जब हम घर में होते हैं तो घर के कुछ रूल्‍स को फॉलो करते हैं, ऑफिस में होते है तो वहां के नियम कायदों को याद रखते हैं यहां तक की ड्राइव कर रहे होते हैं तो ट्रैफिक के नियमों को ध्‍यान रखते हैं मगर जब हम ट्रेन, प्‍लेन, मैट्रो ट्रेन या बस में सफर करते हैं तो न जाने हमारे एटीकेट्स कहा चले जाते हैं। हम जैसे घर या ऑफिस में होते हैं वैसे हम ट्रैवल के दौरान नहीं होते हैं। अगर इसके लिए लापरवाह शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जाए तो गलत नहीं होगा। जी हां, ट्रैवल के दौरान हम सब लापरवाह और बेफिक्र हो जाते हैं। साथ में यात्रा कर रहे यात्रियों की सुविधा और परेशानी का हमें बिलकुल ध्‍यान नहीं होता क्‍योंकि उनसे हम रोज नहीं मिलने वाले होते। इसलिए ट्रैवल के दौरान जैसे खुद को सुविधा और आसानी होती है हम वैसा ही करते हैं। मगर क्‍या आप जानती हैं कि इससे आपके साथी यात्रियों के सामने आपकी कैसी इमेज बनती है? हो सकता है कि आप यह सोच कर इस बात का ख्‍याल मन में न लाएं कि, ' बाद में कौन मिलता है?' मगर सफर के दौरान 1 घंटे के साथ में ही साथी यात्री आपकी हरकतों से आपकी खराब इमेज बना लेता हैं और भविष्‍य में यदि वे आपसे टकरा जाए या उस वक्‍त वे आपको कुछ कह दे तो, सोचिए सिचुएशन कितनी एंबैरसिगं हो जाएगी। इस लिए अगली बार सफर करें तो हमारे बताए हुए इन ट्रैवल एटीकेट्स जरूर ध्‍यान रखें। 

Read More: ये 5 तरीके अपना कर travel के दौरान आप भी कमा सकती हैं पैसा

must learn these nine travel etiquettes ()

लगेज मैनेजमेंट 

ट्रैवल के दौरान अपने लगेज को लेकर एलर्ट रहने में कोई बुराई नहीं है। मगर अपनी एलर्टनेस के चक्‍कर में यदि आप किसी दूसरे यात्री को उसका लगेज रखने की स्‍पेस न दें तो, यह सही बात नहीं है। ट्रैवल आपको और आपके साथी यात्री दोनों को करना है। ऐसे में सारी जगह पर अपना सामान फैला कर रखने से दूसरे यात्रियों को दिक्‍कत होगी। इसलिए अपना सामान अच्‍छे से मैनेज करें और दूसरों को उनका सामान रखने की जगह दें। 

Read More: दिल्‍ली मेट्रों की पिंक लाइन की ये खासियतें सफर को कर देंगी और भी आसान

तेज बात या म्‍यूजिक न सुनें

अगर ट्रैवल के दौरान आपको म्‍यूजिक सुनना पसंद है तो इसमें कोई बुराई नहीं है। मगर इस बात का ध्‍यान रखें कि म्‍यूजिक सिर्फ आपके कानों तक ही सुनाई दे। कई लोगों की आदत होती है कि वे बिना हेडफोन्‍स के ही म्‍यूजिक सुनने लगते हैं। मगर इससे दूसरे ट्रैवलर्स को परेशानी होती है। इसलिए जब ट्रैवल पर निकलें तो हेडफोन्‍स जरूर रख लें। 

must learn these nine travel etiquettes ()

बच्‍चों को संभालें

बच्‍चों के साथ ट्रैवल करना बहुत ही मुश्किल काम होता है। दरअसल बच्‍चे एक जगह स्थिर होकर नहीं बैठ सकते। इससे भी बड़ी बात यह है कि बच्‍चों को जगह कोई भी अपने मतलब का खेल मिल ही जाता है। कई बार खेल खेल में ही बच्‍चे साथी यात्रियों को भी परेशान करने लगते हैं। ऐसे में यह आपका काम है कि आप अपने बच्‍चे को संभालें और दूसरे यात्रियों को परेशान न होने दें। 

