जाता है। मसाज की इस प्रक्रिया में औषधीय तेल शरीर में डाला जाता है। तेल और मसाज मूल रूप से गर्मी उत्पन्न करते हैं जिससे पसीना आता है जो वात दोष स्थिरता के लिए आवश्यक है।

मसाज के फायदे

  • यह जोड़ों के दर्द को दूर करने में मदद करता है।
  • यह डाइजेशन में सुधार करता है।
  • यह न्यूरोलॉजिकल स्थितियों में सुधार करने में मदद करता है, विशेष रूप से पैरालिसिस, जिसमें पैरापलेजिया, हेमिप्लेजिया और मोनोप्लेजिया शामिल हैं।
  • यह उन लोगों के लिए उपयुक्त है जो दर्दनाक स्थितियों और चोटों से पीड़ित हैं।

Recommended Video

गरशन आयुर्वेदिक मसाज

यह मसाज केवल सिल्‍क दस्‍ताने की विधि से की जाती है। यह पूरे शरीर में एक साथ किया जाता है।

मसाज के फायदे

  • यह लसीका प्रणाली को उत्तेजित करता है जो विषाक्त पदार्थों को समाप्त करता है।
  • यह शरीर में फैट सेल्‍स को तोड़ता है।
  • यह त्वचा को एक्सफोलिएट करता है और इसे क्‍लीन और ग्‍लोइंग बनाता है।
Pizhichil massage

उद्वर्तन आयुर्वेदिक मसाज

इस थेरेपी में मसाज पाउडर के रूप में की जाती है। आयुर्वेदिक पाउडर मसाज कफ को सुखाने में मदद करती है जो भारी और नम होती है।

इसे जरूर पढ़ें: गुआ शा थेरेपी से त्वचा की हर बड़ी समस्या को करें दूर

मसाज के फायदे

  • यह ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देने और विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मदद करता है।
  • यह वजन घटाने और शरीर में अतिरिक्त कफ दोष को दूर करने में मदद करता है।
  • यह मसल्‍स की टोन में सुधार करता है।
  • यह त्वचा को गहराई से एक्सफोलिएट करता है।
  • यह जोड़ों को गतिशीलता भी देता है।

मसाज आयुर्वेद चक्रों को पुन: व्यवस्थित करके शरीर में संतुलन और समता प्राप्त करने का प्रयास करती है। पूरे शरीर की आयुर्वेद मसाज के लिए लगभग 60 मिनट की आवश्यकता होती है। सिर और शरीर के लिए अलग-अलग तेलों का उपयोग किया जाता है। दोनों मूल रूप से निर्मित आयुर्वेदिक मसाज ऑयल हैं।

अगर आपको यह लेख पढ़ना पसंद आया तो अधिक जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।

Image Credit: Shutterstock.com