गंदगी न फैलाएं

ट्रैवल के दौरान अगर आपकी आदत गंदगी फैलाने की है तो इसे सुधार लें। क्‍योंकि इससे आपके साथ ट्रैवल कर रहे दूसरे लोगों को परेशानी हो सकती है। दरअसल कुछ लोगों की आदत होती है कि यात्रा के दौराना भूख लगने पर वह खाना खाते हैं और उससे मची गंदगी को वैसा ही छोड़ देते हैं। मगर यह गलत आदत है। पहली बात तो यात्रा के दौरान अगर आप कुछ भी खा रही हैं तो इस बात का ध्‍यान रखिए कि खाना गिरे नहीं अगर गिर भी गया है तो खाने के बाद आप उस जगह को साफ कर दें। 

must learn these nine travel etiquettes ()

नींद पर कंट्रोल रखें

सोते वक्‍त बगल वाली सीट पर बैठे पैसेंजर पर गिरते हुए लोगों को आपने खूब देखा होगा, मगर आप भी अगर ऐसे लोगों में हैं तो इस आदत को जल्‍द से जल्‍द सुधार लें क्‍योंकि यह न केवल बगल में बैठ पैसेंजर के लिए असुविधाजनक होता है बल्कि कॉशियस होने पर आपको भी यह सोच कर बुरा लगेगा कि आप सोते वक्‍त किसी और पर गिर गईं थी। यात्रा के दौरान नींद आए तब भी इस बात का ख्‍याल जरूर रखें कि आपके बगल वाले को कोई दिक्‍कत न हो। या फिर खुद को किसी काम में उलाझा कर रखें ताकि आपको नींद ही न आए। 

साथी यात्रियों से अच्‍छे से पेश आएं

हो सकता है कि आपको सामने बैठे साथ यात्री का चेहरा न पसंद आए या फिर उसकी किसी बात से आपको इरिटेशन हो रहा हो मगर इस इरिटेशन को उस पर जाहिर न होने दें। सफर लंबा हो या छोटा ध्‍यान रखें कि आपका व्‍यवहार आपके साथी यात्रियों के साथ अच्‍छा हो। अगर आपको उनकी किसी बात से परेशानी हो भी रही हो तो उसे तहजीब के साथ उन्‍हें बता दें। ध्‍यान रखिए प्‍यार कही बात जल्‍दी असर करती है। 

जल्‍दीबाजी न दिखाएं 

आपको कहीं पहुंचने की कितनी भी जल्‍दी हो मगर जब आप सफर कर रही हैं तो हर काम आराम से करें। क्‍योंकि आपकी जल्‍दबाजी से आपके साथी पैसेंजर्स को परेशानी हो सकती हैं। अधितकतर चढ़ने उतरने में लोग जल्‍दबाजी दिखाते हैं और इसी में हादसा हो जाता है। आप ऐसा बिलकुल भी न करें क्‍योंकि थोड़ी सी लापरवाही आपको महंगी पड़ सकती है। 

must learn these nine travel etiquettes ()

थोड़ एडजस्‍ट करें

ट्रेन,बस या फिर प्‍लेन सफर किसी भी कर रही हों, उसे अपना घर या पर्सनल प्रॉपर्टी न समझें। कई बार देखा गया है की सीट को लेकर सफर के दौरान लड़ाई हो जाती है। इन लड़ाइयों से बचें। थोड़ा एडजस्‍ट करने से बिगड़ती बात बन जाती है और सफर भी आरम से कट जाता है। 

अपने सामान का ध्‍यान रखें

अगर आपकी आदत है कि सफर में आप दूसरों के भरोसे अपना सामान छोड़ कर इधर उधर चली जाती हैं तो, यह सही नहीं है। सफर के दौरान अपने सामान की जिम्‍मदारी खुद ही लें। अपना सामान दूसरों के भरोसे छोड़ कर जाने से आपका ही नुकसान होगा। क्‍योंकि जितनी हिफाजत से आप अपना सामान रख सकती हैं कोई दूसरा नहीं रख सकता है। 

  • Anuradha Gupta
  • Her Zindagi Editorial